लाइव टीवी

उत्तराखंड में तीसरी संतान होने पर नहीं मिलेगी मैटरनिटी लीव : हाईकोर्ट

News18 Uttarakhand
Updated: September 18, 2019, 5:11 PM IST
उत्तराखंड में तीसरी संतान होने पर नहीं मिलेगी मैटरनिटी लीव : हाईकोर्ट
अंतागढ़ टेपकांड मामले की जांच कर रही SIT को कोर्ट से बड़ा झटका. (सांकेतिक तस्वीर)

हल्द्वानी की एक नर्स की याचिका पर हाई कोर्ट की एकल पीठ ने तीसरी संतान पर भी मातृत्व लाभ (Maternity Leave) देने का फैसला दिया था, राज्य सरकार की अपील पर बड़ी पीठ ने अपने फैसले को पलट दिया.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड (Uttarakhand) में काम करने वाली महिलाओं को तीसरा बच्चा (Third child) होने पर मातृत्व लाभ अधिनियम (Maternity benefit act) के तहत अब अवकाश (Maternity Leave) नहीं मिलेगा. हाईकोर्ट (High Court) ने महिलाओं को तीसरे बच्चे में भी मातृत्व लाभ अधिनियम के तहत अवकाश देने के आदेश को निरस्त कर दिया है. ये आदेश उत्तराखंड हाईकोर्ट की एकलपीठ (Single Bench) ने पिछले वर्ष 2018 में जारी किया था. राज्य सरकार ने एकलपीठ के इस आदेश को विशेष याचिका दायर कर चुनौती दी थी.

पूरा मामला
मिली जानकारी के मुताबिक हल्द्वानी (Haldwani) की रहने वाली उर्मिला मसीह (नर्स) को तीसरी संतान होने पर मातृत्व लाभ अधिनियम के तहत अवकाश नहीं मिला, जिस पर उसने हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी. याचिका में नियमों का हवाला देते हुए नर्स ने कहा कि उसे मातृत्व अवकाश न दिया जाना संविधान के अनुच्छेद 42 के मूल-153 और मातृत्व लाभ अधिनियम की धारा 27 का उल्लंघन करता है.

हाईकोर्ट-high court
तीसरे बच्चे के समय अवकाश नहीं मिलने पर महिला ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी. (सांकेतिक तस्वीर)


सरकार ने दी थी एकलपीठ के फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती
दरअसल, वर्ष 2018 में एकलपीठ ने इस अधिनियम को अवैधानिक (Illegal) घोषित कर दिया था. एकलपीठ के इस आदेश को राज्य सरकार ने हाईकोर्ट में अपील दायर करते हुए चुनौती दी. इसके बाद बीते मंगलवार को मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति रमेश रंगनाथन और न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ में सरकार की तरफ से सीएससी परेश त्रिपाठी ने कहा कि संविधान का अनुच्छेद 42 भाग चार यानी नीति निर्देशक तत्वों में शामिल है, जिसे लागू करने के लिए याचिका दायर नहीं की जा सकती.

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने राज्य सरकार की विशेष अपील स्वीकार करते हुए एकलपीठ का महिलाओं को तीसरे बच्चे में भी मातृत्व लाभ अधिनियम के तहत अवकाश देने के आदेश को निरस्त कर दिया. इसके बाद अब राज्य की सेवाओं में कार्यरत महिलाओं को तीसरा बच्चा होने पर मातृत्व लाभ अधिनियम के तहत अवकाश नहीं मिल सकेगा.
Loading...

ये भी पढ़ें:- पंचायत चुनाव से पहले शराब की एक और खेप पकड़ी, दून में ट्रक से 130 पेटी बरामद

ये भी पढ़ें:- हाईकोर्ट ने दिए सफ़ाईकर्मियों को न्यूनतम वेतन के आदेश, DM ने बढ़ाए 5 रुपये

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 10:57 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...