Home /News /uttarakhand /

Uttrakhand Chunav: डोईवाला से टिकट पर संशय तो नहीं है त्रिवेंद्र सिंह रावत के चुनाव न लड़ने की वजह!

Uttrakhand Chunav: डोईवाला से टिकट पर संशय तो नहीं है त्रिवेंद्र सिंह रावत के चुनाव न लड़ने की वजह!

त्रिवेंद्र सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव, जेपी नड्डा को लिखा पत्र

त्रिवेंद्र सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव, जेपी नड्डा को लिखा पत्र

उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत डोईवाला विधानसभा सीट से तीन बार चुनाव जीत चुके हैं. इस बार भी वह चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे. इसी बीच यह खबरें तैरने लगींं की पार्टी डोईवाला में नया चेहरा तलाश रही है. कहीं यही तो नहीं बनी त्रिवेंद्र की नाराजगी की वजह.

अधिक पढ़ें ...

देहरादून. उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) आखिर ऐन वक्‍त पर चुनाव लड़ने से क्‍यों इनकार कर दिया? इसे लेकर कई तरह की कयासबाजियां शुरू हो गई हैं. एक वजह यह भी सामने आ रही है कि अभी तक पार्टी ने डोईवाला विधानसभा सीट (Doiwala Assembly Constituency) पर उनकी दावेदारी को लेकर पर्दा डाल रखा था. बताया जा रहा है कि उन्‍होंने चुनाव लड़ने की पूरी तैयारी कर ली थी. इसी बीच पार्टी सूत्रों से मीडिया में यह खबरें तैरने लगीं की भाजपा डोईवाला में नया चेहरा तलाश रही है. संभव हो कि इसी नाराजगी की वजह से उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर चुनाव लड़ने से ही मना कर दिया.

दरअसल, डोईवाला भाजपा का मजबूत गढ़ है. एक उपचुनाव को छोड़कर यहां से भाजपा कभी चुनाव नहीं हारी है. त्रिवेंद्र सिंह रावत तीन बार यहां से चुनकर विधानसभा पहुंचे हैं. पिछले बार भी वह यहीं से जीते थे. भाजपा के इस मजबूत दुर्ग को भेदना कांग्रेस के लिए एक सपने जैसा है. भाजपा के त्रिवेंद्र सिंह रावत 2002 और 2007 में कांग्रेस के वीरेंद्र मोहन उनियाल को हराकर डोईवाला से जीत हासिल की था. 2012 में रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhariyal Nishank)  के यहां से चुनाव लड़ने की वजह से पार्टी ने त्रिवेंद्र को रायपुर सीट भेज दिया था. जहां वह उमेश शर्मा काऊ से चुनाव हार गए थे.

उपचुनाव में हारे थे त्रिवेंद्र
2014 में निशंक के सांसद बनने के बाद हुए उपचुनाव में त्रिवेंद्र डोईवाला में कांग्रेस के हीरा सिंह बिष्ट (Hira Singh Bisht) हार गए थे. 2017 में फिर त्रिवेंद्र यहां से जीतकर मुख्‍यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचे. इस बार भी त्रिवेंद्र सिंह रावत  प्रबल दावेदार बताए जा रहे थे. हालांकि चर्चाओं में यह भी था कि पार्टी यहां से दूसरे विकल्‍प भी तलाश रही है. बताया जा रहा है कि हरक सिंह रावत की भी इस सीट पर नजर थी.

Tags: Assembly elections, UK Assembly Elections, Uttarakhand Assembly Election 2022

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर