यूकेडी और सीपीआई(M) का पंचायत चुनावों में सफलता का दावा... पुराना रिकॉर्ड कहता है यह

यूकेडी के साथ ही सीपीआई (एम) का भी विधानसभा में कोई नामलेवा नहीं रहा है लेकिन दोनों ही पार्टियां पंचायत चुनावों में उपस्थिति दर्ज करवाने में कामयाब रही हैं.

Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: September 13, 2019, 7:00 PM IST
यूकेडी और सीपीआई(M) का पंचायत चुनावों में सफलता का दावा... पुराना रिकॉर्ड कहता है यह
सीपीआई और यूकेडी के नेताओं ने पंचायत चुनाव में अच्छे प्रदर्शन करने का दावा किया है.
Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: September 13, 2019, 7:00 PM IST
उत्तराखंड में बीजेपी और कांग्रेस के आलावा अन्य राजनीतिक दल भी हैं जो पंचायत चुनावों को जीतने के लिए कमर कसे हुए हैं. यूकेडी और सीपीआई (एम) का दावा है कि आगामी पंचायत चुनावों में बीजेपी कांग्रेस को कड़ी टक्कर देते हुए चुनाव जीतेंगे. यूं तो उत्तराखंड में बीजेपी चुनावी तैयारियों में बाकी सभी राजनीतिक दलों से आगे है लेकिन अन्य राजनीतिक दल भी पंचायत चुनाव फ़तह करने के लिए रणनीति बनाने में जुटे हुए हैं. पिछले पंचायत चुनावों में यूकेडी और सीपीआई (एम) दोनों दलों ने खाता खोला था तो ग्राम प्रधान और क्षेत्र पंचायत में भी इनकी विचारधारा के जुड़े लोग चुनाव जीते थे. इसलिए विधानसभा, लोकसभा जैसे बड़े चुनावों में असहाय दिखने वाले इन दलों के दावे यहां हवाई नहीं लगते.

नए ऊर्जा के साथ मैदान में 

उत्तराखंड क्रांति दल के देहारदून ज़िला अध्यक्ष विजय कुमार बौड़ाई दावा करते हैं कि इस बार पंचायत चुनावों में पार्टी का प्रदर्शन बेहतर रहेगा. बौड़ाई कहते हैं कि पार्टी नए सिरे से तैयारी कर रही है और नई ऊर्जा के साथ मैदान में उतर रही है. वह कहते हैं कि उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में लोग यूकेडी के साथ जुड़ रहे हैं और चाहते हैं कि पार्टी लोगों के उन सपनों को पूरा करे जिनके लिए राज्य का गठन हुआ था.

ज़्यादा सीटें जीतेगी सीपीआई(एम) 

यूकेडी के साथ ही सीपीआई (एम) का भी विधानसभा में कोई नामलेवा नहीं रहा है लेकिन दोनों ही पार्टियां पंचायत चुनावों में उपस्थिति दर्ज करवाने में कामयाब रही हैं. सीपीआई (एम) के राज्य इकाई के सदस्य लेखराज भरोसा जताते हैं कि पिछली बार से ज्यादा जगहों पर पार्टी पंचायत का चुनाव जीतेगी. वह कहते हैं कि केंद्र और राज्य की आर्थिक नीतियों से परेशान किसान और मजदूर सीपीआई (एम) का समर्थन करेंगे.

दोनों दलों के दावे तो अपनी जगह सही लगते हैं लेकिन बीजेपी के बूथ लेवल तक के प्रचार और कांग्रेस के संसाधनों के आगे ये कहां तक टिक पाएंगे यह देखना दिलचस्प रहेगा.

ये भी देखें: 
Loading...

बिना सिंबल के चुनाव के लिए बीजेपी ने कसी कमर... जिताऊ प्रत्याशियों की तलाश को समिति बनाई 

उत्तराखंडः दो से अधिक बच्चे हैं तो नहीं लड़ सकेंगे पंचायत चुनाव!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 6:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...