मौसम का पूर्वानुमान होगा सटीक, 4 महीने में लगेंगे 179 AWS, 18 महीने में डॉप्लर राडार

News18Hindi
Updated: January 12, 2018, 11:02 AM IST
 मौसम का पूर्वानुमान होगा सटीक, 4 महीने में लगेंगे 179 AWS, 18 महीने में डॉप्लर राडार
News18Hindi
Updated: January 12, 2018, 11:02 AM IST
अगले चार महीने में 179 ऑटोमेटिक वेदर स्टेशन स्थापित हो जाएंगे. डॉप्लर राडार के लिए मसूरी, मुक्तेश्वर और पिथौरागढ़ में स्थल का चयन कर लिया गया है. स्थापित करने की प्रक्रिया 18 महीने में पूरी हो जाएगी. पहला डॉप्लर रडार मसूरी में लगाया जाएगा.

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने गुरुवार को सचिवालय में भारतीय मौसम विभाग के उप महानिदेशक डॉक्टर डी प्रधान के साथ विचार विमर्श के दौरान यह जानकारी दी.

मुख्य सचिव ने कहा कि यात्रियों की सुविधा के लिए उन्हें मौसम की रियल टाइम जानकारी दी जाय. कहा कि मानसून से पहले ऑटोमेटिक वेदर स्टेशन स्थापित कर दिए जाए. एसएमएस के अलावा यात्रा मार्ग पर जगह जगह डिस्प्ले बोर्ड भी लगाया जाए.

बताया गया कि ऑटोमेटिक वेदर स्टेशन लगने से रियल टाइम पूर्वानुमान करने में सुविधा होगी. राज्य के हर ब्लॉक में स्टेशन की स्थापना होगी. इससे बाढ़, बारिश, हिमस्खलन, बादल फटने, तूफान, ओलावृष्टि की जानकारी मिल सकेगी. पर्यटन, खेती, बागवानी, आपदा से बचाव में मदद मिलेगी.

स्टेशन के संचालन और तकनीकी सपोर्ट के लिए भारतीय मौसम विभाग से एमओयू किया गया है. स्टेशन का डेटा भारतीय मौसम विभाग के नेटवर्क से जुड़ जाएगा. हर 15 मिनट में मौसम के पूर्वानुमान का रियल टाइम डेटा मिलता रहेगा.

बताया गया कि सात ऑटोमेटिक वेदर स्टेशन को वीसेट और अन्य को जीपीआरएस से चलाया जाएगा. इसमें 28 ऑटो रेन गेज, 25 एडवांस सरफेस ऑब्जरवेशन, 16 ऑटो स्नो गेज भी शामिल है.

बैठक में अपर सचिव सविन बंसल, निदेशक भारतीय मौसम केंद्र देहरादून बिक्रम सिंह सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे.
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Uttarakhand News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर