लाइव टीवी

दिन भर जलती रहती हैं स्ट्रीट लाइट यहां... शिकायत करने वाले सीनियर सिटिज़न को धमकाते हैं बिजली विभाग के अधिकारी
Dehradun News in Hindi

satendra bartwal | News18 Uttarakhand
Updated: January 20, 2020, 1:43 PM IST
दिन भर जलती रहती हैं स्ट्रीट लाइट यहां... शिकायत करने वाले सीनियर सिटिज़न को धमकाते हैं बिजली विभाग के अधिकारी
देहरादून में रात में स्ट्रीट लाइटें जलें या न जलें लेकिन दिन में ये आपको ज़रूर जलती दिखाई दे जाएंगीं.

देहरादून के नगरायुक्त का कहना है कि यह ज़िम्मेदारी बिजलीकर्मियों की है और जल्द ही इस बारे में विभाग से बात की जाएगी.

  • Share this:
देहरादून. अपनी गली या सड़क में स्ट्रीट लाइट न चलने की शिकायत तो आम है. लेकिन देहरादून में अजब खेल चल रहा है. लोग दिन में अनावश्यक जलती स्ट्रीट लाइट की शिकायत कर रहे हैं और अधिकारी सुनने को तैयार नहीं हैं. जिस राज्य में बिजली आपूर्ति करने वाला विभाग करोड़ों के घाटे में जा रहा हो और बिजली की कमी की वजह से लोगों को कटौती झेलनी पड़ रही हो वहां अधिकारी दिन में स्ट्रीट लाइट बंद करने वाले को ही धमका रहे हैं.

शिकायतकर्ता को धमकी 

देहरादून में रात में स्ट्रीट लाइटें जलें या न जलें लेकिन दिन में ये आपको ज़रूर जलती दिखाई दे जाएंगीं. ऐसा एक-दो नहीं, बल्कि राज्य के कई शहरों में देखने को मिलता है. देहरादून की एक कॉलोनी में रहने वाले वरिष्ठ नागरिक जेसी शर्मा ने इसकी शिकायत की तो पहले तो उसे अनसुना किया गया फिर उन्हें धमकी भी मिली.

जेसी शर्मा कहते हैं कि उन्होंने स्थानीय बिजली कार्यालय में शिकायत की तो कोई फ़ायदा नहीं हुआ. दिन में भी बिजली जलती देख उन्हें बिजली और करदाताओं के पैसे की बर्बादी देख परेशानी हुई और उन्होंने एक्ज़ीक्यूटिव इंजीनियर को इसकी शिकायत की.

शर्मा के अनुसार एक्ज़ीक्यूटिव इंजीनियर ने उन्हें कहा, “बंद तो मैं करवा दूंगा लेकिन फिर यह लाइट जलेगी नहीं. तब शिकायत करने मत आ जाना”.

complainant sharma jji, जेसी शर्मा का कहना है कि उन्होंने दिन में स्ट्रीट लाइन जलने की शिकायत की तो विभाग के अधिकारी ने उन्हें धमकाया.
जेसी शर्मा का कहना है कि उन्होंने दिन में स्ट्रीट लाइन जलने की शिकायत की तो विभाग के अधिकारी ने उन्हें धमकाया.


विभागों की खींचतानरात में स्ट्रीट लाइट न जलने की धमकी के बाद शर्मा चुप हो गए. लेकिन विभागीय अधिकारी अपनी ज़िम्मेदारी मानने को तैयार नहीं. देहरादून के नगरायुक्त विनय शंकर पांडे का कहना है कि यह ज़िम्मेदारी बिजलीकर्मियों की है और जल्द ही इस बारे में विभाग से बात की जाएगी.

यूपीसीएल के एमडी बीसीके मिश्रा कहते हैं कि ज़्यादातर स्ट्रीट लाइट्स में टाइमर लगे होते हैं और वे सेट टाइम के हिसाब से जलती-बंद होती हैं. बहुत से टाइमर्स ख़राब हो गए हैं. इसके लिए आवेदन मांगे गए थे, जो मिल गए हैं. जल्द ही ये समस्या दूर हो जाएगी.

इन अधिकारियों पर होगी कार्रवाई कभी? 

लेकिन समस्या सिर्फ़ शिकायत दूर करना भर नहीं है. बड़ी समस्या शिकायत करने वाले को धमकाना है ताकि वह और कोई भी दूसरा फिर शिकायत करने की हिम्मत न कर सके. लेकिन न अधिकारी, न जनप्रतिनिधि शासन के अंदर बैठे ऐसे तत्वों पर उंगली उठाने को तैयार हैं, कार्रवाई तो क्या होगी.

ये भी देखें: 

उत्तराखंड में बिजली चोरी रोकने के लिए अनूठी पहल... गांधीगिरी की तर्ज पर ऊर्जागिरी की शुरुआत

मन न करे तो उपभोक्ताओं की शिकायत भी नहीं सुनी जाती इस ‘ऊर्जा प्रदेश’ में

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 1:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर