उत्तराखंड: जिम कॉर्बेट पार्क में रहने वाले वन्यजीव नहीं रहे प्यासे, किए गए विशेष इंतजाम
Dehradun News in Hindi

उत्तराखंड: जिम कॉर्बेट पार्क में रहने वाले वन्यजीव नहीं रहे प्यासे, किए गए विशेष इंतजाम
जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क

उत्तराखंड (Uttrakhand) का कॉर्बेट टाइगर रिजर्व (Corbett Tiger Reserve) वन्यजीवों की आरामगाह है. गर्मियों में वन्यजीव जंगल से बाहर ना आये, इसके लिए कॉर्बेट प्रशासन इनके पानी की व्यवस्था की है.

  • Share this:
रामनगर (उत्तराखंड). उत्तराखंड (Uttrakhand) का कॉर्बेट टाइगर रिजर्व (Corbett Tiger Reserve) वन्यजीवों की आरामगाह है. यहां बड़ी संख्या में वन्यजीव रहते हैं. इसमें बाघ, तेंदुआ और हाथी जैसे वन्यजीवों के साथ ही 4 तरह के हिरनों की प्रजाति, विभिन्न प्रकार के सांप और पक्षी भी शामिल हैं. ऐसे में गर्मियों में इन वन्यजीवों के लिए पानी का संकट भी खड़ा हो जाता है. पानी की तलाश में कई बार यह वन्यजीव आबादी की तरफ भी रुख करने लगते हैं. जिससे मानव-वन्यजीव संघर्ष होने की पूरी संभावनाएं रहती हैं. गर्मियों में वन्यजीव जंगल से बाहर ना आये, इसके लिए कॉर्बेट प्रशासन इनके पानी की व्यवस्था की है. यूं तो कॉर्बेट की लाइफ लाइन रामगंगा में साल भर पानी रहता है. इसके साथ ही कई प्राकृतिक स्रोत ऐसे भी हैं, जिनमे गर्मियों में भी पानी रहता है. लेकिन 1288 किलोमीटर में फैले इस टाइगर रिजर्व के कई क्षेत्र ऐसे भी हैं, जहां गर्मियों में पानी की कमी हो जाती है.


कार्बेट में मौजूद हैं 400 वाटर होल
इस समस्या से निपटने के लिए कॉर्बेट प्रशासन ने यहां करीब 400 वाटर होल बनाये हुए हैं. जिससे इस चिलचिलाती गर्मी में वन्यजीवों को पानी के लिए कहीं भटकना ना पड़े. इन वाटर होल में करीब 200 पक्के वाटर होल हैं. जबकि इतने ही कच्चे वाटर होल बनाये गए हैं. कच्चे वाटर होल में पानी की सप्लाई प्राकृतिक स्रोत से की जाती है. जबकि सीमेंट से बने पक्के वाटर होल मे पानी की सप्लाई टैंकरों के माध्यम से की जाती है. ऐसे में 200 पक्के वाटर होल द्वारा वन्यजीवों को पानी पिलाने में विभाग के भी पसीने छूट जाते हैं.



15 लाख लीटर पानी की हो रही आपूर्ति



कॉर्बेट के निदेशक राहुल के अनुसार, टाइगर रिजर्व के 200 पक्के वाटर होल में एक महीने में करीब 15 लाख लीटर पानी डालना पड़ता है. ताकि वन्यजीवों को पानी की कोई परेशानी ना हो. इन वाटर होल में पानी के लिए टैंकर लगाए गए हैं. जिससे पानी की आपूर्ति की जाती है. कॉर्बेट में 200 कच्चे वाटर होल भी हैं. जहां वन्यजीव अपनी प्यास तो बुझाते ही हैं. साथ ही हाथी के लिए यह वाटर होल जलक्रीड़ा का अच्छा स्थान माना जाता है.

 

ये भी पढ़ें: अब उत्तराखंड बीजेपी हेडक्वार्टर पर लगा क्वारंटीन नोटिस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading