Haldwani news

हल्द्वानी

अपना जिला चुनें

हल्द्वानी-कर्णप्रयाग तक बने ऑल वेदर रोड, राज्य मंत्री अजय भट्ट ने परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से की मांग

अजय भट्ट ने नितिन गडकरी से मुलाकात की.

अजय भट्ट ने नितिन गडकरी से मुलाकात की.

केंद्रीय राज्यमंत्री भट्ट ने केंद्रीय परिवहन मंत्री से मुलाकात कर चार धाम यात्रा को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए यात्रियों की कठिनाइयां बताईं. हालांकि हाई कोर्ट ने 18 अगस्त तक चार धाम यात्रा को स्थगित किया है.

SHARE THIS:

हल्द्वानी. पिछले​ दिनों केंद्र सरकार में राज्य मंत्री बनाए गए उत्तराखंड से सांसद अजय भट्ट ने केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से गुरुवार को मुलाकात की. इस दौरान भट्ट ने हल्द्वानी से कर्णप्रयाग के बीच ऑल वेदर रोड बनाने की मांग केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री के सामने रखी. नैनीताल-ऊधम सिंह नगर से सांसद अजय भट्ट ने इस रास्ते का महत्व और उपयोगिता बताते हुए गडकरी से कहा कि यह मार्ग धार्मिक यात्रा के साथ ही अंतर्राज्यीय परिवहन के लिहाज़ से महत्वपूर्ण है.

केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्यमंत्री भट्ट ने नितिन गडकरी से मुलाकात के दौरान कहा कि कुमाऊं के साथ ही नेपाल और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के रोहेलखंड वाले इलाके के लोग इसी रास्ते से पीढ़ी दर पीढ़ी चार धामों की पैदल यात्रा करते रहे हैं. यही वजह है कि बाद में हल्द्वानी से गरमपानी, रानीखेत होते हुए कफड़ा-द्वाराहाट-चौखुटिया-पंडुवाखाल-गैरसैंण होते हुए चार धाम यात्रा के लिए जाते हैं. इस रास्ते को समय के मुताबिक चौड़ा करना ज़रूरी है. ऑल वेदर प्रोजेक्ट के ज़रिये इसे किया जा सकता है इसलिए भट्ट ने इस रोड को ऑल वेदर रोड प्रोजेक्ट में शामिल करने की मांग की ताकि कुमाऊं मंडल के लोग आराम से चार धामों की यात्रा कर सकें.

ये भी पढ़ें : उत्तराखंड कांग्रेस का मिशन 2022 शुरू, कार्यकारी अध्यक्षों को सौंपे काम, पार्टी युद्धस्तर पर तैयार

यूएस नगर-नैनीताल रोड पर भी हुई बात
उत्तराखंड में इस समय ऑल वेदर सड़कों का काम ज़ोरों पर चल रहा है. चार धामों को जोड़ने वाली ऋषिकेश-कर्णप्रयाग और टनकपुर-पिथौरागढ़ रोड का काम इनमें शामिल है. इसी प्रोजेक्ट में भट्ट ने हल्द्वानी-कर्णप्रयाग रोड को भी शामिल किए जाने का प्रस्ताव रखा. इसके अलावा, ऊधम सिंह नगर और नैनीताल को जोड़ने वाली रोड का मामला भी भट्ट ने उठाया. भट्ट ने लिखित मांग में कहा कि सरदार नगर-बाजपुर-केशोवाला-बन्ना खेड़ा-बैलपड़ाव-कालाढूंगी तक रोड को चौड़ा किया जाना है लेकिन ये काम नहीं हो पा रहा है. उन्होंने केंद्रीय मंत्री से इस बारे में तेज़ी से काम करवाने की मांग भी की.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हल्द्वानी: BJP नैनीताल जिलाध्यक्ष के घर धमाका, पुलिस ने जांच में मांगी सेना से मदद

हल्द्वानी में बीजेपी के नैनीताल जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट के घर में देर रात विस्फोट हो गया.

Uttarakhand Blast: हल्द्वानी में बीजेपी के नैनीताल जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट के घर में देर रात विस्फोट हो गया. धमाके की आवाज के साथ मुहल्ला दहल गया. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच शुरू कर दी है. इसमें कोई जनहानि नहीं हुई है, लेकिन घर के सामान को नुकसान पहुंचा है. पुलिस ने इसकी जांच में सेना से मदद मांगी है.

SHARE THIS:

हल्द्वानी. हल्द्वानी (Haldwani) में बीजेपी के नैनीताल (Nainital) जिला अध्यक्ष प्रदीप बिष्ट (Pradeep Bisht) के घर मंगलवार देर रात अचानक एक धमाका हो गया. धमाके के साथ घर में रखा बिजली का सामान तहस-नहस हो गया. घर के खिड़की दरवाजे भी टूट गए. धमाके की सूचना पर तुरंत प्रशासनिक अमला बीजेपी जिला अध्यक्ष के घर पर पहुंचा. साथ ही फॉरेंसिक और बम निरोधक दस्ते को भी मौके पर बुला लिया गया.

डीआईजी कुमाऊं नीलेश आनंद भरणे के मुताबिक पुलिस टीम ने जांच कर रही है कि आखिर बीजेपी जिला अध्यक्ष के घर किन परिस्थितियों में धमाका हुआ है. हालांकि एक आशंका आकाशीय बिजली गिरने की भी बताई जा रही है, जबकि दूसरी वजह किसी विस्फोटक फटने या गैस का रिसाव बताया जा रहा है. फॉरेंसिक एक्सपर्ट एविडेंस जुटा रहे हैं. जिस समय विस्फोट हुआ उस समय बीजेपी जिलाध्यक्ष और उनका पूरा परिवार गहरी नींद में था, हालांकि घटना में किसी भी पारिवारिक जनों को कोई नुकसान नहीं हुआ है.

पुलिस लेगी एनआईए और सेना की मदद

डीआईजी कुमाऊं नीलेश आनंद भरणे के मुताबिक बीजेपी जिला अध्यक्ष के घर हुआ धमाका बेहद संदिग्ध है. यह विस्फोट किन कारणों से हुआ इसकी जांच के लिए पुलिस सेना के साथ ही आईटीबीपी और एनआईए की मदद ले रही है, ताकि पता लग सके कि विस्फोटक किस तरह का था.

किसी विस्फोट की ओर इशारा

बीजेपी जिला अध्यक्ष प्रदीप बिष्ट के घर जो विस्फोट हुआ है उसमें मौजूद साक्ष्य इस ओर इशारा कर रहे हैं कि यह कोई लो इंटेंसिटी ब्लास्ट हो सकता है. हालांकि शुरुआती तौर पर पुलिस को विस्फोटक होने के तथ्य नहीं मिले हैं, क्योंकि इससे घर की दीवारों को कोई नुकसान नहीं हुआ है, बल्कि खिड़की दरवाजे जैसी कमजोर चीजों को ही नुकसान हुआ है. Bjp जिलाध्यक्ष के घर जैसे ही विस्फोट की सूचना पार्टी कार्यकर्ताओं को लगी वह मौके पर पहुंच गए.

हल्द्वानी में BJP नेता के घर हुआ जोरदार धमाका, पुलिस ले रही NIA की मदद, VIDEO में देखें कैसा रहा असर

भाजपा पदाधिकारी के घर हुए धमाके में खिड़की दरवाज़े टूट गए.

Blast At BJP Distict Pressident’s House: उत्तराखंड से बड़ी खबर यह आई है कि भाजपा के एक ज़िला अध्यक्ष के घर पर रात में धमाका हो गया. धमाका इतना ज़ोरदार था कि खिड़कियां, दरवाज़े वगैरह तहस-नहस हो गए. फॉरेंसिक टीम के साथ ही जांच में एनआईए और सेना की मदद ली जा रही है.

SHARE THIS:

हल्द्वानी. भारतीय जनता पार्टी के नैनीताल के जिला अध्यक्ष प्रदीप बिष्ट के घर मंगलवार देर रात अचानक एक धमाका हो गया, जिसमें घर के अंदर रखा सामान तहस-नहस हो गया. यही नहीं, धमाका इतना तेज़ था कि घर के खिड़की और दरवाज़ों के कांच वगैरह भी टूट गए. हल्द्वानी स्थित घर में हुए धमाके की सूचना दिए जाने पर तुरंत प्रशासनिक अमला बीजेपी जिला अध्यक्ष के घर पहुंचा. धमाके से जुड़ी जानकारियां जुटाने के लिए फॉरेंसिक और बम निरोधक दस्ता भी मौके पर बुला लिया गया.

धमाके की वजह को लेकर दो कारण सामने आ रहे हैं, जिनके बारे में जांच की जा रही है. पुलिस टीम अब तक जांच कर रही है कि आखिर किन परिस्थितियों में बिष्ट के घर धमाका हुआ था. हालांकि एक वजह आकाशीय बिजली की बताई जा रही है, जबकि दूसरी वजह किसी विस्फोटक के फटने या गैस रिसने की आशंका से जुड़ी है. यह बात सामने आ चुकी है कि जिस समय विस्फोट हुआ, उस समय बिष्ट और उनका पूरा परिवार गहरी नींद में था. इस घटना में घर के किसी सदस्य को किसी तरह का नुकसान न होने की बात कही गई है.

ये भी पढ़ें : बड़े ऐलान से पहले AAP के प्रदेश अध्यक्ष कलेर ने दिया इस्तीफा, CM धामी के खिलाफ ठोकेंगे ताल

पुलिस लेगी एनआईए और सेना की मदद
डीआईजी कुमाऊं नीलेश आनंद भरणे के मुताबिक बीजेपी जिला अध्यक्ष के घर हुआ धमाका बेहद संदिग्ध है. यह विस्फोट किन कारणों से हुआ इसकी जांच के लिए पुलिस सेना के साथ ही आईटीबीपी और एनआईए की मदद ले रही है ताकि पता लग सके कि विस्फोटक किस तरह का था. फॉरेंसिक टीम द्वारा जांच किए जाने की बात भी कही जा चुकी है.

ये भी पढ़ें : उत्तराखंड को मिला नया राज्यपाल, चीन मामलों के एक्सपर्ट पूर्व ले. जनरल गुरमीत सिंह ने ली शपथ

क्या कह रही है शुरुआती जांच?
बिष्ट के घर जो विस्फोट हुआ, उसमें मौजूद साक्ष्य इस ओर इशारा कर रहे हैं कि यह कोई लो इंटेंसिटी ब्लास्ट हो सकता है. हालांकि शुरुआती तौर पर पुलिस को विस्फोटक होने के तथ्य नहीं मिले हैं, क्योंकि इससे घर की दीवारों को कोई नुकसान नहीं हुआ है, बल्कि खिड़की दरवाजे जैसी कमजोर चीजें ही टूटी-फूटी हैं. बता दें कि जिलाध्यक्ष की घर जैसे ही विस्फोट की सूचना सहयोगी कार्यकर्ताओं को लगी, सभी मौके पर पहुंचे. पार्टी के प्रदेश स्तरीय पदाधिकारियों ने भी बिष्ट के घर पहुंचकर मुआयना किया.

उत्तराखंड का इकलौता इनामी माओवादी कमांडर हिरासत में, 2017 से था फरार, कई जगह ली थी ट्रेनिंग

गिरफ्तार किया गया माओवादी भास्कर पांडे

Maoist commander Arrested In Uttrakhand : उत्तराखंड में गिरफ्तार हुए माओवादी कमांडर भास्कर पांडे पर 20000 रुपए का इनाम घोषित था. यह राशि बढ़ाए जाने की कवायद चल रही थी. उसे हिरासत में लेने के बाद पुलिस ने दावा किया है कि उत्तराखंड का आखिरी माओवादी पकड़ा जा चुका है.

SHARE THIS:

हल्द्वानी. उत्तराखंड पुलिस के हाथ बड़ी कामयाबी तब लगी, जब 20000 का इनामी माओवादी भास्कर पांडे गिरफ्तार कर लिया गया. साल 2017 से फरार चल रहे पांडे की गिरफ्तारी का खुलासा करते हुए कुमाऊं के डीआईजी नीलेश आनंद भरणे ने बताया कि अल्मोड़ा पुलिस और कुमाऊं एसडीएफ की संयुक्त कार्रवाई के दौरान गिरफ्तार किया गया पांडे उत्तराखंड का एकमात्र ऐसा माओवादी था, जिस पर इनाम घोषित था और वो फरार चल रहा था.

उत्तराखंड समेत देश के कई राज्यों में माओवादी गतिविधियों को संचालित करने वाला पांडे ट्रेंड माओ कमांडर और कोर ग्रुप का सदस्य बताया जाता है. पांडे के बारे में बताया गया कि साल 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान नैनीताल की धारी तहसील में उसने चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश की थी. इस दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया था. एक गाड़ी में आग लगाने के आरोपी पांडे ने 2019 के लोकसभा चुनाव के समय अल्मोड़ा के सोमेश्वर में एक अन्य माओवादी खीम सिंह बोरा के साथ मिलकर माओवादी गतिविधियों को अंजाम देने की कोशिश की थी. खीम सिंह बोरा, भगवती भोज और देवेंद्र चम्याल जैसे पांडे के साथी पहले ही सलाखों के पीछे पहुंच चुके हैं.

uttarakhand news, uttarakhand crime news, crime news, wanted maoist, उत्तराखंड न्यूज़, उत्तराखंड अपराध समाचार, उत्तराखंड क्राइम न्यूज़, वॉंटेड माओवादी

इनामी माओवादी की गिरफ्तारी को लेकर उत्तराखंड पुलिस ने ट्वीट किया.

कच्चा चिट्ठा : 50000 तक बढ़ने वाला था इनाम
2017 के अल्मोड़ा और नैनीताल के लोक संपत्ति अधिनियम और विधि विरुद्ध क्रियाकलाप निवारण अधिनियम के अंतर्गत तीन मुकदमे पांडे पर दर्ज थे. इन्हीं मामलों को लेकर वह फरार था. पुलिस के मुताबिक पांडे पर इनाम 20 से बढ़ाकर 50 हजार करने के लिए शासन को लिखा गया था. हल्द्वानी में एक कोरियर के तौर पर पेनड्राइव तथा कुछ लिखित मटेरियल डिलीवर भी किया करता था. किसान आंदोलन में भी सक्रिय बताया जा रहा पांडे उस खीम सिंह बोरा का सबसे खास साथी माना जाता है, जिसे यूपी एसटीएफ ने पकड़ा था. कई जगहों पर माओवाद की ट्रेनिंग ले चुके पांडे की गिरफ्तारी पर डीजीपी अशोक कुमार ने पुलिस टीम को बीस हजार का इनाम और मेडल घोषित किया.

Uttarakhand Assembly Elections का ब‍िगुल फूंकेंगे केजरीवाल, 19 सितंबर को हल्‍द्वानी का करेंगे दौरा

सीएम केजरीवाल अब 19 स‍ितंबर को उत्‍तराखंड का दौरा करेंगे. (File Photo)

Assembly Election 2022: आम आदमी पार्टी के राष्‍ट्रीय संयोजक और द‍िल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरव‍िंद केजरीवाल पांच राज्‍यों में लगातार दौरा कर कार्यकर्ताओं में जोश भरने का काम कर रहे हैं. साथ ही आम जनसभाओं व रोड शो के जर‍िये लोगों से सीधे संवाद भी कर रहे हैं. वहीं, उत्‍तराखंड पर खास फोकस बनाते हुये सीएम केजरीवाल अब 19 स‍ितंबर को उत्‍तराखंड का दौरा करेंगे.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 14, 2021, 14:04 IST
SHARE THIS:

नई द‍िल्‍ली. आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) पांच राज्‍यों में अगले साल होने वाले व‍िधानसभा चुनावों (Assembly Election) को लेकर पुरजोर तरीके से जुटी हुई है. आम आदमी पार्टी (AAP) के राष्‍ट्रीय संयोजक और द‍िल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरव‍िंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) इन राज्‍यों में लगातार दौरा कर कार्यकर्ताओं में जोश भरने का काम भी कर रहे हैं.

साथ ही आम जनसभाओं व रोड शो के जर‍िये लोगों से सीधे संवाद भी कर रहे हैं. उत्‍तराखंड पर खास फोकस बनाते हुये सीएम केजरीवाल अब 19 स‍ितंबर को उत्‍तराखंड (Uttarakhand) का दौरा करेंगे. वह कुमाऊं क्षेत्र (Kumaon region) के हल्द्वानी का दौरा कर जनता से रू-ब-रू होंगे.

बताते चलें क‍ि आप के राष्‍ट्रीय संयोजक व सीएम केजरीवाल की ओर से उत्‍तराखंड में सीएम कैंड‍िडेट (CM Candidate) के नाम का ऐलान पहले ही कर द‍िया है. आम आदमी पार्टी उत्‍तराखंड में कर्नल अजय कोठ‍ियाल (Col Ajay Kothiyal) के सीएम चेहरे पर चुनावी मैदान में उतरेगी.

उत्‍तराखंड में राजनी‍त‍िक जमीन को मजबूत करने के ल‍िए द‍िल्‍ली के ड‍िप्‍टी सीएम मनीष स‍िसोदिया (Manish Sisodia) कई दौरे भी कर चुके हैं. कई बार प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के जर‍िये भी सत्‍ता रूढ़ भाजपा सरकार पर कड़ा प्रहार भी कर चुके हैं. सरकार के कटघरे में आने और राजनी‍तिक घमासान के बीच भाजपा को अपना सीएम भी दो बार बदलना पड़ा है.

ये भी पढ़ें: उत्तराखंड के मंत्री हरक सिंह रावत का दावा: त्रिवेंद्र सिंह को जेल भेजना चाहते थे पूर्व सीएम हरीश रावत

राजनी‍त‍िक सलाहकार मानते हैं क‍ि उत्‍तराखंड में आम आदमी पार्टी की ओर से सीएम कैंड‍िडेट को मैदान में उतारने के बाद से कांग्रेस और भाजपा दोनों ही बड़ी पार्टियों में बैचेनी हो गई है. वहीं आम आदमी पार्टी की राष्‍ट्रीय कार्यकार‍िणी में उत्‍तराखंड को भी जगह दी गई है. उत्‍तराखंड के सीएम कैंड‍िडेट कर्नल अजय कोठ‍ियाल को राष्‍ट्रीय कार्यकार‍िणी में जगह म‍िलने से कार्यकर्ताओं में नई उर्जा का संचार भी हो सकेगा.

इस बीच देखा जाए तो पार्टी इस बार ज‍िन राज्‍यों में व‍िधानसभा चुनाव लड़ने जा रही है उन सभी में सीएम कैंडिडेट का चेहरा उतारने की कोश‍िश में है. पार्टी की ओर से जल्‍द ही पंजाब राज्‍य में सीएम कैंडिडेट के नाम का ऐलान क‍िया जा सकता है. पार्टी उत्‍तर प्रदेश में सभी सीटों पर चुनाव लड़ने की पूरी तैयारी कर चुकी है. यहां पर सीएम केजरीवाल के अलावा ड‍िप्‍टी सीएम मनीष स‍िस‍ोद‍िया और राज्‍यसभा सांसद संजय स‍िंह ने पूरी कमान संभाली हुई है.

ये भी पढ़ें: Uttarakhand: मंत्री के बाद अब BJP विधायक भी धरने पर बैठे, कहा- भाड़ में जाए तुम्हारा टिकट

पार्टी की ओर से गुजरात, गोवा में नामों का ऐलान क‍िया जाएगा. गुजरात (Gujarat) में आम आदमी पार्टी अपना दमखम द‍िखाते हुए न‍िकाय चुनाव में अपनी मजबूत मौजूदगी दर्ज करा चुकी है. अब गुजरात में सीएम व‍िजय रूपाणी के बदले जाने के बाद अब आम आदमी पार्टी को और अच्‍छा राजनीत‍िक पैठ जनता के बीच बनाने का अवसर म‍िल गया है. पार्टी इन राज्‍यों में सस्‍ती बिजली और पानी का केजरीवाल मॉडल पर चुनाव लड़ने की कोश‍िश में जुटी है.

बच्ची से छेड़खानी के आरोपी दारोगा की जमकर हुई पिटाई, देखें वायरल Video

हल्द्वानी में बच्ची से छेड़खानी के आरोप में दारोगा की हुई पिटाई.

Haldwani Video News: मासूम बच्ची के साथ रोज-रोज अश्लील हरकत करने वाले आरोपी दारोगा की घरवालों ने पकड़ कर धुनाई कर दी. हल्द्वानी के दारोगा का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है.

SHARE THIS:

हल्द्वानी. उत्तराखंड के हल्द्वानी से पुलिस विभाग को शर्मसार करने वाली खबर सामने आई है. यहां लोगों ने एक पुलिसवाले को मासूम बच्ची से छेड़खानी के आरोप में जमकर पीटा. आरोपी हल्द्वानी थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर है. पीड़ित बच्ची के घरवालों का आरोप है कि वह लंबे समय से मासूम के साथ अश्लील हरकत कर रहा था. तंग आकर घरवालों ने उसकी हरकत का पहले वीडियो बनाया और उसे पकड़ कर पीट डाला. दारोगा की पिटाई का यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है.

पूरा मामला हल्द्वानी के मुखानी थाना इलाके का है. हल्द्वानी थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर मदन सिंह परिहार पर आरोप है कि वह लंबे समय से एक दुकानदार की बच्ची के साथ अश्लील हरकत कर रहा था. बच्ची के घरवाले उसकी हरकत से परेशान हो गए थे. इसलिए उन्होंने आरोपी दारोगा को पकड़ने की योजना बनाई. बच्ची के घरवालों ने दुकान में कैमरा लगा दिया. रोजाना की तरह बीते दिनों जब आरोपी मदन सिंह परिहार फिर दुकान पर आया, तो बच्ची के साथ उसने अश्लील हरकत शुरू कर दी. दुकान में लगे कैमरे में उसकी शर्मनाक करतूत कैद हो गई.

आरोपी दारोगा की करतूत का वीडियो मिलने के बाद बच्ची के घरवालों ने रविवार को उसे रंगे हाथ पकड़ लिया. इसके बाद उसकी पिटाई शुरू कर दी. आप वीडियो में देख सकते हैं कि पीड़ित बच्ची के घरवाले किस तरह से दारोगा की पिटाई कर रहे हैं. इस दौरान आरोपी बचाव की कोशिश भी करता रहा, लेकिन बच नहीं सका. घरवालों ने उसे पेड़ से बांधकर पीटने की कोशिश की. इसी दौरान किसी ने मामले की सूचना स्थानीय थाने को दे दी. पुलिस के पहुंचते ही पीड़ित के परिजनों ने आरोपी दारोगा को पुलिस के हवाले कर दिया. बच्ची के घर के पड़ोस में रहने वाले स्थानीय शख्स ने न्यूज 18 को बताया कि लंबे समय से दारोगा की हरकत देखने के बाद घरवालों ने आज यह कदम उठाया.

चमोली : जानवरों में तेजी से फैल रहा खुरपका, अब तक कई पशुओं की मौत

खुरपका एक संक्रामक बीमारी है.

चमोली जिले के गौचर में खुरपका नामक संक्रामक बीमारी की वजह से पशुओं की मौत हो रही है. 

SHARE THIS:

चमोली जिले के गौचर में खुरपका नामक संक्रामक बीमारी की वजह से पशुओं की मौत हो रही है. गौचर के श्री कृष्णा गौ सदन की गायों में तो यह रोग बीते एक सफ्ताह से काफी तेजी से फैल रहा है. यहां लगभग 100 से अधिक जानवरों को रखा गया है, जिसमें से इस बीमारी के कारण हर रोज किसी न किसी पशु की मौत हो रही है. पशुओं के शवों को सदन में ही जेसीबी द्वारा गड्ढा खोदकर दफनाया जा रहा है.

उत्तराखंड : स्व. राजीव गांधी की जयंती मनाते-मनाते आपस में भिड़ गए कांग्रेसी नेता, जानें पूरा मामला

प्रदेश प्रवक्ता हुकुम सिंह कुंवर खुद को 'माई का लाल' बताते हुए पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री इकबाल भारती को चुनौती देने लगे.

पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री इकबाल भारती बोल गए कि नेता प्रतिपक्ष रहीं इंदिरा हृदयेश के निधन के बाद हल्द्वानी से उनके बेटे सुमित हृदयेश चुनाव लड़ेंगे. कोई माई का लाल नहीं जो उनकी दावेदारी को चुनौती दे. इसी बात पर प्रदेश प्रवक्ता हुकुम सिंह कुंवर को गुस्सा आ गया और तीखी बहसबाजी हुई.

SHARE THIS:

हल्द्वानी. 2022 का चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे नेताओं के चुनाव लड़ने की दिल में दबी हसरत खुलकर सामने आने लगी है. ऐसा ही कुछ हुआ हल्द्वानी में. जहां मौका था पूर्व प्रधानमंत्री की जयंती पर उन्हें याद करने का. कांग्रेस के प्रदेश पदाधिकारी, जिला पदाधिकारी और महानगर पदाधिकारी पार्टी के स्वराज आश्रम कार्यालय में जमा थे. स्व. राजीव गांधी को फूलों के साथ ही मुंह से भी श्रद्धांजलि देने का दौर जारी था. इसी दौरान माइक हाथ में लिए पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री इकबाल भारती कुछ ऐसा बोल गए कि सभा में हंगामा खड़ा हो गया. कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता हुकुम सिंह कुंवर जोर-जोर से चिल्लाने लगे. हुकुम सिंह कुंवर खुद को 2022 के लिए हल्द्वानी से कांग्रेस उम्मीदवार का दावेदार कहने लगे. हंगामा इतना बढ़ा कि जिलाध्यक्ष समेत पूर्व मंत्री हरीश चंद्र दुर्गापाल को दखल देना पड़ा. लेकिन इसके बावजूद मामला नहीं संभला. नाराजगी केवल हुकुम सिंह कुंवर की ही देखने को नहीं मिली. कांग्रेस की नेता शोभा बिष्ट और शशि वर्मा ने भी इकबाल भारती के शब्दों का जमकर विरोध किया और खुद को 2022 के लिए दावेदार करार दिया.

इन्हें भी पढ़ें :

उत्तराखंड: नए जिलों के गठन को लेकर प्रदेश में तेज हुई सियासत, जानें कब से उठ रही है मांग
Dehradun News: शादी के बाद पति का चेहरा देखते ही थाने पहुंच गई दुल्हन, कहा- मेरे साथ धोखा हुआ

माई का लाल शब्द पर कटा बवाल

दरअसल पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री इकबाल भारती पूर्व पीएम राजीव गांधी को श्रद्धांजलि देते हुए हल्द्वानी की स्थानीय राजनीति पर बोलने लगे. इकबाल भारती ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष रहीं इंदिरा हृदयेश के निधन के बाद हल्द्वानी से उनके बेटे सुमित हृदयेश चुनाव लड़ेंगे. भारती यहीं नहीं रुके. उन्होंने कहा कि कोई माई का लाल नहीं जो सुमित हृदयेश की दावेदारी को चुनौती दे. फिर क्या था मंच पर उनसे कुछ दूर बैठे प्रदेश प्रवक्ता हुकुम सिंह कुंवर को गुस्सा आ गया. कुंवर बीच में ही खड़े हो गए और खुद को माई का लाल बताते हुए दावेदारी जताने लगे. हालांकि इस दौरान कांग्रेस के अन्य कार्यकर्ताओं ने राजीव गांधी जय का नारा लगाते हुए मामले को शांत करने की कोशिश की. लेकिन हुकुम सिंह कुंवर पूरे गुस्से में दिखे, जिसका वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है.

उत्तराखंड में जल्द खुलने जा रहे हैं कॉलेज, स्टूडेंट्स को कराना होगा वैक्सीनेशन

उत्तराखंड में कॉलेजों में स्पेशल वैक्सीनेशन ड्राइव चलाया जाएगा.

एडमिशन लेना हो या परीक्षा में शामिल होना हो, टीका लगवाना ज़रूरी होगा. उच्च शिक्षा निदेशालय ने सभी कॉलेजों को एक पत्र लिखकर कहा है कि वो स्टूडेंट्स और पूरे स्टाफ के लिए खास तौर पर टीका कैंप लगवाएं.

SHARE THIS:

हल्द्वानी. उत्तराखंड में कोरोना की लहर के बाद अब कॉलेज पहले की तरह खुलने की चरणबद्ध शुरुआत होने जा रही है. आने वाले दिनों में कॉलेज खुलेंगे, लेकिन कॉलेज आने की अनुमति वैक्सीनेशन की शर्त पर ही मिल सकेगी. उच्च शिक्षा निदेशालय ने सभी डिग्री कॉलेजों के प्रिंसिपल्स को एक पत्र में निर्देशित करते हुए लिखा है कि कॉलेजों को स्पेशल वैक्सीनेशन ड्राइव चलाकर स्टूडेंट्स को वैक्सीनेट कराना होगा. आने वाले दिनों में कॉलेज खुलने पर उन्हीं छात्रों को एडमिशन या परीक्षा में बैठने दिया जाएगा, जिनका वैक्सीनेशन हो चुका होगा. यह अनिवार्य नहीं है कि छात्र कॉलेज के वैक्सीनेशन अभियान में ही वैक्सीन डोज़ लें.

सितंबर शुरू होती ही परीक्षाएं
उच्च शिक्षा निदेशालय में उपनिदेशक एनएस बनकोटी के मुताबिक प्रदेश के 105 डिग्री कॉलेजों में सितंबर के पहले हफ्ते से परीक्षाएं होंगी, जिसमें ग्रेजुएशन के तीसरे और छठे सेमेस्टर के साथ ही पोस्ट ग्रेजुएएन के चौथे सेमेस्टर की परीक्षाएं भी शामिल हैं. इनके अलावा अलग-अलग कक्षाओं में प्रमोट किए गए स्टूडेंट्स की एडमिशन प्रक्रिया शुरू होगी, जिसको देखते हुए कोरोना वैक्सीनेशन का निर्देश दिया गया है. सभी छात्रों और कॉलेज टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ के लिए वैक्सीन लगवाना ज़रूरी होगा. इसे सुनिश्चित करने के​ लिए कॉलेजों को स्वास्थ्य विभाग से कॉर्डिनेट कर वैक्सीनेशन कैंप लगाने होंगे.

ये भी पढ़ें : दुर्गम पहाड़ी इलाकों में अब खुद पहुंचेगी अदालत, उत्तराखंड में मोबाइल ई-कोर्ट की पहल

अभी चल रही है ऑनलाइन पढ़ाई
फिलहाल कोरोना के मद्देनज़र सभी कॉलेजों में ऑनलाइन पढ़ाई हो रही है यानी स्टूडेंट्स घर बैठे मोबाइल फोन या लैपटॉप के ज़रिए कक्षाएं अटेंड कर रहे हैं. हालांकि टीचर्स का कॉलेज आना ज़रूरी हो चुका है. दूसरी तरफ, यूनिवर्सिटी ग्रांट कमिशन ने अक्टूबर से कॉलेजों को खोलने और स्टूडेंट्स की पढ़ाई शुरू करने को कहा है और सितंबर में परीक्षाओं की तारीख तय की है, जिसकी तैयारी अभी से शुरू हो गई है. अलग-अलग विश्वविद्यालय यूजीसी के निर्देशों के मुताबिक अपने यहां एडमिशन और परीक्षाओं का शेड्यूल तैयार कर रहे हैं.

उत्तराखंड: स्पा सेंटर की आड़ में जिस्मफरोशी, लड़कियों के VIDEO बनाकर होती थी ब्लैकमेलिंग

रुद्रपुर के मॉल में स्पा सेंटर से पकड़ी गई लड़कियां.

Rudrapur Mall Raid : हल्द्वानी के बाद अब ऊधम सिंह नगर के रुद्रपुर में भी पुलिस ने स्पा सेंटर में छापेमारी की. एक मॉल के अंदर चल रहे स्पा सेंटर से छह लड़कियां और चार ग्राहक आपत्तिजनक हालत में पकड़े गए.

SHARE THIS:

हल्द्वानी. पुलिस टीम ने रुद्रपुर के एक मॉल में शुक्रवार को छापेमारी की, जहां स्पा सेंटर के नाम पर सैक्स रैकेट चल रहा था. पुलिस ने मेट्रोपॉलिस मॉल में चल रहे स्पा सेंटर पर छापेमारी करते हुए पुलिस ने छह लड़कियों और चार लड़कों को गिरफ्तार किया. ये सभी स्पा सेंटर के नाम पर देह व्यापार में लिप्त पाए गए. जिन लड़कियों को पकड़ा गया है वो दिल्ली, मिजोरम और महाराष्ट्र की रहने वाली हैं. लड़कियों से पूछताछ के बाद पुलिस ने दावा किया है कि असल में स्पा सेंटर्स में मसाज या स्पा नहीं बल्कि सैक्स का कारोबार चल रहा था.

हल्द्वानी ही नहीं बल्कि रुद्रपुर में भी स्पा सेंटर्स के नाम पर जिस्मफरोशी का धंधा खूब फल-फूल रहा है. मॉल स्थित स्पा सेंटर पर रेड के दौरान पुलिस को यौन संबंधों में इस्तेमाल होने वाली चीज़ें भी मिलीं. जिन लड़कों और लड़कियों को पकड़ा गया, पुलिस के मुताबिक रेड के दौरान उन्हें आपत्तिजनक अवस्था में पाया गया. यही नहीं, पकड़ी गई लड़कियों ने यह भी बताया कि किस तरह ब्लैकमेलिंग के ज़रिये उनका इस्तेमाल किया जा रहा था.

ये भी पढ़ें : उत्तराखंड: चार धाम यात्रा की मांग पर हंगामा, महापंचायत में सरकार को अल्टीमेटम

स्पा सेंटर सील, लड़कियों ने कही ब्लैकमेलिंग की बात
एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल ने रुद्रपुर शहर के सबसे बड़े मॉल मेट्रोपोलिस में छापेमारी कर सेवन स्काई स्पा सेंटर में कई अनियमितताएं, आपत्तिजनक सामान मिलने पर सेंटर को सील कर दिया. पुलिस ने मौके से जिन लड़कियों को पकड़ा, उन्होंने पुलिस को बताया कि उन्हें स्पा के नाम पर सेंटर में नौकरी दी गई थी लेकिन काम जिस्मफरोशी का होता था. रेट ग्राहक की ज़रूरत के मुताबिक तय होते थे. इन लड़कियों का कहना है कि स्पा संचालक लड़कियों के वीडियो बना लेते थे, जिसके बाद मनमर्जी का काम न होने पर ब्लैकमेल किया जाता था.

uttarakhand news, uttarakhand crime news, spa center location, spa rates, उत्तराखंड न्यूज़, उत्तराखंड क्राइम न्यूज़, स्पा सेंटर लोकेशन, स्पा रेट

रुद्रपुर से पहले इसी हफ्ते हल्द्वानी में दो स्पा सेंटरों में छापेमारी की गई थी.

हल्द्वानी में हो चुकी है कार्रवाई
रुद्रपुर से पहले हल्द्वानी में सोमवार और गुरुवार को इस तरह की कार्रवाई की गई थी. सोमवार की छापेमारी में पुलिस ने जंगल लग्ज़री स्पा सेंटर से नौ लड़कियों को जिस्मफरोशी के आरोप में पकड़ा था. पकड़ी गई लड़कियों में दो यूपी, तीन हरियाणा, एक मिजोरम, एक मणिपुर, एक पश्चिम बंगाल और एक मध्य-प्रदेश की रहने वाली थी. वहीं, गुरुवार को हुई कार्रवाई के दौरान एक नाबालिग समेत पांच लड़कियों को पकड़ा गया था.

Uttarakhand: मंत्री रेखा आर्य के पति पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार, क्या है 31 साल पुराना केस?

उत्तराखंड: 31 साल पुराने एक मर्डर केस में मंत्री रेखा आर्य के पति की हो सकती है गिरफ्तारी.

Uttarakhand News: उत्तर-प्रदेश के बरेली में हुए डबल मर्डर के मामले में उत्तराखंड की कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य के पति पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है. रेखा आर्या के पति गिरधारी लाल साहू उर्फ पप्पू गिरधारी हत्या के इस मामले में पिछले 31 सालों से आरोपी हैं.

SHARE THIS:

हल्द्वानी. उत्तराखंड की कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य की मुश्किलें बढ़ सकती हैं, क्योंकि उनके पति पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है. रेखा आर्य के पति गिरधारी लाल साहू उर्फ पप्पू गिरधारी हत्या के एक मामले में पिछले 31 सालों से आरोपी हैं. उत्तर-प्रदेश की बरेली के अपर सत्र न्यायाधीध की अदालत ने मंत्री के पति की गिरफ्तारी के लिए गैर जमानटी वारंट जारी कर दिया है. हालांकि पप्पू गिरधारी ने गिरफ्तारी से बचने के लिए फिलहाल कोर्ट में खुद के बीमार होने की जानकारी दी है.

उत्तराखंड की महिला, बाल विकास, पशुपालन, दुग्ध और मत्स्य पालन मंत्री रेखा आर्य के पति गिरधारी लाल साहू का विवादों से पुराना नाता रहा है. कई प्रॉपर्टी विवादों में उनका नाम सामने आता रहा है. साथ ही अपनी एक और पत्नी को किडनी दिलाने के लिए अपने नौकर की किडनी धोखे से निकालने का भी आरोप लग चुका है.

चुनावों से पहले विपक्ष को मिल सकता है बड़ा मुद्दा
अगर मंत्री रेखा आर्या के पति की गिरफ्तारी होती है तो विधानसभा चुनाव से पहले विपक्ष को एक बड़ा मुद्दा मिल सकता है. विशेषकर विपक्षी कांग्रेस इसे मुद्दा बना सकती है. जिससे बीजेपी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं.

खासा चर्चित रहा था जैन दंपत्ति हत्याकांड 

साल 1990 में बरेली के सिविल लाइंस इलाके में हुए हत्याकांड की काफी चर्चा रही थी, क्योंकि इस दौरान दोनों पति-पत्नी को बड़ी बेरहमी के साथ मारा गया था. इस हत्याकांड में नरेश जैन और उनकी पत्नी पुष्पा जैन संपत्ति विवाद के चलते कुछ लोगों ने लाठी-डंडों के साथ ही चाकू से हमला कर हत्या कर दी थी. इस मामले में निचली अदालत ने रेखा आर्य के पति पप्पू गिरधारी समेत कुल 11 लोगों पर आरोप तय किए हैं.​ जो लंबे समय से अदालत के समक्ष पेश नहीं हो रहे थे.

Load More News

More from Other District