ऑडिटर्स को 70 हज़ार का लंच करवा दिया वन विकास निगम ने, अलग से बजट हुआ रिलीज़

Robin Singh Chauhan | News18 Uttarakhand
Updated: May 17, 2018, 5:53 PM IST
 ऑडिटर्स को 70 हज़ार का लंच करवा दिया वन विकास निगम ने, अलग से बजट हुआ रिलीज़
वन विकास निगम ने अकाउंटेंट जनरल ऑफिस से आए ऑडिटर्स के ‘लंच’ पर 70 हजार रुपये खर्च कर दिए.
Robin Singh Chauhan | News18 Uttarakhand
Updated: May 17, 2018, 5:53 PM IST
वन विकास निगम में 2016 में हुआ ऑडिट सवालों के घेरे में आ गया है. दरअसल निगम ने अकाउंटेंट जनरल ऑफिस से आए ऑडिटर्स के ‘लंच’ पर 70 हजार रुपये खर्च कर दिए. ऑडिटर्स को खाना खिलाने के नाम पर अलग से बजट तक जारी किया गया. जानकारों का कहना है कि यह ग़लत है और इससे ऑडिट की निष्पक्षता पर सवाल खड़े होते हैं.

उत्तराखण्ड के अकाउंटेंट जनरल ने 2016 में वन विकास निगम का ऑडिट किया था. 22 दिन तक चार ऑडिटर्स ने निगम के खाते खंगाले थे. लेकिन परंपरा के विपरीत निगम ने इनकी ख़ातिरदारी में 70 हजार रुपये खर्च कर डाले. लंच के लिए खाने के जो पैकेट मंगाए गए उसमें एक लंच पैक की  कीमत 500 रुपये थी. ख़ास बात यह है कि इसके लिए बाकायदा अलग से बजट की स्वीकृति भी ली गई.

यह खुलासा आरटीआई एक्टिविस्ट अमर सिंह घुंता को आरटीआई के जवाब में मिला. उत्तराखंड अकाउंटेंट जनरल ऑफ़िस ने आरटीआई एक्टिविस्ट को बताया कि ऑडिट करने वाले कर्मचारियों को आने-जाने और खाने-पीने का खर्च ऑफ़िस ही देता है.

पूर्व आईएएस एसएस पांगती बताते हैं कि कभी-कभार समय बचाने के लिए विभाग ऑडिटर के लिए थोड़े जलपान की व्यवस्था कर लेता है लेकिन अगर इसके लिए अलग से बजट निर्गत कराया जाए और खाने पीने में बडी रकम खर्च की जाए तो यह पूरी तरह आपत्तिजनक है. पांगती कहते हैं कि यह एक तरह से ऑडिटर को सुविधाएं देकर ऑडिट प्रक्रिया प्रभावित करने की कोशिश मानी जा सकती है.

न्यूज़ 18 ने अकाउंटेंट जनरल ऑफ़िस से उनका पक्ष भी जानने की कोशिश की लेकिन न तो कोई अधिकारी कैमरे पर बोलने को तैयार हुआ और न ही मेल का जवाब दिया गया. हालांकि वन विकास निगम के एमडी गंभीर सिंह न्यूज़ 18 से कहा कि वह अभी निगम में नए हैं और इस मामले की जांच करवाएंगे.

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर