चार धाम यात्रा के बाद क्या 2021 हरिद्वार कुंभ पर भी लगेगा कोरोना का ग्रहण? मुख्यमंत्री ने कही यह बात

अगर कोरोना का असर ऐसा ही रहा तो कुंभ 2021 पर असर पड़ना तय है यानि देश-दुनिया के श्रदालु कुंभ में कम ही नज़र आएंगे.

अगर कोरोना का असर ऐसा ही रहा तो कुंभ 2021 पर असर पड़ना तय है यानि देश-दुनिया के श्रदालु कुंभ में कम ही नज़र आएंगे.

कोरोना संकट के बीच व्यवस्थाएं बनाना और तैयारी करना त्रिवेंद्र सरकार के लिए बड़ी चुनौती है.

  • Share this:
देहरादून. कोरोना के चलते इस बार चारधाम यात्रा पर बड़ा असर पड़ा है. यात्रा की शुरुआत करना सरकार और शासन के लिए चुनौती बना हुआ है. वहीं अब चिंता इस बात की है कि अगर कोरोना का असर ऐसा ही रहा तो कुंभ 2021 पर असर पड़ना तय है यानि देश-दुनिया के श्रदालु कुंभ में कम ही नज़र आएंगे. एक्सपर्ट्स मानते हैं कि प्रयागराज में 2019 के भव्य और दिव्य कुंभ का संदेश पूरी दुनिया में गया और आयोजन के लिए योगी सरकार की सराहना हुई. ऐसे में उत्तराखंड सरकार के लिए भी ये बड़ा मौका होगा बशर्ते कि ये साल खत्म होने से पहले हालात सुधरें वरना आयोजन करना ही बहुत बड़ी चुनौती है.

बड़ी चुनौती 

रिटायर प्रोफेसर औऱ कॉलमिस्ट अवनीत घिल्डियाल का कहना है कि कुंभ का सीधा मतलब होता है श्रद्धालुओं का जमावड़ा. और जब यह आयोजन उत्तराखंड की आध्यात्मिक राजधानी कही जाने वाले हरिद्वार में हो तो सरकार के लिए चुनौती और बड़ी हो जाती है.

ऐसे में कोरोना संकट के बीच व्यवस्थाएं बनाना और तैयारी करना त्रिवेंद्र सरकार के लिए बड़ी चुनौती है.
साधु-संतों से करेंगे बात 

सीएम त्रिवेंद्र रावत का कहना है कि अभी कुंभ के आयोजन में वक्त है. हरिद्वार में तैयारियों को लेकर काम किया जा रहा है. मुख्यमंत्री का कहना है कि कोरोना के हालात को देखते हुए कुंभ कैसे आयोजित होगा इसे लेकर साधु-संतों से बातचीत की जाएगी.

उत्तराखंड सरकार कोरोना फैलने से पहले कुंभ में 10 करोड़ लोगों के आने का अनुमान जता रही थी लेकिन कोरोना ने पूरी तस्वीर बदल कर रख दी. कोरोना काल में जो तस्वीर पूरी दुनिया में उबर रही है उससे साफ है कि कुंभ की भी रौनक और रंगत छिन सकती है.



ये भी देखें: 


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज