RS Election: उत्तराखंड से कौन जाएगा राज्यसभा? दिल्ली से देहरादून तक चर्चा, BJP में उठी यह मांग

उत्तराखंड से राज्यसभा सांसद राज बब्बर का कार्यकाल पूरा होने की वजह से एक सीट खाली हो रही है. इस पर बीजेपी का प्रत्याशी चुना जाना लगभग तय है.
उत्तराखंड से राज्यसभा सांसद राज बब्बर का कार्यकाल पूरा होने की वजह से एक सीट खाली हो रही है. इस पर बीजेपी का प्रत्याशी चुना जाना लगभग तय है.

Rajya Sabha Election: उत्तराखंड से राज्यसभा के लिए BJP की तरफ से शौर्य डोभाल, पूर्व सीएम विजय बहुगुणा और अनिल गोयल के नाम की चर्चा है. कांग्रेस नेता राजबब्बर का कार्यकाल पूरा होने के बाद 9 नवंबर को होना है चुनाव.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड में राज्यसभा चुनाव की सुगबुगाहट शुरू हो गई है. राज्य में संसद के उच्च सदन की की 3 सीटें हैं, लेकिन एक-एक सीट के चुनाव (Rajya Sabha Election) में राजनीति में कोई कमी नहीं रहती. बात इस बार के चुनाव की करें तो तय है कि बीजेपी का उम्मीदवार राज्यसभा जाएगा. चुनाव 9 नवंबर को होना है, जिसकी अधिसूचना आज जारी होगी. अधिसूचना जारी होने के बाद नामांकन की प्रक्रिया होगी और 27 अक्टूबर नामांकन की आखिरी तारीख है. यानी अगले एक हफ्ते में बीजेपी को अपने उम्मीदवार का नाम फाइनल करने के साथ नामांकन भी कराना है. बीजेपी के अंदरखाने चर्चाएं अलग-अलग नामों की हो रही है. इस बात पर भी ज़ोर दिया जा रहा है कि जिसे भी राज्यसभा भेजा जाए उसका सीधा ताल्लुक राज्य से हो, ताकि राज्य के अहम मुद्दे राज्यसभा में उठ सकें.

ये नाम हैं चर्चा में

बीजेपी के अंदर पूर्व सीएम विजय बहुगुणा, अनिल गोयल, शौर्य डोभाल के नाम की चर्चा हो रही है. इसके अलावा हरियाणा में संगठन का काम देख रहे सुरेश भट्ट, मध्य प्रदेश से बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय के नाम की भी चर्चा है. हालांकि उत्तराखंड से बीजेपी का उम्मीदवार कौन होगा इसका फैसला बीजेपी संसदीय बोर्ड को करना है.



25 नवंबर को राज्यसभा की जो सीट खाली हो रही है, उस सीट से फिलहाल कांग्रेस के नेता और एक्टर राजबब्बर सांसद हैं. कमाल की बात यह है कि राजबब्बर अपने कार्यकाल में कभी ना तो उत्तराखंड में सक्रिय दिखे और न ही राज्यसभा में.
राजबब्बर और अनिल बलूनी
राजबब्बर यहां के सांसद रहते हुए भी उत्तराखंड की जनता से कोई ताल्लुक नहीं जोड़ पाए. हालांकि वे उत्तर प्रदेश में पूरी तरह सक्रिय रहे. राजबब्बर यूपी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे और उत्तराखंड से राज्यसभा सांसद रहते हुए लोकसभा चुनाव भी लड़े, जिसमें वह हार गए. इससे भी यह साफ़ हो गया कि उनके लिए उत्तराखंड का कोई महत्व नहीं रहा.

ऐसे में अब बीजेपी के अंदर इस बात की चर्चा हो रही है कि सांसद जो भी हो, उत्तराखंड का हो. बीजेपी के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी भी इसकी एक वजह हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के खास माने जाने वाले अनिल बलूनी ने बीजेपी में अपने प्रभाव का इस्तेमाल उत्तराखंड को विभिन्न योजनाएं दिलवाने में किया है. बतौर राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने उत्तराखंड के लिए अभी तक जितना काम किया है शायद ही किसी और न किया है.

उत्तराखंड से अब तक 13 राज्यसभा सांसद
उत्तराखंड से अब तक कुल 13 सांसदों ने राज्यसभा में प्रतिनिधित्व किया है. इनमें बीजेपी के मनोहर कांत ध्यानी, संघ प्रिय गौतम, सुषमा स्वराज, भगत सिंह कोश्यारी, तरुण विजय और अनिल बलूनी शामिल हैं. वहीं इस लिस्ट में कांग्रेस के हरीश रावत, सतीश शर्मा, सत्यव्रत चतुर्वेदी, महेंद्र सिंह महारा, मनोरमा डोबरियाल शर्मा, राजबब्बर और प्रदीप टम्टा हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज