Home /News /uttarakhand /

स्वच्छता सर्वे: उत्तराखंड की चाल एक कदम आगे-एक कदम पीछे, पहाड़ी राज्यों में अव्वल, देहरादून भी टॉप-100 में, लेकिन...

स्वच्छता सर्वे: उत्तराखंड की चाल एक कदम आगे-एक कदम पीछे, पहाड़ी राज्यों में अव्वल, देहरादून भी टॉप-100 में, लेकिन...

न्यूज़18 क्रिएटिव

न्यूज़18 क्रिएटिव

Cleanliness Survey 2021 : रैंकिंग को अगर एक पल के दूर रखें तो जानकारों का मानना है कि उत्तराखंड के लिए प्लास्टिक (Plastic Waste) और अन्य वेस्ट का प्रबंधन (Waste Management) कर पाना बहुत बड़ी चुनौती बना हुआ है. पर्यावरण के लिहाज़ से बेहद संवेदनशील राज्य की अपनी चिंताओं के बीच जो रैंकिंग्स (Uttarakhand Ranking) मिली हैं, उसे क्यों जानकार एक कदम बढ़ना, एक कदम पिछड़ना मान रहे हैं?

अधिक पढ़ें ...

    देहरादून. स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 के जो आंकड़े जारी हुए हैं, उनके ज़रिये उत्तराखंड में स्वच्छता की स्थिति को समझा जा सकता है. अगर हिमालयी पर्वतमाला वाले राज्यों की बात करें तो उत्तराखंड सफाई के मामले में अव्वल रहा है और 100 से कम शहरी निकायों वाले राज्यों में उत्तराखंड का नंबर चौथा है. इस लिस्ट में झारखंड, हरियाणा और गोवा राज्य उत्तराखंड से आगे निकले हैं. वहीं, देहरादून की रेटिंग में भी सुधार दिखा है, हालांकि उस ओवरऑल रेटिंग में यह शहर 82वें स्थान पर है, जिसमें मध्य प्रदेश का इंदौर नंबर 1 रहा है. लेकिन यह रेटिंग्स उत्तराखंड के लिए इस बार खास रही हैं.

    कूड़ा मुक्त शहरों की स्टार रेटिंग में उत्तराखंड के तीन शहरों देहरादून, मुनिकी रेटी और रुड़की को स्थान मिला है. मुनिकी रेटी के लिए बहुत खास बात यह रही कि उसे इस लिस्ट में 11वां स्थान मिला. स्वच्छ सर्वेक्षण के नतीजे बीते शनिवार को जारी हुए थे, जिसके विश्लेषण के आधार पर काफी जानकारियां सामने आ रही हैं. उत्तराखंंड में छह बड़े शहरों देहरादून, रुड़की, हरिद्वार, हल्द्वानी, काशीपुर और रुद्रपुर को मिली-जुली रेटिंग्स मिली हैं, जैसे देहरादून गार्बेज फ्री सिटी रेटिंग में वन स्टार रेटिंग हासिल कर सका है.

    372 शहरों में 82वां स्थान

    उत्तराखंड की राजधानी देहरादून को स्वच्छता लिस्ट में 82वें नंबर पर रखा गया, जो उन 372 शहरों की लिस्ट थी, जिनकी आबादी 1 से 10 लाख के बीच है. खास बात यह है कि देहरादून पहली बार टॉप 100 में शामिल हुआ. स्वच्छ सर्वेक्षणों में इससे पहले भी उत्तराखंड का कोई शहर टॉप 100 में नहीं रहा है. दूसरी तरफ हरिद्वार की रेटिंग खराब हुई है. 2020 में यह 244वें नंबर पर था और इस साल 285वें नंबर पर रहा. गौरतलब यह है कि इस साल हरिद्वार में कुंभ मेले का भव्य आयोजन हुआ था.

    uttarakhand survey, swachchhata survey, swachchh bharat abhiyan, cleanliness survey of uttarakhand, स्वच्छता सर्वे, स्वच्छ भारत अभियान, उत्तराखंड का स्वच्छता सर्वे, aaj ki taza khabar, UK news, UK news live today, UK news india, UK news today hindi, UK news english, Uttarakhand news, Uttarakhand Latest news, Dehradun news, Dehradun latest news, Dehradun news live, Dehradun news today, Today news Dehradun

    न्यूज़18 इन्फोग्राफिक्स

    मुनिकी रेती की मिसाल कितनी अहम?

    जानकार मान रहे हैं कि उत्तराखंड के छोटे शहर वेस्ट मैनेजमेंट के मामले में बाज़ी मार रहे हैं. सामाजिक विकास से जुड़े एक्सपर्ट अनूप नौटियाल के हवाले से एक खबर में कहा गया कि ये छोटे कस्बे सूखे वेस्ट को बेचकर और रीसाइकिल करके संसाधन भी पैदा कर रहे हैं और इस मामले में मुनिकी रेती का उदाहरण देखने लायक रहा है. बहरहाल, उत्तराखंड के लिए वेस्ट मैनेजमेंट बड़ी चुनौती बना हुआ है.

    uttarakhand survey, swachchhata survey, swachchh bharat abhiyan, cleanliness survey of uttarakhand, स्वच्छता सर्वे, स्वच्छ भारत अभियान, उत्तराखंड का स्वच्छता सर्वे, aaj ki taza khabar, UK news, UK news live today, UK news india, UK news today hindi, UK news english, Uttarakhand news, Uttarakhand Latest news, Dehradun news, Dehradun latest news, Dehradun news live, Dehradun news today, Today news Dehradun

    न्यूज़18 इन्फोग्राफिक्स

    कैसा है उत्तराखंड का ओवरआल रिपोर्ट कार्ड?

    उत्तराखंड 100 से कम शहरों वाले राज्यों की लिस्ट में देश में चौथे नंबर पर तो आया, लेकिन इस रैंकिंग को समझा कैसे जाए? पिछले साल की तुलना में देखें तो राज्य के स्कोर में 95 अंकों का सुधार हुआ. यह महत्वपूर्ण है कि देहरादून जैसे शहरों की स्थिति बेहतर हुई तो काशीपुर जैसे नगरीय निकायों की स्थिति बदतर. कुल मिलाकर संरक्षण से जुड़े आयुष जोशी के हवाले से इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट कहती है, ‘स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 के नतीजे उत्तराखंड के लिए एक कदम आगे बढ़ने और एक कदम पिछड़ने जैसे रहे.’ हालांकि राज्य के शहरी विकास मंत्री बंसीधर भगत ने उत्तराखंड को इस साल उपलब्धियों के लिए बधाई तो दे ही दी है.

    Tags: Cleanliness survey topper list, Dehradun news, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर