लाइव टीवी
Elec-widget

बहुगुणा ने कहा गैरसैंण को राजधानी बनाने के लिए चाहिए 50000 करोड़, हरीश रावत ने करार दिया उत्तराखंड से बेईमानी

Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: November 25, 2019, 12:07 PM IST
बहुगुणा ने कहा गैरसैंण को राजधानी बनाने के लिए चाहिए 50000 करोड़, हरीश रावत ने करार दिया उत्तराखंड से बेईमानी
पूर्व सीएम हरीश रावत ने सवाल पूछा कि विजय बहुगुणा ने गैरसैंण में कैबिनेट करके यह क्यों कहा था कि राजधानी गैरसैंण में होनी चाहिए?

जब उत्तराखंड का बजट कुल 48,000 करोड़ का ही है तो गैरसैंण में राजधानी बनाने के लिए प्रदेश के पास 50000 करोड़ रुपये आएंगे कैसे?

  • Share this:
देहरादून. एक बार फिर से उत्तराखंड (Uttarakhand) में गैरसैंण (Gairsain) के मामले पर राजनीति गरमाई हुई है. बीजेपी (BJP) कांग्रेस (congress) से इतर इस मामले में प्रदेश के दो पूर्व मुख्यमंत्री आमने-सामने आ गए हैं. एक ओर पूर्व सीएम विजय बहुगुणा (Vijay Bahuguna) ने कहा कि 50 हजार करोड़ रुपये आ जाएंगे तो राजधानी बन जाएगी. वहीं पूर्व सीएम हरीश रावत (Harish Rawat) ने कहा कि बहुगुणा ने गैरसैंण के मुद्दे पर बेईमानी की है और उन्हें लोगों से माफ़ी मांगनी चाहिए.

सभी दलों को मिलकर फ़ैसला करना है

उत्तराखंड की राजनीतिक में एक-दूसरे के धुर विरोधी रहे विजय बहुगुणा और हरीश रावत एक बार फिर से आमने सामने हैं. गैरसैंण में सत्र करवाए जाने की बात से शुरु हुआ मामला अब गैरसैंण को राजधानी बनाने तक आ गया है.

गैरसैंण को राजधानी बनाने को लेकर पूर्व सीएम विजय बहुगुणा ने कहा कि जब उत्तराखंड के पास 50,000 करोड़ रुपये आज जाएंगे तब राजधानी बन जाएगी. विजय बहुगुणा ने कहा कि सब राजनीतिक दलों को एक साथ मिलकर बैठक कर ये फैसला लेना है.

आमने-सामने दो पूर्व मुख्यमंत्री 

दरअसल जब बहुगुणा सीएम थे तब वह कांग्रेस में थे लेकिन हरीश रावत के बहुगुणा से सत्ता लेने के बाद बहुगुणा भाजपा में शामिल ही नहीं हुए बल्कि 2016 में कांग्रेस तोड़ डाली थी. लंबे समय बाद एक बार फिर हरीश और बहुगुणा आमने-सामने हैं.

पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा विजय बहुगुणा ने गैरसैंण में कैबिनेट करके यह क्यों कहा था कि राजधानी गैरसैंण में होनी चाहिए. उन्होंने इसे उत्तराखंड की जनता के साथ बेईमानी करार दिया और कहा कि बहुगुणा को अपने बयान पर उत्तराखंड से माफ़ी मांगनी चाहिए.
Loading...

जब उत्तराखंड का बजट कुल 48,000 करोड़ का ही है तो गैरसैंण में राजधानी बनाने के लिए प्रदेश के पास 50000 करोड़ रुपये आएंगे कैसे? यानी नौ मन तेल होगा और न राधा नाचेगी.

ये भी देखें: 

गैरसैंण में ज़मीन बिक्री पर रोक हटने का विरोध शुरु, कहा जा रहा- राज्य आंदोलन की भावना से छल

हरीश रावत की सीएम त्रिवेंद्र को दो-टूक... गैरसैंण में सत्र करे, पहुंचेंगे सभी कांग्रेसी विधायक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 11:16 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...