कांवड़ यात्रा : उत्तराखंड के बैन के बाद आयोजन को लेकर क्या है उत्तर प्रदेश का रुख?

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ.

Kanwar Yatra 2021 : हरिद्वार एक बार फिर कोरोना संक्रमण का केंद्र न बने और उत्तराखंड कोविड की तीसरी लहर का कारण बनने का खतरा नहीं उठाना चाहता. इस फैसले से बेअसर यूपी सरकार कांवड़ यात्रा के पक्ष में पूरी तरह है.

  • Share this:
    देहरादून/लखनऊ. 'इस बारे में पड़ोसी राज्यों से काफी बातचीत के बाद निष्कर्ष यही निकला कि उत्तराखंड में नया वैरिएंट दस्तक दे चुका है और अब हम नहीं चाहते कि हरिद्वार महामारी का केंद्र बन जाए. लोगों की ज़िन्दगी हमारी प्राथमिकता है और हम कोई जोखिम नहीं लेना चाहते.' यह बात उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को पत्रकारों से कही. डेल्टा प्लस वैरिएंट केस राज्य में मिलने के बाद कांवड़ यात्रा को इस साल रद्द करने के फैसले के बारे में सीएम ने साफ कहा कि विशेषज्ञों की चेतावनियों के बाद उत्तराखंड तीसरी लहर का कारण नहीं बनना चाहता. इस बैन के बाद पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में नये सिरे से कांवड़ यात्रा को लेकर रणनीति बनने लगी है.

    आपको न्यूज़18 ने बताया था कि पिछले करीब डेढ़ हफ्ते से उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के बीच कांवड़ यात्रा के आयोजन को लेकर बातचीत चल रही थी. उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीएम धामी से एक से ज़्यादा बार फोन पर बातचीत भी की थी. इस बातचीत के बाद पिछले दिनों उत्तराखंड कांवड़ यात्रा पर लगभग सहमत भी हो गया था, लेकिन जानकारों की चिंताओं और चेतावनियों के बाद ताज़ा फैसले के तौर पर कांवड़ यात्रा को इस साल रद्द किया गया. हालांकि उप्र अब भी इस यात्रा के पक्ष में है और अपने स्तर पर आयोजन करवाने जा रहा है.

    ये भी पढ़ें : केम्प्टी फॉल पर भीड़ की चर्चा थमी नहीं, हर की पौड़ी पर दिखे हज़ारों लोग!

    uttarakhand news, uttar pradesh news, kawad yatra date, kawad yatra schedule, उत्तराखंड न्यूज़, उत्तर प्रदेश न्यूज़, कांवड़ यात्रा डेट, कांवड़ यात्रा शेड्यूल
    इस बार पश्चिमी उत्तर प्रदेश कांवड़ यात्रा का बड़ा केंद्र रहेगा.




    प्रतिबंधों के साथ होगी उप्र में यात्रा
    कांवड़ यात्रा वास्तव में उन श्रद्धालुओं की यात्रा है, जो गंगा के घाटों पर जाकर गंगाजल लेते हैं और अपने गांव या घर ले जाते हैं. वहां इस गंगाजल से देवी देवताओं का अभिषेक किया जाता है. 2019 में जब आखिरी बार यह यात्रा हुई थी, तब इसमें 3.5 करोड़ से ज़्यादा श्रद्धालु हरिद्वार पहुंचे थे. इस यात्रा का बड़ा केंद्र पारंपरिक तौर पर हरिद्वार रहा करता है, लेकिन इस साल उत्तराखंड के फिर इस यात्रा को निरस्त करने पर उप्र अपने स्तर पर आयोजन करवाएगा.

    ये भी पढ़ें : हड़ताल पर हैं इंटर्न डॉक्टर, हाई कोर्ट ने कहा, 'स्टाइपेंड बढ़ाने पर सोचे उत्तराखंड'

    कानून व्यवस्था के लिए यूपी के एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा कि इस साल 25 जुलाई से 6 अगस्त के बीच कांवड़ यात्रा होगी. अधिकारियों ने यह भी बताया कि 2019 में इस यात्रा के दौरान 2 से 3 करोड़ श्रद्धालु पश्चिमी उप्र के तीर्थ स्थानों पर पहुंचे थे. इस साल कोविड प्रोटोकॉल के पालन के साथ ही यात्रा को मंज़ूरी दिए जाने की बात कही गई है और उप्र सरकार ने दावा किया है कि सुनिश्चित करवाया जाएगा कि कोविड नियमों का अनुशासन बना रहे.

    गौरतलब है कि इस बार हरिद्वार के बजाय उप्र के बागपत, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद, मेरठ, बुलंदशहर, हापुड़, अमरोहा, शामली, आगरा, अलीगढ़, सहारनपुर, बरेली, खेड़ी, बाराबंकी, अयोध्या, गोरखपुर, झांसी, संत कबीर नगर, बस्ती, वाराणसी, भदोही, मऊ, मिर्जापुर, सीतापुर और लखनऊ आदि ज़िलों में कां​वड़ियों का ट्रैफिक ज़्यादा रहेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.