होम /न्यूज /उत्तराखंड /देहरादून: PG कॉलेजों में छात्रसंघ चुनाव नहीं होने से छात्र संगठन नाराज़, आंदोलन की भी चेतावनी

देहरादून: PG कॉलेजों में छात्रसंघ चुनाव नहीं होने से छात्र संगठन नाराज़, आंदोलन की भी चेतावनी

देहरादून के पीजी कॉलेजों में 80-90 फीसदी एडमिशन हो चुके हैं, लेकिन छात्रसंघ चुनाव का कुछ अता पता नहीं है. छात्र नेताओं ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    हिना आज़मी

    देहरादून. उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के पीजी कॉलेजों में छात्र नेता चुनाव की तैयारी कर रहे हैं. वो छात्रसंघ चुनाव का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. कॉलेजों में 80-90 फीसदी एडमिशन हो चुके हैं, लेकिन चुनाव का कुछ अता पता नहीं है. छात्र नेताओं ने चेतावनी दी है कि अगर एक हफ्ते में चुनाव न कराया गया, तो वो लोग आंदोलन करेंगे. छात्रों में यह नाराजगी इसलिए है क्योंकि वो लंबे समय से छात्रसंघ चुनाव की तैयारी कर रहे हैं और इसके लिए चुनाव प्रचार में जुटे हैं. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के छात्र नेता दयाल बिष्ट ने कहा कि इसपर उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत को ज्ञापन दिया जा चुका है. उस पर जल्द ही फैसला हो जाता है, तो ठीक है, वरना छात्र संगठन मिलकर उग्र आंदोलन करेंगे.

    वहीं, एनएसयूआई के छात्र नेता नमन शर्मा का कहना है कि डीएवी (पीजी) कॉलेज में मैदान से लेकर पहाड़ तक के छात्र-छात्राएं पढ़ने आते हैं. यहां कोई भी दिक्कत होने पर छात्र नेता ही उनके साथ खड़े होते हैं. छात्रों की समस्याओं को दूर करने के लिए छात्र नेताओं का कॉलेज में होना जरूरी है, इसके लिए चुनाव होना आवश्यक है. जबकि निश्चय ग्रुप के छात्र नेता अभिषेक ममगई ने कहा कि लिंगदोह समिति के मुताबिक कॉलेज शुरू होने के 45 से 60 दिन के बाद चुनाव हो जाने चाहिए. इसलिए अगर 10 अक्टूबर तक चुनाव नहीं होते हैं, तो फिर छात्रसंघ चुनाव होना मुश्किल है.

    निर्दलीय छात्र नेता सुमित कुमार का कहना है कि शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत की तरफ से आश्वासन दिया गया था, लेकिन लिखित रूप में कोई भी आदेश नहीं आया है. यह छात्रों की समस्याओं को दबाने का प्रयास है.

    डीएवी (पीजी) कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. केआर जैन ने इस बारे में कहा कि जैसा राज्य सरकार का आदेश आएगा, उसका पालन किया जाएगा.

    Tags: Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad (ABVP), Dehradun news, Nsui, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें