Home /News /uttarakhand /

Yogi-Dhami Meeting : लखनऊ में बड़ी बैठक, परिसंपत्ति मसले पर उत्तराखंड को क्या होगा हासिल?

Yogi-Dhami Meeting : लखनऊ में बड़ी बैठक, परिसंपत्ति मसले पर उत्तराखंड को क्या होगा हासिल?

योगी आदित्यनाथ और पुष्कर सिंह धामी.

योगी आदित्यनाथ और पुष्कर सिंह धामी.

Assembly Elections 2022 : जबसे उत्तराखंड अलग राज्य बना है, यानी 21 साल से परिसंपत्तियों के बंटवारे को लेकर विवाद उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के बीच चल रहा है. इन 21 सालों में ऐसा संयोग भी न के बराबर रहा कि केंद्र, यूपी और उत्तराखंड में एक ही पार्टी की सरकार रही हो. यह संयोग BJP के पास है और पिछले कुछ सालों से है तो अब विधानसभा चुनाव (UP-UK Elections) के समय में इस विवाद को सुलझाने की कवायद शुरू की गई है. ताकि बीजेपी खास तौर से उत्तराखंड में यह संदेश दे सके कि उसकी सरकारें (BJP Governments) होने से एक बड़ा फायदा हुआ.

अधिक पढ़ें ...

    देहरादून/लखनऊ. उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के बीच सालों से परिसंपत्ति के बंटवारे को लेकर विवाद की स्थिति रही है और यह मुद्दा 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले एक बार फिर बोतल से निकल रहा है. जानकार मान रहे हैं चूंकि दोनों ही राज्यों में भाजपा की सरकारें और केंद्र में भी इसलिए इस मुद्दे को सुलझाने के लिए ये संयोग मुफीद हैं और इसके चलते इस मुद्दे के कई पहलुओं को सुलझाया जा सकता है. इधर, गुरुवार को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ के साथ उत्तराखंड सीएम पुष्कर सिंह धामी की बैठक से उत्तराखंड उम्मीद कर रहा है कि परिसंपत्तियों के बंटवारे को लेकर राज्य को कुछ महत्वपूर्ण हासिल होगा.

    तय कार्यक्रम के अनुसार धामी और योगी की बैठक लखनऊ में गुरुवार सुबह हो रही है,​ जिसमें खास तौर से इसी मुद्दे पर बातचीत की जाना है. न्यूज़18 संवाददाता दीपांकर भट्ट ने बताया कि हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर में परिसंपत्तियों को लेकर जो विवाद हैं यानी कुंभ की ज़मीन और नहरों के मसले पर कोई बड़ा समझौता हो सकता है और उत्तराखंड के लिए कोई अच्छी खबर धामी ज़रूर लाना चाहेंगे. वास्तव में, दोनों राज्यों में विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी जनता को यह बताना चाह रही है कि दो राज्यों ने मिलकर सालों के विवाद को सुलझाने में क्या कामयाबी हासिल की.

    कौन से मसले बैठक में होंगे खास?
    दोनों राज्यों के बीच परिसंपत्तियों को लेकर कई मसले हैं, जिनमें परिवहन, सिंचाई, राजस्व जैसे कम से कम 11 विभाग सीधे तौर पर मुब्तिला हैं. टिहरी बांध का मसला है, जहां उत्तर प्रदेश की 25 फीसदी हिस्सेदारी अब भी है, अजमेरी गेट के गेस्ट हाउस का मामला हो या फिर कानपुर में रोडवेज़ की वर्कशॉप का मुद्दा हो, इन पर बात हो पाना मुश्किल है क्योंकि ये मामले फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग हैं.

    योगी और धामी की मीटिंग में मुख्य रूप से जिन मुद्दों पर बात हो सकती है, उनमें ऊधमसिंह नगर की 4 नहरों, हरिद्वार की 1 नहर और इन दोनों ज़िलों में ज़मीन संबंधी मामले शामिल हैं. इन मामलों पर माना जा रहा है कि दोनों मुख्यमंत्री किसी सहमति या समझौते पर आज मुहर लगा सकते हैं.

    Tags: Assembly Election 2022, Pushkar Singh Dhami, Up uttarakhand news live, Uttarakhand Assembly Election 2022, Uttarakhand news, Yogi adityanath news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर