उत्तराखंड के विकास के लिए अलग मंत्रालय की मांग, बीजेपी के बाद अब कांग्रेस ने भी उठाया मुद्दा

नैनीताल से बीजेपी सांसद अजय भट्ट के बाद अब कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा ने भी मांग की है कि नार्थ ईस्ट की ही तरह सरकार उत्तराखण्ड एवं अन्य हिमालयन राज्यों के लिए अलग अथॉरिटी या मंत्रालय का गठन करे.


Updated: July 8, 2019, 8:26 AM IST
उत्तराखंड के विकास के लिए अलग मंत्रालय की मांग, बीजेपी के बाद अब कांग्रेस ने भी उठाया मुद्दा
उत्तराखंड के लिए अलग मंत्रालय की मांग

Updated: July 8, 2019, 8:26 AM IST
उत्तराखंड एवं अन्य हिमालयी राज्यों के लिए अलग मंत्रालय की मांग से उत्तराखंड की सियासत गरमा गई है. बीजेपी के बाद अब कांग्रेस ने भी उत्तराखंड के विकास के लिए अलग से मंत्रालय की मांग की है. नैनीताल से बीजेपी सांसद अजय भट्ट के बाद अब कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा ने भी मांग की है कि नार्थ ईस्ट की ही तरह उत्तराखण्ड एवं अन्य हिमालयन राज्यों के लिए अलग अथॉरिटी या मंत्रालय का गठन किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि पहाड़ी राज्यों की समस्याएं ही अलग हैं, चाहे पलायन हो या खेती किसानी और इसके लिए अलग से ध्यान देने की ज़रूरत है. सांसद अजय भट्ट भी पहले ये कह चुके हैं कि हिमालयीन राज्य खासकर उत्तराखंड के तेजी से विकास के लिए एक अलग मंत्रालय की ज़रूरत है.

अजय भट्ट के बाद अब टम्टा ने भी उठाया मुद्दा
बीजेपी सांसद अजय भट्ट के बाद अब कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा ने उत्तराखण्ड राज्य के विकास के लिए नए मंत्रालय की मांग कर सियासत को गरमा दिया है. दरअसल बीजेपी हो या कांग्रेस दोनों दल के नेता चाहते हैं कि मोदी सरकार जिस तरह नए मंत्रालयों का गठन कर रही है, एक मंत्रालय इस पर्वतीय राज्य के लिए भी बने.

अलग राज्य के बाद अलग मंत्रालय

कभी उत्तरांचल क्षेत्र के विकास के लिए अलग राज्य का निर्माण हुआ था, जिसे आज उत्तराखंड राज्य के रूप में जाना जाता है. आज एक बार फिर विकास के नाम पर उत्तराखण्ड के नेताओं ने मोदी सरकार से अलग मंत्रालय की मांग उठाई है. सत्ताधारी दल बीजेपी के सांसद हों या विपक्ष में बैठे कांग्रेस नेता. सब चाहते हैं कि उत्तराखण्ड के साथ हिमालयन राज्यों के लिए सरकार अलग मंत्रालय का गठन करे. हालांकि नार्थ ईस्ट के लिए सरकार ने पहले से ही अथारिटी का गठन किया हुआ है, लेकिन सेंट्रल हिमालयीन राज्यों के लिए सरकार ने ऐसा कुछ नही किया है. ऐसे में सब चाहते हैं कि सरकार महत्वपूर्ण कदम उठाए. नैनीताल से पहली बार सांसद बने अजय भट्ट ने कहा कि हमने सरकार मांग की है कि हिमालयी राज्यों के लिए अलग से एक मंत्रालय बने, तभी तेजी से डेवलपमेन्ट होगा खासकर उत्तराखण्ड का.

उत्तराखंड के लिए अलग अथॉरिटी या मंत्रालय
वहीं कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा ने भी उत्तराखण्ड राज्य के लिए अलग मंत्रालय की मांग कर सियासत को और गरमा दिया है. टम्टा ने नार्थ ईस्ट का हवाला देते हुए कहा कि उत्तराखंड के लिए अथॉरिटी या मंत्रालय की जरूरत है तभी सही ढंग से विकास हो पाएगा. हमने पहले भी इस मुद्दे को उठाया था, इस बार भी ताकत के साथ उठाएंगे, पहाड़ी राज्यों की समस्याएं ही अलग हैं, चाहे पलायन हो या खेती किसानी.
Loading...

कुल मिलाकर देखा जाय तो मोदी सरकार पार्ट वन में स्किल डेवलमेंट मंत्रालय और पार्ट टू में जल शक्ति मंत्रालय के गठन के बाद, पहाड़ी राज्यों के नेताओं को भी विकास के नाम पर नए मंत्रालय की आशा जगी है और विकास के नए सपने देखने को मौका मिला है. इस लिए सभी दल एक स्वर में मंत्रालय की मांग कर रहे हैं, लेकिन ये मांग कब पूरी होगी यह बड़ा सवाल है.

(दिल्ली से राजीव तिवारी)

ये भी पढ़ें -

सपना चौधरी को इस डांस Video ने रातों-रात बनाया था सुपरस्टार

DDA का मानसून बोनांजा, दिल्ली में सस्ती जमीन, दुकान और ऑफिस खरीदने का मौका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 8, 2019, 8:21 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...