VIDEO: देखिए कैसे हमला करता है अपने शिकार पर पाइथन

देहरादून के नवादा से फॉरेस्ट टीम ने इसी हप्ते पंद्रह फीट लंबा पायथन रेसक्यू किया.
देहरादून के नवादा से फॉरेस्ट टीम ने इसी हप्ते पंद्रह फीट लंबा पायथन रेसक्यू किया.

पंद्रह फीट लंबे और पचास से पचपन किलो वज़नी अजगर को ले जाने के लिए बाकायदा पिंजरा लाना पड़ा था.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड के 70 फ़ीसदी से ज़्यादा भूभाग पर जंगल हैं. इतनी बड़े क्षेत्र में जंगल होने का अर्थ है कि वन्यजीव भी ज़्यादा हैं. इतने ज़्यादा कि कुछ वन्य जीव विशेषज्ञों के अनुसार देश और दुनिया में मानव-वन्यजीव संघर्ष की सबसे ज़्यादा घटनाएं यहीं होती हैं. बाघ और गुलदार के अलावा भालू के हमलों की रोज़ कोई न कोई ख़बर आती है. इसी तरह सांपों के घर में घुस जाने की भी. हाल ही में नैनीताल में सड़क पर एक किंग कोबरा के घोड़ापछाड़ सांप का शिकार करने का वीडियो वायरल हुआ था और अब हम आपको दिखा रहे हैं कि कैसे एक बेहद शक्तिशाली पाइथन अपने शिकार पर हमला करता है.

15 फ़ीट लंबा अजगर 

देहरादून के नवादा से फॉरेस्ट टीम ने इसी हफ़्ते पंद्रह फीट लंबा पायथन रेसक्यू किया. यह पायथन नवादा निवासी एक व्यक्ति की गौशाला में घुस गया था. पचास से पचपन किलो वज़नी अजगर को ले जाने के लिए बाकायदा पिंजरा लाना पड़ा जिसे बाद में सकुशल घने जंगल में रिलीज कर दिया गया.




उत्तराखंड में सांप, अजगर बड़ी संख्या में पाए जाते हैं. इस साल अभी तक सांप के काटने से चार लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 14 लोग सांप के हमले में घायल हुए हैं. इसी तरह 2019 में 19 लोगों की सांप के काटने से मौत हुई थी जबकि 79 लोग सांप के हमलों में घायल हुए. 2019 में वन्यजीवों के हमलों में मरने वाले लोगों में सांपों के काटने से सबसे ज़्यादा की मौत हुई थी.

हाल ही में एक घर में कार के नीचे घुसे सांप को निकालने पहुंची वन विभाग की टीम पर भी बेहद ज़हरीले कॉमन क्रेट सांप ने हमला कर दिया था, देखें वीडियो. इस वनकर्मी तुरंत ही नज़दीकी अस्पताल ले जाया गया और समय पर इलाज मिलने से उसकी जान बच सकी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज