मॉनसून सत्र: दूसरे दिन पार्टी के विधायकों ने ही सरकार पर उठाए सवाल

News18 Uttarakhand
Updated: September 19, 2018, 1:41 PM IST
मॉनसून सत्र: दूसरे दिन पार्टी के विधायकों ने ही सरकार पर उठाए सवाल
उत्तराखंड विधानसभा (फ़ाइल फ़ोटो)

प्रश्नकाल में सबसे ज्यादा वन एवम् पर्यावरण मंत्री हरक सिंह रावत सवालों में घेरे में आए और सही जवाब न मिलने से विधायक असंतुष्ट दिखे.

  • Share this:
उत्तराखंड विधानसभा के मॉनसून सत्र के दूसरे दिन सदन की कार्रवाई शुरू होते ही विपक्ष ने सरकार को घेरना शुरू कर दिया. सुबह 11  बजे जैसे ही सत्र की शुरुआत हुई विपक्ष ने अतिक्रमण के मुद्दे पर सरकार को घेरने का प्रयास किया और नियम 310 के तहत इस पर चर्चा की मांग की. लेकिन प्रश्नकाल होने की वजह से पीठ ने इस पर चर्चा की अनुमति नहीं दी. पीठ ने विपक्ष की अतिक्रमण नियम 310 पर चर्चा को नियम 58 में सुनने को कहा.

आज सदन में सबसे बड़ी बात यह रही कि सत्ता पक्ष के सदस्यों यानि भाजपा के विधायकों ने ही सरकार को घेरा. सरकार की हालत का अंदाज़ा इससे लगाया जा सकता है कि विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने निर्देश दिए कि सरकार के मंत्री गंभीरता से सवालों के जवाब दें.

प्रश्नकाल में सबसे ज्यादा वन एवम् पर्यावरण मंत्री हरक सिंह रावत सवालों में घेरे में आए और सही जवाब न मिलने से विधायक असंतुष्ट दिखे. प्रश्नकाल में पर्यावरण, मुख्यमंत्री राहत कोष, चीड़ के वृक्ष, लीसा डिपो, आरक्षण को लेकर सवाल पूछे गए.

सदन में नगर निकायों में आरक्षण का मुद्दा भी उठा. झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल ने निकायों में  अनुसचित जाति को आरक्षण बढ़ाने की मांग की. शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने इसका जवाब दिया. उन्होंने कहा कि संवैधानिक व्यवस्था के अनुसार तय अनुपात में आरक्षण लागू किया गया है. उन्होंने प्रदेश नगर निगम अधिनियम 1969 की धारा 7 का हवाला दिया.

(किशोर रावत  की रिपोर्ट)

उत्तराखंड विधानसभा में करोड़पति ही नहीं आपराधिक छवि वाले विधायक भी खूब!

उत्तराखंड बनने के बाद अब तक विधानसभा में पास हुए 380 बिल 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2018, 1:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...