चारधाम यात्रा-बद्रीनाथ धाम के मास्टर प्लान पर काम शुरू, CM त्रिवेंद सिंह रावत ने किया बड़ा ऐलान

बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीख वसंत पंचमी को तय होगी.

Badrinath Master Plan: उत्तराखंड की चारधाम यात्रा में सबसे बड़ी संख्या में यात्री बद्रीनाथ पहुंचते हैं. अलकनंदा नदी के किनारे बसे इस धाम को कैसे और आकर्षक बनाया जा सके, उसी मास्टर प्लान पर इन दिनों फाइनल काम चल रहा है.

  • Share this:
देहरादून. बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीख वसंत पंचमी को तय होगी, लेकिन सरकार ने तय वक्त से पहले ही चारधाम यात्रा और बद्रीनाथ के मास्टर प्लान पर काम शुरू कर दिया है. साल 2021 की चारधाम यात्रा में बद्री-केदार में यात्रियों को कोई परेशानी न हो, इस तरह के इंतजाम करने के आदेश सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अधिकारियों को दिए हैं.

सीएम ने कहा कि दोनों धामों में बैठने, शेड और पीने के पानी समेत सभी काम वक्त पर पूरे किए जाएं. वहीं केदारनाथ में चल रहे काम 15 अप्रैल तक पूरे हो जाएंगे, ये भरोसा पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने दिया. केदारनाथ के बाद अब फोकस बद्रीनाथ धाम पर है. सीएम रावत का कहना है कि प्लान भी है, और
पैसा भी और सब ठीक रहा, तो इसी साल काम भी शुरू होगा.

उन्होंने कहा, 'बद्रीनाथ के मास्टर प्लान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोच के साथ काम होना है. खुद प्रधानमंत्री मोदी मास्टर प्लान देख चुके हैं."

वहीं पर्यटन सचिव का कहना है कि 250 करोड़ रुपए के लिए राज्य सरकार, केंद्र सरकार और पब्लिक सेक्टर अंडर टेकिंग की सहमति मिल गई है, और हर कोई चाहता है कि बद्रीनाथ धाम में ऐसा काम हो, जितना बड़ा धाम का नाम है.

उत्तराखंड की चारधाम यात्रा में सबसे बड़ी संख्या में यात्री बद्रीनाथ पहुंचते हैं. अलकनंदा नदी के किनारे बसे इस धाम को कैसे और आकर्षक बनाया जा सके, उसी मास्टर प्लान पर इन दिनों फाइनल काम चल रहा है. साल 2021 में उत्तराखंड की चारधाम यात्रा में करीब 3 लाख 10 हज़ार यात्रियों ने दर्शन किए,
जबकि साल 2019 में करीब 32 लाख श्रद्धालु चारधाम पहुंचे थे.