होम /न्यूज /उत्तराखंड /उत्तराखंड नगर निगम चुनाव: तो दिल्ली की तरह AAP और बीजेपी में ही होगा मुकाबला, जानें कांग्रेस का हाल

उत्तराखंड नगर निगम चुनाव: तो दिल्ली की तरह AAP और बीजेपी में ही होगा मुकाबला, जानें कांग्रेस का हाल

Uttarakhand Nagar Nigam Chunav: तो क्या बीजेपी और आप में ही है मुकाबला

Uttarakhand Nagar Nigam Chunav: तो क्या बीजेपी और आप में ही है मुकाबला

Uttarakhand Nikay Chunav: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से लेकर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट तक, दिल्ली नगर निग ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

एक साल बाद नगर निगम के चुनाव उत्तराखंड में भी होंगे
उत्तराखंड में भी टक्कर बीजेपी और आम आदमी पार्टी में होगी
कांग्रेस के पुराने कैंडिडेट सीधे चुनाव की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे

देहरादून. दिल्ली नगर निगम में बीजेपी ताबड़तोड़ प्रचार में जुटी है और चर्चा अब अगले साल उत्तराखंड में होने वाले नगर निकाय चुनावों की होने लगी है. कांग्रेस के पुराने कैंडिडेट सीधे चुनाव की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं, वहीं आम आदमी पार्टी का कहना है कि शहर के चुनावों में कांग्रेस को कैंडिडेट खोजने पर भी नहीं मिलेंगे और दिल्ली की तरह नगर निगमों में फाइट बीजेपी और आप की होगी.

दरअसल, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से लेकर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट तक, दिल्ली नगर निगम चुनावों में जमकर प्रचार कर रहे हैं. कांग्रेस दिल्ली में संघर्ष कर रही है और आम आदमी पार्टी नगर निगम में सत्ता पाने को तरस रही है. ठीक एक साल बाद नगर निगम के ऐसे ही चुनाव उत्तराखंड में भी होंगे. कांग्रेस के पुराने उम्मीदवार, इस बार खुलकर दावेदारी की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे, और आप को लग रहा है, कि दिल्ली नगर निगम की तरह, उत्तराखंड में भी टक्कर बीजेपी और आम आदमी पार्टी में होगी. अब कांग्रेस के सामने सवाल यही है कि अगर उसके पुराने नेताओं ने हिम्मत नहीं जुटाई, तो क्या होगा? और कहीं ऐसा न हो नगर निगम चुनाव में कांग्रेस तीसरी नंबर की पार्टी बनकर रह जाए.

कांग्रेस ने कही ये बात
आप पार्टी नेता जोत सिंह बिष्ट का कहना है कि दिल्ली नगर निगम की तरह आम आदमी पार्टी उत्तराखंड में 2023 के निकाय चुनाव में प्रदर्शन करेगी, और कांग्रेस को कैंडिडेट चुनाव लड़ाने के लिए नहीं मिलेंगे. वहीं कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करन महारा का कहना है कि ये सवाल ही गलत है. उत्तराखंड में कांग्रेस और बीजेपी ही दो पार्टियां हैं. वहीं अगर कोई चुनाव नहीं लड़ना चाहता, तो दूसरे और सेकेंड लाइन के नेताओं को मौका मिलेगा.

बीजेपी का है ये दावा
दरअसल, अभी चुनाव दिल्ली नगर निगम का है, तब मुख्यमंत्री से लेकर प्रदेश अध्यक्ष तक लगे हैं. और जब चुनाव अपने राज्य के नगर निगमों के होंगे, तब किस प्लान से काम होगा, आसानी से समझा जा सकता है. बीजेपी का दावा है कि ना कांग्रेस, ना आप, उत्तराखंड नगर निगमों में सबका पत्ता साफ होगा. प्रदेश प्रवक्ता खजान दास का कहना है कि कांग्रेस को उम्मीदवार खोजे नहीं मिलेंगे, और आम आदमी पार्टी कुछ कर पाने की स्थिति में नहीं है, इसलिए चाहे निकाय चुनाव हो, पंचायत चुनाव हो, लोकसभा या फिर विधानसभा चुनाव, जीतेगी बीजेपी ही. आम आदमी पार्टी उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में कुछ नहीं कर पाई, और बार-बार हार ने कांग्रेस नेताओं की हिम्मत तोड़ी है. ऐसे में नगर निगम के अगले साल होने जा रहे चुनाव में,  कांग्रेस और आप, बीजेपी की भारी भरकम ब्रिगेड के सामने टिकने की पोजिशन में नहीं दिख रहे.

Tags: Dehradun Latest News, Uttarakhand AAP

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें