देहरादून का होम ग्राउंड छोड़कर लखनऊ जाना चाहते हैं अफगानी क्रिकेटर, जानिए क्यों ?

अफगानिस्तान टीम ने देहरादून क्रिकेट स्टेडियम को अपना होम ग्राउंड बना रखा है. लेकिन अब वे दून छोड़कर लखनऊ जाना चाहते हैं. इसकी वजह है कि यहां उन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं नहीं मिल पा रही है.

Robin Singh Chauhan | News18 Uttarakhand
Updated: July 7, 2019, 4:06 PM IST
Robin Singh Chauhan | News18 Uttarakhand
Updated: July 7, 2019, 4:06 PM IST
देहरादून स्थित क्रिकेट स्टेडियम को अपना होम ग्राउंड बनाने वाली अफगानिस्तान क्रिकेट टीम अब देहरादून को छोड़कर लखनऊ का रुख करने जा रही है. अफगानिस्तान क्रिकेट टीम ने बेसिक सुविधाएं नहीं मिलने की वजह से देहरादून छोड़ने का मन बना लिया है. टीम के इस फैसले के पीछे दून में किसी फाइव स्टार होटल का न होना और पर्यटन विभाग की लापरवाही बतायी जा रही है.

देहरादून छोड़कर लखनऊ जाना चाह रहे अफगानी क्रिकेटर

गैरतलब है कि क्रिकेट विश्व कप में बेहतर प्रदर्शन करने वाली अफगानिस्तान टीम ने देहरादून क्रिकेट स्टेडियम को अपना होम ग्राउंड बना रखा है. लेकिन अब वे दून छोड़कर लखनऊ जाना चाहते हैं. इसकी वजह है कि यहां उन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं नहीं मिल पा रही है. यहां एक भी फाइव स्टार होटल नहीं है. यही वजह है कि आईपीएल की कोई टीम देहरादून स्टेडियम में हिस्सा लेने में हिचकिचाती है. पर्यटन व्यवसायी भी मानते हैं कि सरकार को स्ट्रक्चरल डेवलपमेंट के बारे में सोचना चाहिए. हालांकि सरकार की ओर से ऋषिकेश में एक अंतर्राष्ट्रीय स्तर का कन्वेनशन सेंटर बनना प्रस्तावित है.

नहीं मिल पा रही अंतर्राष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं 

होम ग्राउंड से अंतर्राष्ट्रीय स्तर की क्रिकेट टीम का मोह भंग होना कई सवाल खड़े करता है. देहरादून में कई वर्षों से फाइव स्टार होटलों की जरूरत महसूस की जा रही है, जिसकी कमी अभी तक पूरी नहीं की जा सकी है. वहीं सत्ताधारी दल के नेताओं का कहना है कि सरकार इस क्षेत्र में प्रयास कर रही है. प्रदेश में आईपीएल और दूसरे क्रिकेट आयोजन से प्रदेश के पर्यटन को बढ़ावा मिलता है. लेकिन माकूल सुविधाऐं ना होने की वजह से जो सूबे ने हासिल किया अब वो भी गंवाने की कगार पर है.

ये भी पढ़ें - प्रेम प्रसंग में सिरफिरे ने लड़की को मारी गोली, मौके पर मौत

ये भी पढ़ें - 'कांवड़ियों के भेष में असामाजिक तत्व बिगाड़ सकते हैं माहौल'
First published: July 7, 2019, 3:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...