Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड: हरक के कांग्रेस में जाने की चर्चा के बीच BJP अलर्ट, देखें क्या होगी रणनिति

उत्तराखंड: हरक के कांग्रेस में जाने की चर्चा के बीच BJP अलर्ट, देखें क्या होगी रणनिति

हरक के कांग्रेस में जाने की संभावना को लेकर बीजेपी बेचैन है.

हरक के कांग्रेस में जाने की संभावना को लेकर बीजेपी बेचैन है.

Uttarakhand Assembly Election 2022: हरक सिंह और हरीश रावत के बीच जुगलबंदी ने बीजेपी की टेंशन बढ़ा दी है. हरक के कांग्रेस में जाने की संभावना को लेकर बीजेपी बेचैन है. वह इसको लेकर उत्तराखंड में डैमेज कंट्रोल की तैयारी में है. हालांकि हरक सिंह ने कांग्रेस में जाने की संभावना को खारिज किया है.

अधिक पढ़ें ...

देहरादून. यशपाल आर्य (Yashpal Arya) की कांग्रेस में घर वापसी और अब हरक के बयानों से बीजेपी सकते में है. बीते कुछ दिनों में हरक सिंह (Harak Singh) और हरीश के बीच जुगलबंदी ने भी उसकी टेंशन बढ़ा दी है. हरीश रावत के बागियों के माफी न मांगने तक कांग्रेस में नो एंट्री के बयान को याद करने के साथ अब दोनों के बीच जुगलबंदी भी देखने को मिल रही है.

हरक ने अपने मौजूदा कार्यकाल को निराशाजनक बताया, तो हरीश रावत ने कहा कि हरक मेरे अपराधी नहीं थे. उन्होंने सरकार को अस्थिर कर जनता के प्रति अपराध किया था, लेकिन उन्होंने इस कार्यकाल को निराशाजनक बताकर अपनी भूल स्वीकार कर एक तरह से अप्रत्यक्ष रूप से जनता से माफी मांग ली है. बदले में हरक ने भी कह दिया कि उन्होंने कभी बड़े भाई को कुछ गलत नहीं कहा. हरक ने कहा मैंने बरगद का पेड़ जरूर कहा था, लेकिन वो पॉजिटिव था. उन्होंने बरगद के पेड़ की खूबियां भी गिना दी.

दोनों नेताओं की जुगलबंदी से बीजेपी टेंशन में है. उसको आशंका है कि हरक कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं और यदि ऐसा हुआ तो इससे पार्टी का चुनावी रोड मैप गड़बड़ा सकता है. वो भी तब जब दलित नेता यशपाल आर्य का विकल्प पार्टी अभी तक नहीं खोज पाई है. पार्टी अध्यक्ष मदन कौशिक का कहना है कि लोकतंत्र में किसी को रोका नहीं जा सकता. रही विकल्प की बात तो जब यशपाल आर्य बीजेपी में नहीं थे, हम तब भी जीते थे.

हालांकि, मंगलवार शाम मदन कौशिक और हरक के बीच मदन कौशिक के आवास पर करीब दो घण्टे तक बातचीत हुई. इस मुलाकात को इसी हलचल से जोड़कर देखा जा रहा है. मीटिंग से बाहर निकले मदन कौशिक ने हरक के कांग्रेस में जाने की चर्चाओं को खारिज करते हुए कहा कि हरक सिंह मूल भाजपाई हैं. उनकी राजनीति की शुरुआत ही एबीवीपी से हुई. हरक कांग्रेस में नहीं जाने वाले.

मीटिंग से बाहर निकले हरक ने भी चर्चाओं को खारिज करते हुए कहा कि मैं कहीं नहीं जा रहा हूं. अगर मुझे जाना होगा तो सबको बताकर जाऊंगा. ये भी सच है कि स्टेट बीजेपी एक तरह से मन बना चुकी है कि जिसको जाना है, वो जाएगा ही. अब मंथन इस बात पर हो रहा है कि इससे जो मैसेज जाएगा उसका काउंटर क्या होगा.

Tags: Dehradun news, Harak Singh, Harish rawat, Uttarakhand BJP Alert, Uttarakhand Congress

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर