उत्तराखंड परिवहन निगम को मिले 4 पुरस्कार, कर्मचारी नेता ने कहा झूठ से झटके

उत्तराखंड परिवहन निगम कर्मचारी संघ के महामंत्री रवि पचौरी कहते हैं कि यह पुरस्कार झूठ के पुलिंदों के आधार पर दिए गए हैं.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: March 13, 2018, 7:18 PM IST
उत्तराखंड परिवहन निगम को मिले 4 पुरस्कार, कर्मचारी नेता ने कहा झूठ से झटके
27 फरवरी, 2018 को नई दिल्ली में आयोजित ‘एसोसिएशन ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट अंडरटेकिंग’ कार्यक्रम में उत्तराखण्ड परिवहन निगम को सबसे ज़्यादा चार पुरस्कार प्राप्त हुए हैं.
ETV UP/Uttarakhand
Updated: March 13, 2018, 7:18 PM IST
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित कैम्प कार्यालय में उत्तराखण्ड परिवहन निगम के प्रबन्ध निदेशक श्री बृजेश संत ने भेंट की. उन्होंने मुख्यमंत्री को बताया कि 27 फरवरी, 2018 को नई दिल्ली में आयोजित ‘एसोसिएशन ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट अंडरटेकिंग’ कार्यक्रम में उत्तराखण्ड परिवहन निगम को सबसे ज़्यादा चार पुरस्कार प्राप्त हुए है.

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने प्रबंध निदेशक को परिवहन निगम को मिले पुरस्कार के लिए बधाई दी है.

प्रबन्ध निदेशक बृजेश संत ने बताया कि इस कार्यक्रम में 27 राज्यों द्वारा प्रतिभाग किया गया. जिसमें परिवहन से संबंधित 18 क्षेत्रों में पुरस्कार दिए गए. उत्तराखण्ड को उच्चतम वाहन उत्पादकता, उच्चतम ईंधन दक्षता, उच्चतम टायर परफॉर्मेंस एवं मिनिमम ऑपरेशनल कॉस्ट के लिए पुरस्कृत किया गया है.

लेकिन उत्तराखंड परिवहन निगम कर्मचारी संघ के महामंत्री रवि पचौरी कहते हैं कि यह पुरस्कार झूठ के पुलिंदों के आधार पर दिए गए हैं. पचौरी के अनुसार रोडवेज़ की हालत बेहद खस्ता है. दो महीने से कर्मचारियों को तनख्वाह नहीं मिली है. इसके अलावा वॉल्वो और एसी बसों की मरम्मत के करोड़ों रुपये निगम पर बकाया हैं.

ख़ास बात यह है त्रिवेंद्र सरकार के एक साल पूरा होने पर निकलने वाली बुकलेट में दावा किया गया है कि परिवहन विभाग के राजस्व में पिछले साल के मुकाबले 140 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई है.

पचौरी कहते हैं कि मैनेजमेंट सरकार की नज़रों में चढ़ने के लिए आंकड़ों का खेल कर रहा है. अगर सचमुच निगम को कमाई हो रही है तो कर्मचारियों, बसों की हालत सुधारने के लिए कुछ पैसा खर्च करे. वरना यह सब झूठ है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर