बीजेपी विधायक को कांग्रेस की बधाई... आबकारी मंत्री, सीएम के इस्तीफ़े की मांग

कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने आबकारी मंत्री और मुख्यमंत्री के इस्तीफ़े की मांग की है.
कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने आबकारी मंत्री और मुख्यमंत्री के इस्तीफ़े की मांग की है.

कांग्रेस नेता गोविंद सिंह कुंजवाल ने कहा कि इस घटना के बाद जनता में ये संदेश गया है कि ऊपर से नीचे तक अवैध कमाई का पैसा जा रहा है. मंत्री, मुख्यमंत्री तक पहुंच रहा अवैध कमाई का पैसा.

  • Share this:
ज़हरीली शराब के मुद्दे पर सदन में कांग्रेस के तीखे हमले लगातार जारी है. कांग्रेस अध्यक्ष और चकराता से विधायक प्रीतम सिंह ने चर्चा में भाग लेते समय कहा कि 7 फरवरी की घटना पर 11 फरवरी को एसआईटी का गठन किया गया जिसे 8-9 तारीख को हो जाना चाहिए था. सदन में मुद्दा उठने का बाद गठित हुई एसआईटी. उन्होंने पूरी घटना के लिए राज्य सरकार ज़िम्मेदार ठहराया.

यह भी पढ़ें- ज़हरीली शराब पर चर्चा... विपक्ष ने कहा सरकार का नौकरशाही पर नियंत्रण नहीं

प्रीतम सिंह ने कहा कि इस घटना से पूरा सदन व्यथित है. बीजेपी विधायक देशराज कर्णवाल ने ही सरकार को पत्र लिखकर हरिद्वार में शराब की अवैध बिक्री की बात कही. उन्होंने कहा कि बीजेपी विधायक ने ही सरकार को सच्चाई बताई. देशराज कर्णवाल को कांग्रेस की तरफ से बधाई.



प्रीतम सिंह ने कहा कि आबकारी मंत्री और मुख्यमंत्री को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए.
सदन में कांग्रेस नेता गोविंद सिंह कुंजवाल ने कहा कि प्रदेश का शासन-प्रशासन जनता के प्रति संवेदनशील नहीं. सरकार ने दुख में शामिल होना भी मुनासिब नहीं समझा. कुंजवाल ने कहा कि शराब का अवैध धंधा बना आमदनी का ज़रिया बन गया है. इस घटना के बाद जनता में ये संदेश गया है कि ऊपर से नीचे तक अवैध कमाई का पैसा जा रहा है. मंत्री, मुख्यमंत्री तक पहुंच रहा अवैध कमाई का पैसा.

यह भी देखें- VIDEO: अब न हो ज़हरीली शराब से मौत इसलिए इसी सत्र में विधेयक लाएगी सरकार

कांग्रेस विधायक करण माहरा ने पूछा कि ज़िला आबकारी अधिकारी पर अब तक कार्रवाई क्यों नहीं हुई? उन्होंने कहा कि उस अधिकारी को दोबारा हरिद्वार का ज़िला आबकारी अधिकारी बनाकर भेजा गया है जो पहले अनियमितता के आरोप में हटे थे. माहरा ने कहा क गलत अधिकारियों के हाथों में आबकारी विभाग है. राजनीतिक कारणों से गलत निर्णय लिए जा रहे. अधिकारी  सोशल मीडिया में खुद को महिमामंडित कर रहे हैं. जो काम नेता करते थे, वह अधिकारी कर रहे हैं. ऐसे अधिकारियों की ज़िम्मेदारी तय होनी चाहिए.

यह भी देखें - VIDEO: सीएम ने कहा- ज़हरीली शराब से हुई है मौत, इसलिए अभी मुआवज़ा नहीं, विचार करेंगे

माहरा ने पूछा कि हरिद्वार ज़िला प्रशासन ने अब तक क्या कार्रवाई की? उन्होंने मांग की कि आबकारी विभाग के छोटे अधिकारियों को सुरक्षा मिलनी चाहिए. बिना हथियारों के कर्मचारी कैसे काम करेंगे. उन्होंने मांग की कि नैतिकता के आधार पर आबकारी मंत्री इस्तीफा दें.

कांग्रेस विधायक हरीश धामी ने सदन से मांग की कि डीएम, एसएसपी, ज़िला आबकारी अधिकारी को सस्पेंड किया जाए. धामी ने कहा कि हरिद्वार के तीनों ज़िम्मेदार अधिकारियों को सस्पेंड किया जाए और आबकारी मंत्री प्रकाश पंत भी इस्तीफा दें.

यह भी पढ़ें- VIDEO: आबकारी आयुक्त ने कहा- शराब यूपी के सहारनपुर से लाई गई थी

कांग्रेस विधायक मनोज रावत ने कहा कि सीएम और कोई मंत्री घटनास्थल तक नहीं गए. अधिकारियों के रवैये की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि ये अधिकारी सोशल मीडिया में हैं, घटनास्थल पर नहीं. सोशल मीडिया में हर तीसरी पोस्ट अधिकारियों की है.

उन्होंने कहा कि दरोगा के सामने अवैध शराब नहीं बन सकती लेकिन हरिद्वार में पुलिस-प्रशासन के सामने ऐसा हुआ? केदारनाथ के विधायक रावत ने कहरा कि रुद्रप्रयाग ज़िले में हर जगह अवैध शराब बिक रही है. गौरीकुंड से केदारनाथ तक अवैध शराब बिक रही. अधिकारी सरकार के नेतृत्व में ये सब कर रहे हैं. नैतिकता के आधार पर सीएम, आबकारी मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए.

यह भी पढ़ें- हरिद्वार पुलिस को नहीं मिल रहा जहरीली शराब का सैंपल, अब तक 36 मौतें

कांग्रेस विधायक काज़ी निजामुद्दीन ने कहा कि मरीजों के इलाज के लिए कोई इंतज़ाम नहीं था. बीमार लोगों के इलाज का खर्च सरकार को उठाना चाहिए. कांग्रेस विधायक राजकुमार ने पूरे हरिद्वार ज़िले में शराब की बिक्री बंद किए जाने की मांग की. उन्होंने कहा कि आबकारी मंत्री, सीएम नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दें.

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज