लाइव टीवी

उत्तराखंडः 4 महीने से बिना वेतन कोरोना से लड़ रहे 29 वॉरियर, कार्य बहिष्कार की दी चेतावनी
Dehradun News in Hindi

Mukesh Bhatt | News18 Uttarakhand
Updated: May 23, 2020, 8:42 AM IST
उत्तराखंडः 4 महीने से बिना वेतन कोरोना से लड़ रहे 29 वॉरियर, कार्य बहिष्कार की दी चेतावनी
मामले में अस्पताल के प्रभारी चिकित्सक डॉक्टर विजय सिंह ने बताया कि सभी कर्मचारी आउटसोर्सिंग के माध्यम से कार्यरत हैं.

कर्मचारियों (Employees) का कहना है कि मानदेय न मिलने से उनके सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है. पैसों के अभाव में परिवार के भरण पोषण करना भी उनके लिए मुसीबत साबित हो रहा है.

  • Share this:
विकासनगर. भले ही कोरोना वॉरियर्स (Corona warriors) को हर सुविधा मुहैया कराने के दावे किए जा रहे हों, लेकिन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र विकासनगर (Vikas Nagar) में स्थिति ठीक इसके उलट है. कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए फ्रंट लाइन पर सेवा दे रहे अस्पताल के 29 कर्मचारियों को पिछले 4 माह से मानदेय (Salary) नहीं मिला है. जिससे उनके सामने आर्थिक संकट पैदा हो गया है.

दरअसल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र विकासनगर, पछवादून समेत जौनसार बावर का प्रमुख अस्पताल है. अस्पताल में डॉक्टर व नर्सिंग स्टाफ के साथ-साथ स्वास्थ्य सेवाओं को सुचारू रखने के लिए 29 कर्मचारी आउटसोर्सिंग के माध्यम से रखे गए हैं. इन कर्मचारियों में 23 कर्मचारी उपनल व 6 कर्मचारी पीआरडी के माध्यम से रखे गए हैं, जो सभी इस वक्त कोरोना संक्रमण के बीच अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं.  लेकिन आउटसोर्सिंग से तैनात इन कर्मचारियों को पिछले 4 माह से मानदेय नहीं मिला है.

उनके सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है
कर्मचारियों का कहना है कि मानदेय न मिलने से उनके सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है. पैसों के अभाव में परिवार के भरण पोषण करना भी उनके लिए मुसीबत साबित हो रहा है. मामले में विभागीय अधिकारियों को भी अवगत कराया गया है, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है, जिससे कर्मचारियों में आक्रोश पनप रहा है. उन्होंने चेतावनी दी कि जल्द उनकी समस्या का समाधान न किया गया तो वे कार्य बहिष्कार करने को बाध्य होंगे.



अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है


कोरोना संक्रमण को देखते हुए अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है. कोरोना संक्रमण के मरीजों की जांच पड़ताल के बीच ही आउटसोर्स के माध्यम से तैनात ये कर्मचारी भी अपना काम कर रहे हैं. सभी कर्मचारी कई सालों से अस्पताल में कार्यरत हैं. लेकिन मानदेय न मिलने से अब कर्मचारी आक्रोशित दिखाई दे रहे हैं. ऐसे में कर्मचारी कार्य बहिष्कार पर जाते हैं तो इसका सीधा असर अस्पताल की स्वास्थ्य सेवाओं पर पड़ेगा.

सभी कर्मचारी आउटसोर्सिंग के माध्यम से कार्यरत हैं
मामले में अस्पताल के प्रभारी चिकित्सक डॉक्टर विजय सिंह ने बताया कि सभी कर्मचारी आउटसोर्सिंग के माध्यम से कार्यरत हैं. मार्च में सभी कर्मचारियों का कॉन्ट्रैक्ट रिन्यूअल होता है, लेकिन कोरोना के बीच कॉन्ट्रैक्ट रिन्यूअल की कार्यवाही नहीं हो पाई. जिस कारण यह दिक्कत सामने आई है. मामले में उच्च अधिकारियों को लिखित व मौखिक रूप से अवगत कराया जा चुका है. जल्द ही कर्मचारियों की समस्या का समाधान होगा.

ये भी पढ़ें- 

HC से मधु कोड़ा को झटका, कोयला घोटाले मामले में दोषी होने पर रोक लगाने से इनकार

5 महीने का भ्रूण हाथ में ले रात भर रोते रहे पति-पत्नी, लेकिन नहीं पसीजे डॉक्टर

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2020, 7:07 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading