होम /न्यूज /उत्तराखंड /नशे की लत छोड़ने पहुंचे थे, बन गए एक्टर...दे रहे अच्छाई का संदेश

नशे की लत छोड़ने पहुंचे थे, बन गए एक्टर...दे रहे अच्छाई का संदेश

Dehradun News: देहरादून के नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती युवा व स्टाफ रामलीला में हिस्सा ले रहे हैं और नशे के खिलाफ युवाओ ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- हिना आज़मी

देहरादून. इन दिनों उत्तर भारत के कई राज्यों में रामलीला शुरू हो चुकी है. उत्तराखंड में वैसे तो अल्मोड़ा शहर की रामलीला बेहद मशहूर है, लेकिन पूरे राज्य में अलग-अलग तरह से इसका मंचन होता है और हर जगह की रामलीला अपने आप में खास होती है. राजधानी देहरादून की बात करें तो यहां कई इलाकों में रामलीला का मंचन किया जाता है. लेकिन इस बार एक खास रामलीला का भी हर ओर जिक्र किया जा रहा है. नशे से जंग लड़ रहे नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती युवा व स्टाफ इस रामलीला में हिस्सा ले रहे हैं और नशे के खिलाफ युवाओं को संदेश दे रहे हैं.

देहरादून के माजरी माफी मोहकमपुर स्थित संकल्प नशा मुक्ति ट्रस्ट द्वारा पहली बार नशे से दूरी बनाते हुए युवा रामलीला के किरदार निभा रहे हैं. नशे के खिलाफ लड़ने वाले ट्रस्ट के युवा ही रामलीला में किरदार निभा रहे हैं. जिंदगी के अंधेरे से निकलकर धर्म की रोशनी से समाज में अलख जगाने के लिए संकल्प नशा मुक्ति केंद्र काम कर रहा है.

संस्था के निदेशक आशुतोष सिंह असवाल रामलीला में लंकापति रावण का किरदार निभा रहे हैं. उन्होंने रामलीला के बारे में कहा किनशे के खिलाफ लड़ने वाले इन युवाओं के साथ मिलकर हम आध्यात्मिक तौर पर लोगों को धर्म से जोड़ने की कोशिश कर रहे हैं. हमारा यह प्रयास लोगों को पसंद आ रहा है. साथ ही युवा भी नशे से जुड़ी बुराइयों को समझ रहे हैं. जाहिर है सामाजिक तौर पर हमारी कोशिश ही युवा पीढ़ी को इस गर्त से निकाल सकती है.

असवाल ने कहा कि इस मंच के माध्यम से समाज को यह संदेश देना चाहता हूं कि नशे से ग्रस्त जो युवा हैं, उनके अंदर प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है. यदि उन्हें एक प्रेरणा और एक सही मार्ग दिखाया जाए, तो वह समाज हित और देश हित में कार्य कर सकते हैं. हमारे देश के युवा नशे की जंजीरों से बाहर निकलकर हमारी संस्कृति को अपनाएं और हमारी संस्कृति से जुड़ी ज्ञानवर्धक बातों को अपने जीवन में अमल करें.

उन्होंने आगे कहा कि युवा हमारे इस अध्यात्मता के कार्यक्रम को अपनाएं ताकि वे नशे को न और जिंदगी को हां कह सकें. भारतवर्ष में रहने वाले प्रत्येक नागरिक का यह कर्तव्य है कि हम सरकार पर निर्भर न रहें. हमारी कुछ नैतिक जिम्मेदारियां हैं. अपने घर के प्रति अपने परिवार के प्रति और अपने समाज के प्रति हम उन जिम्मेदारियों का निर्वहन करें.

राम का किरदार निभाने वाले आदित्य भारद्वाज ने कहा कि श्रीराम ने जिस तरह बुराई पर अच्छाई की विजय प्राप्त की, ऐसे ही हम भी बुरी दुनिया से बाहर निकल कर आए हैं. बता दें कि 26 सितंबर से शुरू हुई यह रामलीला 5 अक्टूबर तक होगी.

देहरादून माजरी माफी ग्राम में 38 साल बाद भव्य रामलीला के मंचन का आयोजन किया जा रहा है, जो प्रतिदिन रात्रि 8 बजे से शुरू होकर करीब 12 बजे तक आयोजित की जा रही है.

Tags: Dehradun news, Durga Puja festival, Lord rama, Navratri Celebration, Ramlila

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें