लाइव टीवी
Elec-widget

‘उड़ते उत्तराखंड’ को थामने के लिए सख़्ती बरतेगी पुलिस... नशा तस्करों पर लगेगा गैंगस्टर एक्ट

satendra bartwal | News18 Uttarakhand
Updated: November 11, 2019, 1:47 PM IST
‘उड़ते उत्तराखंड’ को थामने के लिए सख़्ती बरतेगी पुलिस... नशा तस्करों पर लगेगा गैंगस्टर एक्ट
देवभूमि उत्तराखंड तेज़ी से नशे की चपेट में आ रही है. मैदानी क्षेत्रों ही नहीं राज्य के पहाडी क्षेत्रों में नशे का कारोबार बढ़ रहा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कानून के जानकारों के अनुसार नशा तस्कर गैंगस्टर एक्ट (Gangster Act) के दायरे में आएंगे तो बड़े तस्करों (smugglers) को बड़ी सज़ा होने से ये नए लोगों को नहीं जोड़ पाएंगे.

  • Share this:
देहरादून. देवभूमि उत्तराखंड (Devbhoomi Uttarakhand) तेज़ी से नशे (Drugs) की चपेट में आ रही है. मैदानी क्षेत्रों ही नहीं राज्य के पहाडी क्षेत्रों (Hilly Areas) में नशे का कारोबार बढ़ रहा है. चिंताजनक बात यह है कि इसकी चपेट में बड़ी संख्या में छात्र आ रहे हैं. नशे का कारोबार पर रोक लगाने के लिए अब उत्तराखंड पुलिस (Uttarakhand News) सख़्त कदम उठाने जा रही है और पुलिस ने नशे के तस्करों पर गैंगस्टर एक्ट (Gangster Act) लगाने का ऐलान किया है. पुलिस को विश्वास है कि इससे नशे का कारोबार करने वालों पर कानून का शिकंजा ज़्यादा प्रभावी ढंग से कस सकेगा.

जेल से छूटकर फिर करते हैं तस्करी 

पंजाब की तरह अब उत्तराखंड भी ‘उड़’ रहा है. आए दिन राज्य के अलग-अलग हिस्सों से नशे की बड़ी  खेप पकड़ी जा रही है. इसी साल अब तक 5 करोड़ से अधिक की स्मैक, करीब 3 करोड़ रुपये की देसी और अंग्रेज़ी शराब के साथ ही 2 करोड़ से ज़्यादा कीमत के दूसरे नशीले पदार्थ पकड़े गए हैं.

कई मामलों में नशे के वही तस्कर पकड़े गए हैं जिन पर पहले से ही नशे के कारोबार में लिप्त होने के केस चल रहे हैं. इन पर लगाम लगाने के लिए अब पुलिस एनडीपीसी एक्ट के साथ गैंगस्टर एक्ट भी लगाने जा रही है.

drugs addiction, symbolic picture, उत्तराखंड पुलिस ने अब नशे के तस्करों पर गैंगस्टर एक्ट लगाने का फ़ैसला किया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
उत्तराखंड पुलिस ने अब नशे के तस्करों पर गैंगस्टर एक्ट लगाने का फ़ैसला किया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)


लगाम लगेगी 

बता दें कि अभी तक नशे के तस्करों पर एनडीपीएस एक्ट में सज़ा का प्रावधान है. एनडीपीएस एक्ट में सज़ा सीमित होने के चलते यह तस्कर मामूली से चालान और कुछ समय जेल में बिता कर बाहर आ जाते हैं और फिर इसी धंधे में सक्रिय हो जाते हैं.
Loading...

इसलिए पुलिस ने अब नशे के तस्करों पर गैंगस्टर एक्ट लगाने का फ़ैसला किया है. डीजी (कानून-व्यवस्था) अशोक कुमार का कहना है कि इस मुहिम से राज्य में नशे के कारोबार को रोकने में मदद मिलेगी.

क्रिमिनल लॉयर की राय 

पुलिस के इस कदम को क्रिमिनल लॉयर रजत दुआ भी सही ठहराते हैं. दुआ कहते हैं कि एनडीपीएस एक्ट में कॉमर्शियल क्वान्टिटी और सेल्फ क्वान्टिटी में अलग-अलग सज़ा होने के चलते अक्सर नशे के तस्कर कम सजा पाकर ही छूट जाते हैं. अब ये गैंगस्टर एक्ट के दायरे में आएंगे तो बड़े तस्करों को बड़ी सज़ा होने से ये नए लोगों को नहीं जोड़ पाएंगे.

चिंताजनक बात यह है कि उत्तराखंड में बढ़ रहे इस करोबार की जद में अधिकतर स्कूली बच्चे आ रहे हैं. मामले की गंभीरता को समझते हुए पुलिस इन तस्करों पर कड़ी कार्रवाई करने जा रही है लेकिन इससे राज्य में कितना नशा रुकेगा, यह देखना दिलचस्प रहेगा.

ये भी देखें:

कुमाऊं के नामी स्कूलों-कॉलेजों में नशीली दवाएं सप्लाई करने वाला नशा तस्कर गिरफ़्तार

नशा मुक्ति केंद्र में मरीजों की डंडों से की जाती थी पिटाई, काट दिए जाते थे बाल

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 1:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...