Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड आपदा : 2 और शव मिलने के बाद मौतों का आंकड़ा 79, प्रभावित इलाकों में अब भी हाहाकार

उत्तराखंड आपदा : 2 और शव मिलने के बाद मौतों का आंकड़ा 79, प्रभावित इलाकों में अब भी हाहाकार

उत्तराखंड आपदा में मौतों की संख्या 79 हुई.

उत्तराखंड आपदा में मौतों की संख्या 79 हुई.

Uttarakhand Rains Updates : भारी बारिश और भूस्खलन के चलते जो तबाही उत्तराखंड (Uttarakhand Disaster) के पहाड़ों में मची, उसका असर अब तक देखा जा रहा है और कई इलाकों में लोग त्राहि त्राहि कर रहे हैं. मौतों के सरकारी आंकड़े के साथ ही बताया जा रहा है कि 24 लोग घायल हैं और 3 अब भी लापता हैं. इस आपदा में मकान, दुकान ढहने, बाढ़ (Uttarakhand Floods) के हालात बनने और भूस्खलन के चलते सड़कें, पुल आदि ध्वस्त (Roads Collapsed) हो जाने के साथ ही खेतों और मवेशियों को भी अच्छा खासा नुकसान हुआ है.

अधिक पढ़ें ...

    देहरादून. उत्तराखंड में 17 अक्टूबर से 19 अक्टूबर के बीच हुई भारी बारिश और भूस्खलन के बाद बने आपदा के हालात से मरने वालों का आधिकारिक आंकड़ा 79 हो गया है. चमोली ज़िले में दो और शव बरामद किए जाने के बाद यह आंकड़ा बढ़ गया. 19 अक्टूबर के बाद से ही ज़िले में जो लोग लापता बताए जा रहे थे, उनमें से दो के शव बरामद किए गए. रेस्क्यू टीमों ने गुरुवार को लापता लोगों के गांव से कुछ ही दूरी पर मलबे के नीचे से ये शव बरामद किए, जिसके बाद शुक्रवार को आधिकारिक तौर पर आंकड़े को अपडेट किया गया.

    आधिकारिक जानकारी के मुताबिक ये दोनों ही लोग अपने गांव के पास पीने के पानी की एक पाइपलाइन की मरम्मत करने के लिए गए थे. हालांकि उससे पहले भी ज़िले में आसपास भारी बारिश हुई थी. 19 अक्टूबर से दोनों लोग लापता बताए जा रहे थे. अब कहा गया ​है कि मरम्मत के काम पर जाने के समय भूस्खलन होने से दोनों मलबे के नीचे दब गए. इन दोनों की पहचान 48 वर्षीय भरत सिंह नेगी और 33 वर्षीय वीरेंद्र सिंह के तौर पर हुई, जो दोनों ही डूंगरी गांव के रहने वाले थे.

    गौरतलब है कि पिछले दिनों चमोली के आपदा प्रभावित इलाकों के दौरे पर पहुंचे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इन दोनों के परिवारों से मुलाकात भी की थी. यह भी उल्लेखनीय है कि राज्य के कई हिस्सों में अब भी आपदा राहत कार्य जारी हैं और कई जगह हालात अब भी बेहद मुश्किल भरे बने हुए हैं. खास तौर से नैनीताल ज़िले में आपदा पीड़ित खासे परेशान हैं और सरकार से ज़्यादा मदद की गुहार लगा रहे हैं.

    नैनीताल में सबसे ज़्यादा 35 मौतें
    17 से 19 अक्टूबर के बीच हुई अतिवृष्टि में कम से कम 232 मकानों के क्षतिग्रस्त हो जाने की बात कही जा रही है. नैनीताल में सबसे ज़्यादा तबाही होना बताया जा रहा है जबकि उत्तर की तरफ पहाड़ों के नौ ज़िले ज़्यादा प्रभावित रहे. चंपावत, उत्तरकाशी, यूएसनगर, बागेश्वर, अल्मोड़ा, चमोली, पौड़ी और पिथौरागढ़ में भी तबाही का आलम रहा. नैनीताल में सबसे ज़्यादा 35 मौतें हुईं तो चंपावत में 11, उत्तरकाशी में 10 और अल्मोड़ा व बागेश्वर में 6-6 मौतों का सरकारी आंकड़ा सामने आया.

    Tags: Uttarakhand Disaster, Uttarakhand landslide, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर