Home /News /uttarakhand /

Dehradun: सचिवालय और विधानसभा में नौकरी के नाम पर 65 लाख की ठगी, एक गिरफ्तार, दो फरार

Dehradun: सचिवालय और विधानसभा में नौकरी के नाम पर 65 लाख की ठगी, एक गिरफ्तार, दो फरार

देहरादून में सचिवालय और विधानसभा में नौकरी लगवाने के नाम कर कई लोगों से लाखों रुपये की ठगी की गई.

देहरादून में सचिवालय और विधानसभा में नौकरी लगवाने के नाम कर कई लोगों से लाखों रुपये की ठगी की गई.

Uttarakhand Vidhan Sabha job fraud: देहरादून में सचिवालय और विधानसभा में नौकरी लगवाने के नाम कर कई लोगों से लाखों रुपये की ठगी की गई. इतना ही नहीं ठगी के लिए आरोपियों ने सचिवालय और विधानसभा के भीतर खाली पड़े कमरों में भरोसा दिलाने के लिए इंटरव्यू भी लिए गये. थाना पटेलनगर में कुछ दिन पहले एक पीड़ित मनीष कुमार ने इसकी शिकायत की. उसका आरोप था कि कमल पाण्डेय ललित और मनोज नाम के तीन व्यक्तियों ने उनके साथ करीब 9 लोगों को झांसे में लेकर सरकारी नौकरी के ऐवज में करीब 65 लाख रुपये लिए हैं.

अधिक पढ़ें ...

देहरादून. देहरादून (Dehradun) से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. सचिवालय (Secretariat) और विधानसभा (Vidhan Sabha) में नौकरी लगवाने के नाम कर कई लोगों से आरोपियों ने लाखों रुपये ठगे गए. इतना ही नहीं ठगी के लिए आरोपियों ने सचिवालय और विधानसभा के भीतर खाली पड़े कमरों में भरोसा दिलाने के लिए इंटरव्यू भी लिए गये.

दरअसल, थाना पटेलनगर में कुछ दिन पहले एक पीड़ित मनीष कुमार ने एक शिकायती पत्र दिया था. पत्र में लिखा था कि कमल पाण्डेय ललित और मनोज नाम के तीन व्यक्तियों ने उनके साथ करीब 9 लोगों को झांसे में लेकर सरकारी नौकरी के ऐवज में करीब 65 लाख रुपये लिए हैं. साथ ही उनका सचिवालय में इन्टरव्यू भी करवाया गया और उनको नौकरी के लिए नियुक्ति पत्र भी दिए गये.

इसे भी पढ़ें : अल्मोड़ा सीट पर BJP में फूट, रघुनाथ सिंह चौहान बोले- मुझे नहीं तो कैलाश शर्मा को भी न मिले टिकट

जब ज्वायनिंग का समय आया तो व्यक्तियों द्वारा कहा कहा गया कि सरकारी वेकेंसी निरस्त हो गई है, इससे उनकी ज्वायनिंग रुक गई है. लेकिन पीड़ितों द्वारा जब पैसा वापस मांगा गया तो अंडरग्राउंड हो गये. लोगों ने जब पता किया तो बड़ा खुलासा हुआ कि नौकरी का लेटर ही फर्जी था. इस तरह कई पीड़ितों के साथ ठगी हुयी है.

इसे भी पढ़ें : Uttarakhand Chakrala accident: मारे गए लोगों के परिजनों को केंद्र देगा 2-2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि

पीड़ित मनीष कुमार ने खुद के साथ ठगी की आशंका जताई, और थाना पटेलनगर में तहरीर दी. जिसपर हुए मुकदमे में एक आरोपी कमल किशोर को पुलिस ने अरेस्ट भी कर लिया है, जबकि दो आरोपी अभी फरार हैं. वहीं पुलिस द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक़ पुरे प्रकरण के तार कहीं न कहीं सचिवालय और विधानसभा से भी जुड़े हो सकते हैं जिसपर पुलिस छानबीन कर रही है.

इसे भी पढ़ें : विकास नगर में सवारियों से भरी गाड़ी खाई में गिरी, अब तक 13 की मौत, 2 की हालत गंभीर

वहीं मामले में एडिशनल एसपी हिमांशु वर्मा का कहना है कि तहरीर के बाद जांच शुरू की गयी थी, जिसमें मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस टीम ने एक आरोपी को अरेस्ट किया है. अन्य की तलाश जारी है. साथ ही पुलिस अब सचिवालय में जुड़े तारों को भी खंगाल रही है कि इतनी बड़ी ठगी में क्या कुछ लोग सचिवालय से भी जुड़ें हैं.

Tags: Dehradun news, Secretariat job, Uttarakhand job fraud, Vidhan Sabha job cheated

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर