होम /न्यूज /उत्तराखंड /

दिल्ली से भी आगे स्वच्छ और निर्मल हो सकती है यमुना... उत्तराखंड के प्रस्ताव पर केंद्र कर रहा विचार

दिल्ली से भी आगे स्वच्छ और निर्मल हो सकती है यमुना... उत्तराखंड के प्रस्ताव पर केंद्र कर रहा विचार

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है कि उत्तराखंड में यमुना पर रिज़र्वॉयर बनाकर दिल्ली तक साफ़ पानी उपलब्ध करवाया जा सकता है. (फ़ाइल फ़ोटो- यमुनोत्री)

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है कि उत्तराखंड में यमुना पर रिज़र्वॉयर बनाकर दिल्ली तक साफ़ पानी उपलब्ध करवाया जा सकता है. (फ़ाइल फ़ोटो- यमुनोत्री)

सीएम का कहना है कि अगर उत्तराखंड में यमुना घाटी में रिज़र्वॉयर बनाए जाएं तो दिल्ली के वज़ीराबाद से आगे यमुना में साल भर साफ पानी दिख सकता है.

    देहरादून. दिल्ली में वज़ीराबाद से आगे भी यमुना का हाल सुधर सकता है और यह हो सकता है उत्तराखंड में. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इसे लेकर एक योजना तैयार की है और नेशनल गंगा काउंसिल की बैठक में पीएम मोदी को इसका सुझाव दिया है. अब गेंद पीएमओ के पाले में है और वहां से हरी झंडी का इंतज़ार हो रहा है. अगर प्रदेश सरकार की योजना को स्वीकृति मिल गई तो दिल्ली से प्रयागराज तक साल भर यमुना में साफ़ पानी दिखेगा.

    साल भर मिलेगा साफ़ पानी 

    प्रधानमंत्री मोदी की अगुआई में गंगा सफ़ाई का अभियान जारी है और अगर उत्तराखंड के सीएम के सुझाव को पीएमओ की हरी झंडी मिली तो हालत यमुना की भी सुधर सकती है. 14 दिसंबर को नेशनल गंगा काउंसिल की बैठक में सीएम त्रिवेंद्र रावत ने इसका सुझाव खुद प्रधानमंत्री को दिया था.

    सीएम का कहना है कि अगर उत्तराखंड में यमुना घाटी में रिज़र्वॉयर बनाए जाएं तो दिल्ली के वज़ीराबाद से आगे यमुना में साल भर साफ पानी दिख सकता है. उत्तराखंड में रिज़र्वॉयर बनाने में करीब 700 करोड़ रुपये तक का खर्च आएगा. इससे करीब 25 किलोमीटर लंबी झील बनेगी.

    पीएमओ को करना होगा फ़ैसला 

    एक्सपर्ट्स भी इस योजना की ताकीद करते हैं. राज्य योजना आयोग में सलाहकार हर्षपति उनियाल कहते हैं कि अगर सीएम की योजना पर अगर केंद्र की मुहर लगी तो काम आसानी से हो पाएगा और उत्तराखंड से लेकर दिल्ली और यूपी तक यमुना का हाल सुधरेगा.

    गंगा सफ़ाई अभियान पर उत्तराखंड में चल रहे काम की तारीफ़ खुद प्रधानमंत्री मोदी कर चुके हैं. ऐसे में अगर सीएम त्रिवेंद्र के प्लान पर केंद्र सरकार की मुहर लगी तो यमुना की हालत सुधारने का असंभव से लगने वाला प्रोजेक्ट पूरा होगा और फ़ायदा यूपी-उत्तराखंड के साथ दिल्ली को भी होगा.

    ये भी देखें: 

    गंगा की तर्ज पर यमुना के पुनरुद्धार की क़वायद शुरु, FRI बनाएगा डिटेल रिपोर्ट 

    गंगा-यमुना की धरती पर पानी के लिए तरसते लोग, गर्मियां आते ही मच जाता है हाहाकार 

    Tags: PMO, River Yamuna, Trivendra Singh Rawat, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर