सेक्स रेशो : एक और आंकड़ा, अब 'फिसड्डी' से 'बेस्ट राज्य' बना उत्तराखंड, कैसे?

प्रति हज़ार बालकों पर बालिकाओं की संख्या को सेक्स रेशो के तौर पर समझा जाता है.

Uttarakhand Sex Ratio : नीति आयोग ने अपनी रिपोर्ट में उत्तराखंड को लिंग अनुपात के मामले में सबसे खराब राज्य कहा, तो राज्य ने आपत्ति दर्ज करते हुए आयोग से सवाल जवाब किए. अब राज्य को अपनी बात को साबित करने के लिए एक और सहारा मिला है.

  • Share this:
    देहरादून. शिशुओं के जन्म पर लिंग अनुपात के मुद्दे पर उत्तराखंड बनाम नीति आयोग की रस्साकशी के मामले में एक और नया मोड़ आ गया है. राज्य में सेक्स रेशो को लेकर दो हफ्तों के बाद तीसरा आंकड़ा सामने आने से उलझन पैदा हुई तो उत्तराखंड इसका पूरा फायदा उठाना चाह रहा है. वास्तव में, इस महीने के शुरू में नीति आयोग एसडीजी इंडेक्स जारी करते हुए सेक्स रेशो के मामले में केरल को सबसे बेहतर और उत्तराखंड को सबसे फिसड्डी राज्य कहकर रेशो 840 बताया था. उत्तराखंड की सरकार ने इस रिपोर्ट का विरोध करते हुए आंकड़े को गलत कहा और सही आंकड़ा 949 बताया. अब सिविल रजिस्ट्रेशन सिस्टम के डेटा में कहा गया है कि राज्य में सेक्स रेशो 960 है यानी यह केरल से भी ज़्यादा है.

    सीआरएस के इस आंकड़े से विवाद में नया मोड़ तो आया ही है, उत्तराखंड सरकार ने फ़ौरन इसे अपने दावे के प्रमाण के तौर पर प्रचारित करने की रणनीति भी अपनाई. टीओआई की एक रिपोर्ट की मानें तो उत्तराखंड की महिला एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने कहा, 'मुझे नीति आयोग की रिपोर्ट को लेकर संशय थे. अब, सीआरएस डेटा ने साबित कर दिया है कि सेक्स रेशो के मामले में उत्तराखंड सबसे बेहतरीन राज्यों में है.'

    uttarakhand news, uttarakhand minister, uttarakhand government, sex ratio index, niti aayog data, उत्तराखंड न्यूज़, उत्तराखंड लिंग अनुपात, उत्तराखंड मंत्री, उत्तराखंड समाचार
    CRS ने उत्तराखंड में सेक्स रेशो काफी बेहतर होने की बात कही.


    आखिर कैसे हो सकता है इतना फर्क?
    नीति आयोग, उत्तराखंड सरकार और अब सीआरएस डेटा से तीन नंबर मिलने के बाद सवाल यही है कि नंबरों में इतना फर्क कैसे पैदा हो गया? यहां दो बातें ध्यान देने की हैं. एक तो किस प्रक्रिया से नंबर जुटाए जाते हैं और दूसरी यह कि कैसे नंबरों का औसत निकाला जाता है. नीति आयोग का एसडीजी इंडेक्स केंद्रीय सांख्यिकी मंत्रालय से तैयार किया जाता है, जो ​संबंधित मंत्रालयों से मिले ताज़ा डेटा पर आधारित होता है. वहीं, उत्तराखंड सरकार सेक्स रेशो के मामले में आशा और एएनएम वर्करों के सर्वे को आधार मानकर आंकड़े तैयार करती है.

    ये भी पढ़ें : उत्तराखंड सेक्स रेशो: नीति आयोग - 840, राज्य का दावा - 949, कहां से आया इतना अंतर?

    डेटा का​ विश्लेषण क्या कह रहा है?
    अब तीसरी बात है, सीआरएस डेटा की, तो यह एएनएम और आशा वर्करों के सर्वे पर नहीं बल्कि शिशुओं के जन्म के पंजीकरण पर आधारित होता है. अब यहां ध्यान देने की बात यह है कि उत्तराखंड में ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में सेक्स रेशो को लेकर बड़ी खाई देखी जा चुकी है. 2015-16 में राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे में बताया गया था कि उत्तराखंड के शहरी क्षेत्रों में शिशु सेक्स रेशो 858 था, तो ग्रामीण क्षेत्रों में 948.

    ये भी पढ़ें : लगातार चेतावनियों से भी चेता नहीं उत्तराखंड, चाइल्ड सेक्स रेशो में सबसे फिसड्डी राज्य

    इसी तर्ज़ पर सीआरएस ने ताज़ा डेटा ​का विश्लेषण करते हुए कहा है कि इस बार भी ग्रामीण इलाकों में रेशो 990 देखा गया, जबकि शहरी इलाकों में 929. बहरहाल, अब इस आंकड़ेबाज़ी में नीति आयोग की तरफ से जवाब बाकी है. न्यूज़ 18 ने सेक्स रेशो के मामले में लगातार अपडेट करते हुए आपको बताया था कि उत्तराखंड सरकार ने अपनी आपत्तियों को लेकर नीति आयोग से लिखित में बातचीत की थी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.