उत्तराखंड: प्यार में धोखा मिलने पर छात्र कर रहे हैं खुदखुशी

युवा पीढ़ी के हांथों में ही देश का भविष्य है, लेकिन देश के भविष्य की तरफ शायद किसी का ध्यान ही नहीं है.स्कूल कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राएं तेजी से मौत को गले लगा रहे है.

Avnish Pal | News18 Uttarakhand
Updated: July 28, 2019, 9:30 AM IST
उत्तराखंड: प्यार में धोखा मिलने पर छात्र कर रहे हैं खुदखुशी
प्यार में धोखा मिलने पर छात्र कर रहे हैं खुदखुशी
Avnish Pal | News18 Uttarakhand
Updated: July 28, 2019, 9:30 AM IST
आज की इस भाग दौड़ भरी लाइफ में युवा पीढ़ी शायद अपनों से दूर होती जा रही है. माता पिता भी अपने बिज़ी सेडयूल से बच्चों के लिए उतना वक्त नहीं निकाल पाते जितना बच्चों को समझने के लिए चाहिए. शायद उन्हें पता ही नही चलता उनके बच्चों के मन में चल क्या रहा है. यही वजह है कि स्कूल कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राएं तेजी से मौत को गले लगा रहे है. जिसकी गवाही  4 सालों के आंकड़े दे रहे है. आखिर क्या वजह है, क्यों आत्महत्या का रास्ता युवा चुन रहे है.

 पिछले कुछ वर्षों के आत्महत्या के आंकड़े-

  • वर्ष        पुरुष       महिला              युवा                 कुल


  • 2014     151          56                 105                207

  • 2015     346         129                136                475

  • 2016      99           53                  27                 152

  • Loading...


हैरानी की बात ये है की पुलिस के पास 2016 के बाद का आंकड़ा ही नहीं है. हालाँकि एनजीओ और संस्थाओ के निजी सर्वे के मुताबिक आत्महत्याओं का आंकड़ा सरकारी आंकड़ों के कई गुना है.

प्यार में धोखा, cheated in love
20 प्रतिशत बच्चे अकेलापन और डिप्रेशन को शिकार होकर आत्महत्या जैसा कदम उठाते हैं.


परिवार वाले भी नहीं समझ पाते कि बच्चे के मन में क्या चल रहा है

यूं तो युवा पीढ़ी के हांथों में ही देश का भविष्य है, लेकिन देश के भविष्य की तरफ शायद किसी का ध्यान ही नहीं है. वही निजी एनजीओ के सर्वे में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि 70 प्रतिशत स्टूडेंट प्यार में धोखा मिलने पर मौत को गले लगा रहे  है. जबकि 10 प्रतिशत  परीक्षा में अच्छा रिजल्ट न आने या हाई क्लास लाइफ स्टाइल में जीने की इच्छा रखने के कारण और बाकी 20 प्रतिशत अकेलापन ,डिप्रेशन और अन्य कारणों के चलते खुदखुशी का फैसला करते है. इसके साथ ही परिवार वाले भी बच्चों से दूरी बनाए रखते है. जिसके चलते परिवार भी नहीं समझ पाता की बच्चे के मन में क्या चल रहा है.

प्यार में धोखा, cheated in love
10 प्रतिशत बच्चे परीक्षा में अच्छा रिजल्ट न आने या हाई क्लास लाइफ स्टाइल में जीने की इच्छा के पूरा न होने के चलते आत्महत्या जैसा कदम उठाते हैं.


वही डीजीपी अनिल रतूड़ी का कहना है की पुलिस भी स्कूल कॉलेजों के साथ संपर्क में रहते है. साथ ही कॉलेज प्रशासन से भी बच्चों की समय समय कॉउंसलिंग करवाने की अपील की है. वजह चाहे कुछ भी हो, लेकिन जिम्मेदारी माता पिता के साथ साथ स्कूल और कॉलेज प्रबंधनों की भी है जो बच्चों का भविष्य बनाने के नाम पर मोटी रकम तो वसूल लेते है, लेकिन जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ते नजर आते है.

ये भी पढ़ें- VIRAL VIDEO: देहरादून में आज़माया जा रहा है शराबी ड्राइवर का पता लगाने का यह आदिम तरीका

ये भी पढ़ें- VIDEO: देहरादून में सड़क पर हनुमान चालिसा, पुलिस और लोगों के बीच हुई झड़प
First published: July 28, 2019, 8:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...