DM की पत्नी ने सरकारी अस्पताल में लाइन में लग कर करवाया इलाज, नहीं बताई पहचान

जिलाधिकारी सविन बंसल की पत्नी सुरभि शुक्रवार को अपने बच्चे का उपचार करवाने के लिए अस्पताल पहुंची थीं. इस दौरान उन्होंने अपने पति के पद का कोई हवाला नहीं दिया और किसी को यह पता भी नहीं लगने दिया कि वे कौन हैं.

News18Hindi
Updated: July 20, 2019, 8:18 AM IST
DM की पत्नी ने सरकारी अस्पताल में लाइन में लग कर करवाया इलाज, नहीं बताई पहचान
अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि उन्होंने किसी को भी अहसास नहीं होने दिया कि वे कौन हैं. हालांकि जब वे जा रही थीं तब लोगों को पता चला कि वे कौन हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)
News18Hindi
Updated: July 20, 2019, 8:18 AM IST
उत्तराखंड के नैनीताल के बीडी पांडेय अस्पताल के बाहर एक महिला अपने बच्‍चे के साथ पर्ची कटवाने के लिए अन्य मरीजों के साथ लाइन में लगी है. कुछ समय खड़े रहने के बाद उसने काउंटर से पर्ची कटवाई और फिर एक बार डॉक्टर के कमरे के बाहर लगी मरीजों की लाइन में लग गई. अपनी बारी आने के बाद बच्चे का उपचार करवाया और फिर चुपचाप बाहर निकल गई. सुनने में यह एक अस्पताल की आम दिनचर्या का हिस्सा लगे लेकिन इस छोटे से वाक्ये ने सादगी की बड़ी मिसाल पेश कर दी है. दरअसल यह महिला नैनीताल के जिलाधिकारी सविन बंसल की पत्नी सुरभि थीं.

नहीं बताई अपनी पहचान
नवभारत टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार सुरभि शुक्रवार को अपने बच्चे का उपचार करवाने के लिए अस्पताल पहुंची थीं. इस दौरान उन्होंने अपने पति के पद का कोई हवाला नहीं दिया और किसी को यह पता भी नहीं लगने दिया कि वे कौन हैं. उन्होंने अपनी पहचान छुपा कर आम मरीजों की तरह लाइन में खड़े रहकर पहले पर्ची कटवाई और फिर डॉक्टर से इलाज करवाया. इस दौरान करीब आधा घंटे तक वे लाइन में लगी रहीं.

डीएम की गाड़ी दिखी तो चला पता

अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि उन्होंने किसी को भी अहसास नहीं होने दिया कि वे कौन हैं. हालांकि जब वे जा रही थीं तब लोगों को पता चला कि वे कौन हैं. जैसे ही वे डॉक्टर को दिखाने के बाद अस्पताल के बाहर निकलीं तो जिलाधिकारी की गाड़ी उनको लेने आई. इस दौरान जब चिकित्सकों और अस्पताल के अन्य अधिकारियों की नजर गाड़ी पर पड़ी तो पता चला कि जो महिला अभी अपने बच्चे का उपचार करवा कर बाहर निकली हैं वे और कोई नहीं जिलाधिकारी सविन बंसल की पत्नी सुरभि हैं. जब तक अस्पताल के अधिकारी उन तक पहुंचते वे गाड़ी में सवार होकर रवाना हो चुकी थीं. इसके बाद यह खबर पूरे शहर में तेजी से फैली और उनकी सादगी की सभी तारीफ करते दिखे.

यह भी पढ़ेंः अब पूरा देहरादून MDDA का... त्यूणी, कालसी तक भी सुनियोजित विकास का रास्ता खुला

एमडीडीए दफ्तर से कंपाउंडिग फाइल गायब, विजिलेंस को थमाई डमी फाइल
First published: July 20, 2019, 7:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...