होम /न्यूज /उत्तराखंड /

Haldwani: जवान का पार्थिव शरीर 38 साल बाद पहुंचा, तो इन परिवारों को भी जगी उम्मीद, दो और जवान अभी हैं लापता

Haldwani: जवान का पार्थिव शरीर 38 साल बाद पहुंचा, तो इन परिवारों को भी जगी उम्मीद, दो और जवान अभी हैं लापता

चंद्रशेखर के अंतिम संस्कार के साथ ही कुछ और जवानों के परिवारों के ज़ख्म भी हरे हो गए.

चंद्रशेखर के अंतिम संस्कार के साथ ही कुछ और जवानों के परिवारों के ज़ख्म भी हरे हो गए.

38 साल पहले सियाचिन का ऑपरेशन मेघदूत उत्तराखंड के कुछ परिवारों के लिए ऐसे जख्म लेकर आया जो आज तक नहीं भर पाए हैं. ऐसे ही दो और परिवार हैं जो लांस नायक चंद्रशेखर हरबोला की तरह अपने परिवार के मुखिया का इंतजार कर रहे हैं. देखिए यह रिपोर्ट.

अधिक पढ़ें ...

हल्द्वानी. साल 1984 में सियाचिन की पहाड़ियों में हुए ऑपरेशन मेघदूत की याद एक बार फिर ताजा हो गई है. 38 साल बाद हल्द्वानी के रहने वाले लांस नायक चंद्रशेखर हरबोला का पार्थिव शरीर उनके घर आया तो दो और परिवारों के ज़ख्म न केवल हरे हो गए बल्कि एक उम्मीद भी पलने लगी. असल में, इसी ऑपरेशन में शामिल हल्द्वानी के लांस नायक हयात सिंह और दया किशन जोशी का कोई पता अभी तक नहीं लग पाया है. ऐसे में इन दोनों शहीदों की पत्नियों को अब भी उम्मीद है कि सेना उनके पतियों के बारे में भी पता लगाएगी.

शहीद चंद्रशेखर हरबोला के बहाने सभी शहीद परिवारों के जख्म एक बार फिर हरे हो गए हैं. कोई अपने पति के बारे में सोच कर गमगीन है तो कोई अपने भाई या पिता के बारे में. चंद्रशेखर हरबोला की 38 साल पुरानी शहादत में उनके साथी सैन्य परिवारों का भी दर्द छिपा हुआ है, लेकिन सबकी दुआएं यही हैं कि जल्द ही दूसरे शहीदों का भी पता लग जाए. सेना के पूर्व ऑफिसर भी उम्मीद कर रहे हैं कि इन शहीदों की भी खोज होगी. पूर्व जिला सैनिक कल्याण अधिकारी और रिटायर्ड मेजर बीएस रौतेला का कहना है कि जल्द ही सेना की तरफ से कोई खबर मिले तो परिवारों की प्रतीक्षा खत्म हो.

गौरतलब है कि आज बुधवार को हरबोला का पार्थिव शरीर हल्द्वानी पहुंचा और राजकीय सम्मान के साथ हरबोला को अंतिम विदाई दी गई. इस मौके पर हरबोला को आखिरी सलामी देने के लिए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी पहुंचे और उन्होंने कहा कि देश के लिए हरबोला के योगदान को याद रखा जाएगा और परिवार की हर संभव मदद सरकार करेगी.

Tags: Martyred Jawan

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर