होम /न्यूज /उत्तराखंड /हल्द्वानी: नवरात्र में सबसे ज्यादा हुई जमीनों की खरीद-बिक्री, हर दिन इतनी हुई रजिस्ट्री

हल्द्वानी: नवरात्र में सबसे ज्यादा हुई जमीनों की खरीद-बिक्री, हर दिन इतनी हुई रजिस्ट्री

आम तौर पर हल्द्वानी में रोजाना जमीन की 50 से 60 रजिस्ट्रियां होती हैं, लेकिन नवरात्र के शुभ अवसर पर लोगों ने हर दिन इसस ...अधिक पढ़ें

    पवन सिंह कुंवर

    हल्द्वानी. उत्तराखंड के हल्द्वानी में नवरात्र के नौ दिनों में लोगों ने जमीनों की खूब खरीदारी की है. रजिस्ट्रार ऑफिस में हर रोज 115 से ज्यादा जमीनों की रजिस्ट्री हुईं. आम तौर पर रोजाना 50 से 60 रजिस्ट्रियां होती हैं, लेकिन नवरात्र के शुभ अवसर पर लोगों ने हर दिन इससे दोगुनी जमीनें खरीदीं. पूरे प्रदेश की अगर बात करें तो नवरात्र के प्रथम सात दिनों में 6,316 रजिस्ट्रियां दर्ज हुईं. इस हिसाब से राज्य में हर रोज 900 से ज्यादा जमीनों की खरीद-फरोख्त की गई. वहीं, श्राद्ध के दौरान जमीनों की खरीद बेहद कम दर्ज की गई. दरअसल पितृपक्ष में लोग कोई भी शुभ काम करने से परहेज करते हैं. माना जाता है कि अगर इन दिनों में कोई भी शुभ काम किया जाता है, तो पितर नाराज होते हैं.

    नवरात्र के प्रथम सात दिनों में नैनीताल जिले में 816 जमीनों की रजिस्ट्रियां हुई हैं. इस बिक्री से विभाग को 5.98 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ है. माना जा रहा है कि दीवाली के नजदीक जमीन रजिस्ट्री कराने का आंकड़ा इसी के करीब रहेगा.

    बता दें कि, रजिस्ट्री कराने के लिए लोगों को पहले से अपॉइंटमेंट लेना होता है. पंजीयन विभाग को हर दिन 150 से ज्यादा आवेदन मिल रहे हैं, इसलिए अब रजिस्ट्री कराने वालों की प्रतीक्षा सूची लंबी होती जा रही है. पंजीयन कराने वालों की संख्या ज्यादा होने के कारण रजिस्ट्री दफ्तर में सुबह नौ बजे से ही काम शुरू हो रहा है. रोजाना 130 लोगों को टोकन जारी किए जा रहे हैं. अफसरों का मानना है कि दीवाली तक अब ऐसी ही स्थिति रहेगी.

    सहायक महानिरीक्षक निबंधन अतुल शर्मा ने बताया कि पिछले साल नवरात्र में नैनीताल जिले में 860 रजिस्ट्री हुई थी, और इससे विभाग को 6.36 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ था. उन्होंने बताया कि इस बार नवरात्र के सात दिनों में 816 रजिस्ट्री हुईं. अभी तक 5.98 करोड़ रुपये का राजस्व विभाग को मिल चुका है.

    Tags: Haldwani news, Property investment, Property market, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें