Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड में नेताओं से क्यों पूछा जाता है 13 का पहाड़ा

उत्तराखंड में नेताओं से क्यों पूछा जाता है 13 का पहाड़ा

देहरादून के राजीव गांधी नवोदय विद्यालय में शिक्षक डॉक्टर सुशील राणा कहते हैं कि इसकी एक वजह तो यह हो सकती है कि विषम अंकों के पहाड़े कुछ मुश्किल होते हैं.

उत्तराखंड के राजनीतिक हलकों में 13 का पहाड़ा एक बार फिर चर्चा में आ गया है. मतदान से चंद दिन पहले जहां राजनीतिक दल, उम्मीदवार, पत्रकार, राजनीतिक पर्यवेक्षक सभी वोटों के जोड़-भाग में जुटे हुए हैं एक रिपोर्टर को 13 का पहाड़ा सुनने की तलब हो गई. नैनीताल ऊधम सिंह नगर सीट से कांग्रेस उम्मीदवार काशीपुर में प्रचार कर रहे थे तो एक टीवी रिपोर्टर ने उनसे 13 का पहाड़ा सुनाने की फ़रमाइश कर डाली. बता दें कि इससे करीब पांच महीने पहले देहरादून में एक टीवी रिपोर्टर ने भी शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे से 13 का पहाड़ा पूछ लिया था. तेरह के पहाड़े का नेताओं, रिपोर्टर्स से क्या संबंध है हमने यह पड़ताल करने की कोशिश की.

क्या है मामला?

13 का पहाड़ा हाल ही में तब सुर्खियों में आया जब दो दिन पहले काशीपुर में चुनाव प्रचार के दौरान हरीश रावत से 13 का पहाड़ा पूछे जाने का वीडियो वायरल होने लगा. इसमें रिपोर्टर अचानक विषय से इतर कूदते हुए हरीश रावत से 13 का पहाड़ा पूछ लेता है. हरीश रावत अचरज में दिखते हैं और दोबारा कहने पर 13 चौके 52 तक का सुनाते हैं और गाड़ी में बैठते-बैठते 13 पंजे 65 बोलते-बोलते गाड़ी में बैठ जाते हैं. साथ ही कहते हैं कि मुझे आपका सवाल समझ नहीं आया. (देखें वीडियो)

harish rawat, table of 13

काशीपुर में हरीश रावत से रिपोर्टर ने 13 का पहाड़ा पूछ लिया.इससे पहले 19 जुलाई को देहरादून में प्रदेश के स्कूली शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे से टीवी के एक रिपोर्टर ने अचानक 13 का पहाड़ा पूछ लिया. अरविंद पांडे इस सवाल पर चौंके ही नहीं थे भड़क गए थे. उन्होंने सवाल पूछने वाले पत्रकार को फ़र्ज़ी करार देते हुए कहा कि उन्हें किसी फ़र्ज़ी को पहाड़े सुनाने की आवश्यकता नहीं है. (देखें वीडियो)

क्यों पूछा 13 का पहाड़ा?

देहरादून में शिक्षा मंत्री अरविंड पांडे से 13 का पहाड़ा सुनने की फ़रमाइश करने वाले टीवी रिपोर्टर अस्करी जाफ़री का कहना है कि उससे कुछ ही दिन पहले अरविंड पांडे का स्कूल में इंस्पेक्शन करते हुए महिला शिक्षक से गणित का फ़ॉर्मूला पूछने का वीडियो वायरल हुआ था. महिला शिक्षक ने सही जवाब दिया था तब भी शिक्षा मंत्री ने उन्हें डांट लगाई थी और खुद ग़लत फ़ार्मूला बताया था. इसीलिए उन्होंने मंत्री से 13 का पहाड़ा पूछने के बारे में सोचा. अस्करी दावा करते हैं कि उनका इरादा मंत्री की छवि ख़राब करने या टीआरपी बटोरने का कतई नहीं था.

Arvind pandey, table of 13
देहरादून में टीवी रिपोर्टर ने पिछले साल जुलाई में 13 का पहाड़ा पूछा था.


काशीपुर में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत से सवाल पूछने वाले शुभम गंभीर ने 13 का पहाड़ा सुनने की बात को जायज़ ठहराया. उन्होंने कहा कि अरविंद पांडे का वीडियो सामने आने के समय कांग्रेस नेता उनका बहुत मज़ाक बना रहे थे कि शिक्षा मंत्री को 13 का पहाड़ा नहीं आता. इसलिए उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री से 13 का पहाड़ा पूछा.

स्युसाइड नोट में किसान ने लिखा, ‘पांच साल में भाजपा सरकार किसान को खत्म व नष्ट करेगी’

 

13 का पहाड़ा ही क्यों?

लेकिन सवाल यह भी है कि 13 का पहाड़ा ही क्यों पूछा गया? क्या 13 का पहाड़ा सबसे मुश्किल पहाड़ा है?

देहरादून के राजीव गांधी नवोदय विद्यालय में शिक्षक डॉक्टर सुशील राणा कहते हैं कि इसकी एक वजह तो यह हो सकती है कि 13 का नंबर डरावना या अशुभ माना जाता है. इसके अलावा एक सच यह भी है कि विषम अंकों के पहाड़े कुछ मुश्किल होते हैं. 13 के अलावा 20 से पहले 17 और 19 के पहाड़े भी मुश्किल होते हैं. चूंकि 10 के बाद 11 और 12 के पहाड़े भी याद करना मुश्किल नहीं होता इसलिए पहला मुश्किल पहाड़ा 13 ही आता है. राणा कहते हैं कि शायद इसीलिए पत्रकारों ने नेताओं से 13 के पहाड़े पूछे होंगे.

इस बार ख़ामोश हैं वोटर... किसके पक्ष में होगा मतदान अंदाज़ लगना मुश्किल

नीयत पर सवाल

ऐसे सवालों से रिपोर्टर क्या साबित करना चाहते हैं? वरिष्ठ पत्रकार एसएमए काज़मी कहते हैं कि ऐसे सवाल पूछने वाले की नीयत पर सवाल उठाते हैं. ऐसा लगता है कि वह सवाल पूछकर वह किसी ख़ास व्यक्ति को बेवकूफ़ साबित करना चाहता है. काज़मी कहते हैं कि आप और हम भी सभी सवालों के जवाब नहीं दे सकते. इसके अलावा किसी सवाल का कोई संदर्भ भी होना चाहिए. आप अगर अचानक कोई बगैर संदर्भ के कोई सवाल पूछ लेंगे तो जवाब देने वाला भौंचक रह ही जाएगा. अगर आपको मंत्री से या पूर्व मुख्यमंत्री से सवाल पूछना है तो उसके विभाग, उसके काम से जुड़े सवाल पूछिए- यह 13 के पहाड़े का क्या मतलब है.

देहरादून में सैकड़ों लोगों के नाम वोटर लिस्ट से गायब, निर्वाचन अधिकारी ने दी यह दलील

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

आपके शहर से (देहरादून)

Tags: Arvind pandey, Harish rawat, Uttarakhand BJP, Uttarakhand Congress, Uttarakhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर