अपना शहर चुनें

States

उत्तराखंड की सियासतः हरीश रावत का 'तख्ता पलटने वाले' फिर आए करीब तो शुरू हुई सुगबुगाहट

हरिश रावत और यशपाल आर्य.
हरिश रावत और यशपाल आर्य.

Uttarakhand Politics: कभी अपनी सरकार के मुखिया मुख्यमंत्री हरीश रावत (CM Harish Rawat) का साथ छोड़ बीजेपी (BJP) में शामिल हुए कुछ नेता इन दिनों फिर रावत के करीब दिख रहे हैं. सोशल मीडिया की तस्वीरों से राज्‍य का सियासी पारा चढ़ गया है.

  • Share this:
हल्द्वानी. कभी अपनी सरकार के मुखिया मुख्यमंत्री हरीश रावत (CM Harish Rawat) का तख्ता पलट करने के इरादे से बीजेपी (BJP) में शामिल हुए कुछ नेता इन दिनों फिर रावत के करीब दिख रहे हैं. इन नेताओं की कुछ ऐसी तस्वीरें सोशल मीडिया (Social Media) में पोस्ट हो रही हैं, जिनसे इन नेताओं की हरीश रावत से दोबारा करीबी की चर्चा गर्म है. विशेषतौर पर कांग्रेस (Congress) के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और वर्तमान में त्रिवेंद्र सिंह सरकार में कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य (Yashpal Arya) की एक फोटो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रही है, जिसमें यशपाल आर्य पूर्व सीएम हरीश रावत के साथ नजर आ रहे हैं.

बताया जा रहा है कि तस्वीर शनिवार की है, जब ऊधम सिंह नगर के किच्छा में एक कार्यक्रम के दौरान दोनों नेताओं की मुलाकात हो गई. दो तस्वीर वायरल हो रही है, उसमें हरीश रावत और यशपाल आर्य कुछ हल्के मूड में बातचीत करते दिख रहे हैं. यही नहीं कांग्रेस महासचिव हरीश रावत अपना साथ छोड़ चुके यशपाल आर्य की बांह पकड़े भी नजर आ रहे हैं. जबकि दोनों नेताओं के पास खड़े कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव और ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के पूर्व सचिव प्रकाश जोशी भी इस मुलाकात पर हंस रहे हैं. पूर्व सीएम हरीश रावत ने इस मुलाकात की तस्वीरें अपने सोशल मीडिया अकाउंट में शेयर की हैं. जिस पर तरह-तरह की राजनीतिक प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. कुछ लोग इसे 2022 की राजनीतिक तस्वीर कह रहे हैं. हालांकि दोनों नेता इसे एक सामान्य और इत्तेफाक से हुई मुलाकात करार दे रहे हैं.

यहां हुई मुलाकात
दरअसल शनिवार को किच्छा में राजस्थान सरकार के वर्तमान में मंत्री और कांग्रेस नेता राजेंद्र यादव के स्व. पिता रामजीलाल यादव की मूर्ति का उनके पैतृक गांव में अनावरण था, जिसमें कांग्रेस के आला नेताओं के आलावा प्रदेश के कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य भी पहुंचे थे. यहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्व सीएम हरीश रावत और बीजेपी सरकार में मंत्री यशपाल आर्य के बीच मुलाकात हुई.
प्रदेश प्रभारी कह चुके हैं बागियों की वापसी की बात


कांग्रेस के नए प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव बागियों की कांग्रेस में वापसी पर अपनी राय साफ कर चुके हैं. देवेंद्र यादव के मुताबिक अगर बागी, दागी नहीं हैं तो उनकी वापसी में कोई दिक्कत नहीं है. प्रभारी ने ऐसे नेताओं की कुंडली खुद तैयार करने की भी बात भी स्वीकार की थी. ऐसे में अगर 2022 के चुनावों से पहले कांग्रेस के कुछ पूर्व नेता दोबारा से पार्टी का दामन थामें  तो इसमें कोई हैरानी नहीं. हालांकि इस पर अंतिम फैसला कांग्रेस आलाकमान को ही करना है.

ये नेता छोड़ गए थे कांग्रेस
साल 2017 के विधानसभा चुनावों से ठीक पहले कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए नेताओं की दोबारा घर वापसी को लेकर आए दिन राजनीतिक बयानबाजी होती रहती है, लेकिन ये नेता अपने पुराने कांग्रेस वाले घर में वापसी करेंगे या नहीं इसका पत्ता किसी नेता ने अभी तक नहीं खोला है. लेकिन एक खास बात ये है कि जब से इन नेताओं ने कांग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थामा है इन्हें बागी का तमगा मिल गया है. यानी इनकी पहचान राज्य की राजनीति में बागी नेताओं को हो गई है. इन नेताओं में पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष यशपाल आर्य, पूर्व सीएम विजय बहुगुणा, हरक सिंह रावत, सुबोध उनियाल, उमेश शर्मा काऊ और रेखा आर्य जैसे नेता शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज