अब नहीं बनेगा कंडी मार्ग, स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड ने वन मंत्री का प्रस्ताव ठुकराया

Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: September 1, 2019, 5:33 PM IST
अब नहीं बनेगा कंडी मार्ग, स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड ने वन मंत्री का प्रस्ताव ठुकराया
स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड ने वन मंत्री के कंडी मार्ग प्रस्ताव को ठुकराया (फाइल फोटो)

वन मंत्री हरक सिंह रावत (Harak Singh Rawat) के ड्रीम प्रोजेक्ट (Dream Project) कंडी मार्ग (Kandi Marg) को नेशनल वाइल्ड लाइफ बोर्ड ने ठंडे बस्ते में डाल दिया है.

  • Share this:
उत्तराखंड (Uttarakhand) की राजधानी देहरादून (Dehradun) में सीएम त्रिवेंद्र रावत (CM Trivendra Singh Rawat) की अध्यक्षता में राज्य वन्यजीव बोर्ड की बैठक हुई. बैठक में वन मंत्री (Forest Minister) हरक सिंह रावत (Harak Singh Rawat) के ड्रीम प्रोजेक्ट (Dream Project) कंडी मार्ग (Kandi Marg) को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है. राज्य वन्यजीव बोर्ड (State Wildlife Board) ने गढ़वाल (Garhwal) से कुमाऊं (kumaon) को जोड़ने वाले वन मंत्री के इस कंडी मार्ग के प्रस्ताव को सिरे से खारिज कर दिया है.

हो सकता था वाइल्ड लाइफ को नुकसान

स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड (State WildLife Board) ने कंडी मार्ग का सर्वे (Survey) कर राज्य को चार विकल्प (Options) दिए थे. इसके साथ ही इसमें गढ़वाल से कुमाऊं को जोड़ने के लिए चार मार्गों पर वाइल्ड लाइफ को होने वाले नुकसान और मार्ग निर्माण के खर्चे का ब्योरा भी दिया था. इसके बाद आयोजित बोर्ड की बैठक में सभी चार विकल्पों पर चर्चा के बाद इस प्रस्ताव (Proposal) को ठुकरा दिया गया. इससे वन मंत्री को बड़ी निराशा हाथ लगी है.

लालढांग-चिल्लरखाल सड़क का प्रस्ताव पारित

इधर, बोर्ड ने बैठक में लालढांग चिलरखाल मोटर मार्ग को अनुमति दे दी है. लालढांग चिल्लरखाल मार्ग बनने से कोटद्वार से हरिद्वार तक यात्रियों को फायदा मिलेगा. आरक्षित, अभ्यारण्य, नेशनल पार्क से लगे गांवों में इको विकास समिति का गठन किया जाएगा. वन मंत्री ने कहा कि करीब 16 सड़कों के प्रस्तावों को बोर्ड ने हरी झंडी दी है. इसके साथ ही कई बॉर्डर रोड को भी हरी झंडी दिखाई है.

स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड-State Wildlife Board
स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड (State WildLife Board) ने कंडी मार्ग का सर्वे (Survey) कर राज्य को चार विकल्प (Options) दिए थे.


गांवों को दी जाएगी सोलर लाइट
Loading...

वन मंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय पार्क और अभयारण्य के बफर और कोर जोन में स्थित गांवों को सोलर लाइट (Solar Light) दी जाएगी. वन्यजीव बोर्ड की बैठक में यह फैसला लिया गया है कि मानव और वन्यजीव संघर्ष को रोकने के लिए फोर्स का गठन किया जाएगा. इसके साथ ही प्रदेश में सभी अभ्यारण्य और राष्ट्रीय पार्क में फोर्स का गठन किया जाएगा. वन्यजीव बोर्ड की बैठक हर 3 महीने में की जाएगी. बोर्ड की बैठक में वॉलेंटरी फोर्स बनाए जाने का भी निर्णय लिया गया है.

कंडी मार्ग गढ़वाल से कुमाऊं को जोड़ने वाला एक महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट

बहरहाल, कंडी मार्ग गढ़वाल से कुमाऊं को जोड़ने वाला एक महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट था. वन मंत्री हरक सिंह रावत हर कीमत पर इसे पूरा करवाना चाहते थे, लेकिन स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड की बैठक में इस प्रस्ताव को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया. इससे साफ हो गया कि आने वाले समय में कंडी मार्ग के निर्माण को लेकर स्थितियां अनुकूल (Favorable) नहीं होगी.

ये भी पढ़ें:- महिला ने ट्रेन में दिया बच्चे को जन्म, GRP ने की मदद


ये भी पढ़ें:- देहरादून में नाले-खालों पर अतिक्रमण रोकने के लिए क्या किया?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 1, 2019, 8:43 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...