Home /News /uttarakhand /

यूं ही नहीं कहते उत्तराखंड को सैनिकों का प्रदेश... 1962 से अब तक 2285 हुए देश के लिए शहीद

यूं ही नहीं कहते उत्तराखंड को सैनिकों का प्रदेश... 1962 से अब तक 2285 हुए देश के लिए शहीद

फाइल फोटो.

फाइल फोटो.

लेप्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) ओपी कौशिक कहते हैं कि उत्तराखंड के अलावा ऐसा कोई भी प्रदेश नहीं है जिसने हर जंग में हिस्सा लिया हो.

    देवभूमि उत्तराखंड को सैनिकों का प्रदेश भी कहा जाता है. माना जाता है कि राज्य के हर घर से औसत एक आदमी सेना में है. हाल ही में चार दिन में राज्य के चार जवानों की मौत हुई है और उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए लगने वाली भीड़ ने बता दिया है कि इस राज्य में देश के लिए शहीद होने वालों के लिए कितना सम्मान और प्यार है. लेकिन ऐसा पहली बार नहीं हुआ है राज्य के जवान देश के लिए शहीद हुए हैं 1962 के युद्ध से अब तक उत्तराखंड के करीब 2285 जवान देश के लिए शहीद हुए हैं.

    यह भी देखें- VIDEO : शहीद मेजर चित्रेश बिष्ट का पार्थिव शरीर हरिद्वार में गंगातट पर पंचतत्व में विलीन

    मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल, मेजर चित्रेश बिष्ट और सीआरपीएफ़ के जवान मोहनलाल रतूड़ी, वीरेंद्र राणा की जम्मू कश्मीर में शहादत से पूरा प्रदेश हिल गया है. एक बार फिर देश को यह याद आया है कि इस छोटे से पहाड़ी प्रदेश ने देश की रक्षा के लिए हमेशा बढ़-चढ़ कर कदम बढ़ाए हैं. आज़ादी से पहले की बात हो या आज़ादी के बाद की... देवभूमि के सपूतों ने देश की रक्षा के लिए अपनी जान की परवाह कभी नहीं की.

    यह भी देखें- उत्तराखंड से एक और शहादत, पुलवामा में आंतकी मुठभेड़ में मेजर विभूति ढौंडियाल शहीद

     

    प्रथम विश्वयुद्ध हो या द्वितीय विश्व युद्ध इस राज्य के बीरों ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया था. उत्तराखंड के सपूतों की वीरता से प्रभावित हो कर अंग्रेजों ने इस राज्य के वीरों को अनेक मेडल से नवाज़ा.  लेप्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) ओपी कौशिक कहते हैं कि उत्तराखंड के अलावा ऐसा कोई भी प्रदेश नहीं है जिसने हर जंग में हिस्सा लिया हो.

    यह भी देखें- VIDEO: पत्नी को दी गई शहीद मोहन लाल रतूड़ी की मौत की खबर, गमगीन माहौल

    आज़ादी से पहले उत्तराखंड के सपूतों को असामान्य सपूतों ने 3 विक्टोरिया क्रॉस, 53 इंडियन ऑडर ऑफ मेरिट, 25 मिलिट्री क्रॉस, 89 आईडी एसएम और 44 मिलिट्री मेडल हासिल किए थे.

    यह भी देखें- कारगिल में शहीद हुए थे पिता, अब सैनिक बन बेटा दे रहा है दुश्मनों को चुनौती

    1962 में हुए भारत-चीन युद्ध, 1965 में पाकिस्तान से युद्ध, 1971 में भारत-पाक युद्ध में उत्तराखंड के जवानों का बेहद महत्वपूर्ण योगदान रहा है. सिर्फ़ 1971 के युद्ध में उत्तराखंड के सबसे ज्यादा करीब 250 जवान शहीद हुए थे. देश के लिए इन युद्धों में अदम्य साहस का परिचय देने के लिए उत्तराखंड को अभी तक 6 परमवीर और अशोक चक्र, 29 महावीर चक्र, 3 अति विशिष्ट सेवा मेडल, 100 वीर चक्र, 169 शौर्य चक्र, 28 युद्ध सेवा मेडल, 745 सेनानायक, 168 मेंशन इन डिस्पैचिस जैसे मेडल हासिल हुए हैं.

    यह भी देखें- कब तक बच्चे बेमौत मारे जाते रहेंगे? पूछ रही है एक शहीद की मां

    युद्धभूमि में जिस तरह की मौत नसीब होती है उसकी कल्पना से ही लोगों की जान सूख जाती है. लेकिन इतने जवानों की शहादत के बाद भी उत्तराखंड से एक भी ऐसा उदाहरण नहीं मिला है कि किसी युवा को उसके परिजनों ने सेना या अर्द्धसैनिक बलों में भरती करने रोका हो. इसके विपरीत ऐसे सैकड़ों उदाहरण मिल जाएंगे जिनमें पिता, भाई की शहादत के बाद बेटा, भाई देश की सेवा करने के लिए भर्ती हुए हैं.

    यह भी देखें- पुलवामा आतंकी हमलाः शहीदों के परिवारों के लिए उत्तराखंड ने बढ़ाया मदद का हाथ

    Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 

    Tags: CRPF, Dehradun news, Indian army, Martyrs' Day, Pulwama attack, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर