लाइव टीवी

स्पीकर ने कहा कि सत्तापक्ष, विपक्ष के कुछ लोग नहीं जाना चाहते गैरसैंण... विधानसभा सत्र के लिए पर्याप्त सुविधाएं हैं मौजूद

Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: November 21, 2019, 2:23 PM IST
स्पीकर ने कहा कि सत्तापक्ष, विपक्ष के कुछ लोग नहीं जाना चाहते गैरसैंण... विधानसभा सत्र के लिए पर्याप्त सुविधाएं हैं मौजूद
प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि चूंकि इसकी (विधानसभा सत्र की) आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है इसलिए आशा की जा सकती है कि यह सत्र गैरसैंण में ही होगा.

विधानसभा अध्यक्ष (Speaker premchand aggarwal) ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री (CM Trivendra Rawat) से कहा था कि साल में एक सत्र तो गैरसैंण (Gairsain) में आयोजित किया ही जाना चाहिए.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड विधानसभा (Uttarakhand Assembly) के शीतकालीन सत्र (winter session) को लेकर विधानसभा अध्यक्ष और सरकार (government) में ठन सकती है. उत्तराखंड का शीतकालीन सत्र 4 दिसंबर से करवाने का फ़ैसला किया गया है लेकिन अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि यह होगा कहां. हालांकि अटकलें हैं कि यह सत्र देहरादून (dehradun) में ही होगा. विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल (speaker premchand aggarwal) ने गैरसैंण (gairsain) में विधानसभा सत्र न करवाने की बात पर नाराज़ नज़र आए और उन्होंने इसका ठीकरा सत्तापक्ष (ruling party) और विपक्ष के कुछ विधायकों (opposition mla) पर फोड़ा. अग्रवाल ने कहा कि कुछ लोगों को गैरसैंण जाने में तकलीफ़ होती है.

देहरादून में पत्रकारों से बात करते हुए विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि कुछ विधायकों की गैरसैंण जाने की अनिच्छा की वजह से ही सरकार ने सत्र गैरसैंण में करवाने का फैसला लिया होगा. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि चूंकि इसकी आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है इसलिए आशा की जा सकती है कि यह सत्र गैरसैंण में ही होगा.

बता दें कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हाल ही में न्यूज़ 18 को दिए एक इंटरव्यू में कहा था कि गैरसैंण का मामला इमोशनल है और कोई भी फ़ैसला इमोशन्स के आधार पर नहीं लिया जा सकता. उन्होंने व्यवहारिकता के धरातल पर फैसले लेने की बात करते हुए कहा था कि गैरसैंण में आधारभूत ढांचे का विकास किया जा रहा है.

विधानसभा अध्यक्ष ने गैरसैंण में शीतकालीन सत्र आयोजित किए जाने की उम्मीद ज़ाहिर करते हुए कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा था कि साल में एक सत्र तो गैरसैंण में आयोजित किया ही जाना चाहिए. अग्रवाल ने यह भी कहा कि जहां तक आधारभूत ढांचे की बात है तो गैरसैंण में पर्याप्त सुविधाएं (सत्र आयोजित करने के लिहाज से) हैं और यह इस बार पहले से बेहतर ही हैं.

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 2:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...