Haridwar news

हरिद्वार

अपना जिला चुनें

10 'बिगड़ैल' हाथियों को लगाया जाएगा रेडियो कॉलर, हरिद्वार कुंभ 2021 से पहले बड़ा फैसला


15 सितंबर तक रेडियो कॉलर लगाने की योजना है.

15 सितंबर तक रेडियो कॉलर लगाने की योजना है.

अगर हाथी (Elephant) शहर के पास भी आते हैं तो प्रशासन समय रहते उनको वापस जंगल में खदेड़ सकता है. इसे स्थानीय निवासियों के साथ ही हरिद्वार कुंभ (Haridwar Kumbh 2021) के मद्देनजर प्रशाशन के लिए भी बड़ी राहत माना जा रहा है.

SHARE THIS:
देहरादून. उत्तराखंड (Uttarakhand) के हरिद्वार में आवासीय क्षेत्रों में दहशत का पर्याय बने हाथियों को लेकर बड़ी खबर है. इन हाथियों को 15 सितंबर तक रेडियो कॉलर (Radio Collar) लगाया गया है. केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय ने रेडियो कॉलर लगाने की परमिशन दे दी है. इससे अब इन हाथियों की पल-पल की लोकेशन प्रशासन को मिलती रहेगी. अगर हाथी शहर के पास भी आते हैं तो प्रशासन समय रहते उनको वापस जंगल में खदेड़ सकता है. इसे स्थानीय निवासियों के साथ ही हरिद्वार कुंभ (Haridwar Kumbh 2021) के मद्देनजर प्रशाशन के लिए भी बड़ी राहत माना जा रहा है.

मालूम हो कि हरिद्वार में 2021 में महाकुंभ होना है. चारों ओर से जंगलों से घिरे हरिद्वार शहर और उसके आसपास के क्षेत्रों में आए दिन जंगली हाथियों के उत्पात मचाने की घटनाएं सामने आती रहती हैं. हरिद्वार महाकुंभ के दौरान जब लाखों की भीड़ होगी तो चिंता इस बात की जताई जा रही है कि अगर इस दौरान कोई हाथी मेला क्षेत्र में घुस आया तो स्थितियां विपरीत हो सकती हैं. हरिद्वार में अभी तक बिगड़ैल हाथी कई लोगों की जान ले चुके हैं, तो कई लोग बीते सालों में घायल भी हुए हैं.

डब्लूआईआई की मदद से तैयार किया गया प्लान

शासन ने राजाजी टाइगर रिजर्व और डब्लूआईआई के सहयोग से हाथियों को कॉलर करने का प्लान बनाया था. लेकिन केंद्र की अनुमति के बिना ऐसा कर पाना संभव नहीं था. बीते 27 जुलाई को फॉरेस्ट डिपार्टमेंट ने केंद्र को प्रस्ताव भेजकर दस जंगली हाथियों केा कॉलर करने की अनुमति मांगी जिसे केंद्र ने हरी झंडी दे दी है. केंद्र में डीआईजी ऑफ फॉरेस्ट, वाइल्ड लाइफ राकेश कुमार जगेनिया ने उत्तराखंड के चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन को पत्र भेजकर इस बात की जानकारी दी है. पत्र में कहा गया है कि हाथियों की कॉलरिंग एक्सपर्ट की मौजूदगी में की जाए. अगर इस दौरान कोई मिसहैपनिंग हुई तो मिनिस्टरी अनुमति को रिव्यू भी कर सकती है.

ये भी पढ़ें: बिहार बोर्ड ने 10वीं-12वीं में फेल छात्रों को ग्रेस मार्क्स देकर किया पास, ऐसे चेक करें रिजल्ट 

ये भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के ईमानदार टैक्सपेयर्स होंगे सम्मानित, CM शिवराज फिर शुरू करेंगे भामाशाह योजना

उत्तराखंड के चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन जेएस सुहाग ने अनुमति पत्र मिलने की पुष्टि करते हुए कहा कि डिपार्टमेंट की सभी तैयारियां पूरी हैं. हरिद्वार क्षेत्र में बार-बार घुस आने वाले हाथियों को पहले से ही चिन्हित कर लिया गया था. केंद्र की अनुमति मिलने के बाद अब इनको जल्द रेडियो कॉलर कर लिया जाएगा. सुहाग के अनुसार 20 अगस्त को पांच एलीफेंट और फिर 15 सितंबर तक पांच अन्य एलीफेंट को रेडियो कॉलर करने की योजना है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Haridwar News: आनंद गिरि का आश्रम दूसरी बार हुआ सील, दर्ज हो सकती है FIR

अवैध निर्माण के चलते आनंद गिरि के हरिद्वार स्थित आश्रम को सील कर दिया गया है.

Uttarakhand News: अवैध निर्माण के चलते पहले भी रुड़की विकास प्राधिकरण ने मई में किया था सील, लेकिन नहीं रोका गया निर्माण कार्य, अब फिर कार्रवाई करते हुए कर दिया गया सील.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 20:01 IST
SHARE THIS:

हरिद्वार. महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामले में मुख्य आरोपी आनंद गिरि की मुश्किलें कम नहीं होती दिख रही हैं. गिरफ्तारी के बाद आनंद गिरी पर एक और परेशानी आ गई है. आनंद गिरि का हरिद्वार स्थित आश्रम को सील कर दिया गया है. ये आश्रम श्यामपुर में स्थित है और इसको सील करने की ये दूसरी बार हुई कार्रवाई है. बताया जा रहा है कि ये कार्रवाई रुड़की प्राधिकरण ने की है. बताया जा रहा है कि इस आश्रम में अवैध निर्माण हो रहा था जिसकी शिकायत मिलने पर प्राधिकरण ने मई में इसे सील किया था. लेकिन बताया जा रहा है कि इसके बाद भी आश्रम में अवैध निर्माण को नहीं रोका गया और अंदर लगातार कंस्ट्रक्‍शन होता रहा.
इस बात की जानकारी मिलने पर रुड़की विकास प्राधिकरण ने इसे बुधवार को एक बार फिर सील कर दिया. वहीं अब बताया जा रहा है ‌कि आश्रम संचालक और अन्य पदाधिकारियों के खिलाफ अब प्राधिकरण एफआईआर भी दर्ज करवा सकता है.

संगठन से भी बाहर हुआ आनंद
वहीं नरेंद्र गिरी को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोपी आनंद गिरी को अब युवा साधु संतों के संगठन युवा भारत साधु समाज ने भी अपने संगठन से निकाल दिया है. हरिद्वार स्थित गरीब दास आश्रम में बुधवार को बैठक का आयोजन किया गया. इस बैठक के दौरान संगठन ने कार्रवाई करते हुए आनंद गिरी को संगठने से निष्कासित कर दिया. आनंद गिरि संगठन के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर था, उसे इस पद से अब हटा दिया गया है.

14 दिन की न्यायिक हिरासत
वहीं महंत नरेंद्र गिरि आत्महत्या मामले में आरोपी आनंद गिरी को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने आनंद गिरि को कोर्ट में पेश किया था जिसके बाद उसे न्यायिक हिरासत में भेजा गया. गौरतलब है कि नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था. जिसके बाद पुलिस ने आनंद गिरि को हरिद्वार से गिरफ्तार किया था.

सबसे पढ़े-लिखे साधुओं का अखाड़ा है निरंजनी, जिसके सचिव थे नरेंद्र गिरि

कैसा है निरंजनी अखाड़ा, कैसे काम करता है (फोटो - न्यूज 18)

महंत नरेंद्र गिरि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष तो थे ही साथ ही निरंजनी अखाड़े के सचिव थे. ये अखाड़ा कई मायनों में दूसरे अखाड़ों से अलग और खास है. सबसे ज्यादा धनी होने के साथ इसके साथ सबसे ज्यादा पढ़े लिखे साधू जुड़े हैं. जानते हैं इस अखाड़े के बारे में

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 22, 2021, 12:59 IST
SHARE THIS:

महंत नरेंद्र गिरि का अंतिम संस्कार प्रयाग में हो रहा है. उन्हें उनके गुरु के बगल में भू-समाधि दी जाएगी. वह अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के तो अध्यक्ष थे ही साथ में निरंजनी अखाड़े के सचिव और प्रमुख की हैसियत रखने वाले भी. इस अखाड़े को सबसे धनी अखाड़ों में माना ही जाता है. साथ ही इसकी खासियत ये भी है कि इसमें खासे पढ़े लिखे साधु भी हैं. कुछ तो आईआईटी में पढ़े हुए हैं.

निरंजनी अखाड़े को हमेशा भारतीय धार्मिक क्षेत्र में परिपाटी स्थापित करने वाला माना गया. जब हरिद्वार कुंभ के दौरान कोविड का सबसे ज्यादा असर था. तब इस अखाड़े ने सबसे पहले इससे नाम वापस लेने की घोषणा करके राज्य सरकार को एक तरह से राहत दी. इसके बाद दूसरे अखाड़ों ने भी कुंभ से हटना शुरू किया।

इस अखाड़े का पूरा नाम श्री पंचायती तपोनिधि निरंजन अखाड़ा है. इसका मुख्य आश्रम मायापुर, हरिद्वार में स्थित है.अगर साधुओं की संख्या की बात की जाए तो निरंजनी अखाड़ा देश के सबसे बड़े और प्रमुख अखाड़ों में है. जूना अखाड़े के बाद उसे सबसे ताकतवर माना जाता है. वो देश के 13 प्रमुख अखाड़ों में एक है.

सबसे पढ़े लिखे साधू
इस अखाड़े में सबसे ज्यादा पढ़े-लिखे साधू हैं, जिसमें डॉक्टर, प्रोफेसर और प्रोफेशनल शामिल हैं. एक रिपोर्ट की मानें तो शैव परंपरा के निरंजनी अखाड़े के करीब 70 फीसदी साधु-संतों ने उच्च शिक्षा प्राप्त की है. इसमें संस्कृत के विद्वान और आचार्य भी हैं. निरंजनी अखाड़े की हमेशा एक अलग छवि रही है. जानते हैं निरंजनी अखाड़े के बारे में. जिसके बारे में कहा जाता है कि ये हजारों साल पुराना है.

हजारों साल पुराना इतिहास
निरंजनी अखाड़ा की स्थापना सन् 904 में विक्रम संवत 960 कार्तिक कृष्णपक्ष दिन सोमवार को गुजरात की मांडवी नाम की जगह पर हुई थी. महंत अजि गिरि, मौनी सरजूनाथ गिरि, पुरुषोत्तम गिरि, हरिशंकर गिरि, रणछोर भारती, जगजीवन भारती, अर्जुन भारती, जगन्नाथ पुरी, स्वभाव पुरी, कैलाश पुरी, खड्ग नारायण पुरी, स्वभाव पुरी ने मिलकर अखाड़ा की नींव रखी. अखाड़ा का मुख्यालय तीर्थराज प्रयाग में है. उज्जैन, हरिद्वार, त्रयंबकेश्वर व उदयपुर में अखाड़े के आश्रम हैं.

निरंजनी अखाड़े के पास कितनी संपत्ति
प्रयागराज और आसपास के इलाकों में निरंजनी अखाड़े के मठ, मंदिर और जमीन की कीमत 300 करोड़ से ज्यादा की है, जबकि हरिद्वार और दूसरे राज्यों में संपत्ति की कीमत जोड़े तो वो हजार करोड़ के पार है. महंत नरेंद्र गिरि इसी अखाड़े के प्रमुख थे. निरंजनी के अखाड़े के पास प्रयागराज, हरिद्वार, नासिक, उज्जैन, मिर्जापुर, माउंटआबू, जयपुर, वाराणसी, नोएडा, वड़ोदरा में मठ और आश्रम हैं.

10,000 से ज्यादा नागा संन्यासी
फिलहाल इस अखाड़े में दस हजार से अधिक नागा संन्यासी हैं. जबकि महामंडलेश्वरों की संख्या 33 है. जबकि महंत व श्रीमहंत की संख्या एक हजार से अधिक है. वैसे निरंजनी अखाड़े ने भव्य पेशवाई के साथ कुंभ में अपनी शुरुआत की थी. इसमें कई रथ, हाथी और ऊंट शामिल हुए थे. करीब 50 रथों पर चांदी के सिंहासन पर आचार्य महामंडलेश्वर और महामंडलेश्वर विराजमान थे. बड़ी संख्या में नागा साधुओं ने भगवान शिव का तांडव किया था.

कौन बन सकता है महामंडलेश्वर
अखाड़े का महामंडलेश्वर बनने के लिए कोई निश्चित शैक्षणिक योग्यता की जरूरत नहीं होती है. इन अखाड़ों में महामंडलेश्वर बनने के लिए व्यक्ति में वैराग्य और संन्यास का होना सबसे जरूरी माना जाता है. महामंडलेश्वर का घर-परिवार और पारिवारिक संबंध नहीं होने चाहिए.
हालांकि इसके लिए आयु का कोई बंधन नहीं है लेकिन यह जरूरी होता है कि जिस व्यक्ति को यह पद मिले उसे संस्कृत, वेद-पुराणों का ज्ञान हो और वह कथा-प्रवचन दे सकता हो. कोई व्यक्ति या तो बचपन में अथवा जीवन के चौथे चरण यानी वानप्रस्थाश्रम में महामंडलेश्वर बन सकता है. लेकिन इसके लिए अखाड़ों में परीक्षा ली जाती है

विवादों में भी घिर चुका है अखाड़ा
कुछ सालों पहले डिस्कोथेक और बार संचालक रियल इस्टेट कारोबारी सचिन दत्ता को इस अखाड़े का महामंडलेश्वर सच्चिदानंद गिरि बनाया गया था. जिसके बाद निरंजनी अखाड़ा विवादों में घिर गया था.

गंगा मैया से मेरी प्रार्थना है, उत्तराखंड में भी कोई दलित बने मुख्यमंत्री : हरीश रावत

उत्तराखंड में कांग्रेस के चुनाव प्रभारी हरीश रावत.

Uttarakhand Election 2022 : पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह को ​हटाकर चन्नी को सीएम बनाए जाने के फैसले को ऐतिहासिक बताकर उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने रैली में यह साफ कर दिया कि कांग्रेस उत्तराखंड में भी जाति की राजनीति करने जा रही है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 21, 2021, 10:19 IST
SHARE THIS:

हरिद्वार. कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कहा कि वह उत्तराखंड में किसी दलित नेता को मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं. कांग्रेस के महासचिव और पंजाब में प्रभारी रहे रावत ने यह बयान सोमवार को तब दिया, जबकि पंजाब में कांग्रेस पार्टी ने एक दलित नेता चरणजीत सिंह चन्नी को नया मुख्यमंत्री घोषित किया. उत्तराखंड में कांग्रेस के चुनाव प्रभारी रावत ने कहा कि उत्तराखंड में मुख्यमंत्री पद पर कोई दलित नेता पहुंच सके, इस मकसद के लिए कांग्रेस पार्टी पूरी शिद्दत से काम करेगी. पंजाब में पहला दलित सीएम बनने के बाद हरिद्वार ज़िले के लाकसर में एक आम सभा को संबोधित करते हुए रावत ने यह बात कही.

पंजाब में चन्नी को मुख्यमंत्री बनाए जाने के कांग्रेस के फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए रावत ने कहा कि पंजाब में ऐसा पहली बार हुआ जब कोई दलित सीएम बनाया गया. ‘कांग्रेस ने सिर्फ पंजाब ही नहीं, बल्कि पूरे उत्तर भारत में इतिहास रच दिया, जब पार्टी ने उस बेटे को सीएम बनाया, जिसकी मां ज़िंदगी भर गोबर के कंडे बनाती रही. इस बेटे ने जब शपथ लेने के बाद अपने संघर्ष के बारे में बताया तो सबकी आंखें नम थीं.’

ये भी पढ़ें : आश्वासन भूल गई सरकार, उत्तराखंड में बिजलीकर्मियों ने फिर की कामबंदी, तीन दिन परेशान होंगे लोग

रावत ने इस तरह जताई अपनी हसरत
उत्तराखंड में 2022 की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं, जिसके लिए राज्य में भाजपा और आम आदमी पार्टी के साथ ही कांग्रेस ​चुनावी बिगुल फूंक चुकी है. पीटीआई की खबर की मानें तो  एक चुनावी सभा में हरीश रावत ने पंजाब में सीएम बनने की घटना पर कुछ इस तरह अपनी बात कही, ‘मैं ईश्वर से और गंगा मैया से प्रार्थना करता हूं कि अपने जीवन में उत्तराखंड में किसी दलित को राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में देख सकूं. हम इस लक्ष्य के लिए प्रतिबद्ध रहेंगे.’

Mahant Narendra Giri Suicide: ‌आद्या तिवारी भी हिरासत में, कभी भी गिरफ्तार हो सकता है आनंद गिरी

आनंद गिरी की गिरफ्तारी के लिए यूपी पुलिस उत्तराखंड पहुंच गई है.

Death of Mehant Narendra Giri: उत्तर प्रदेश पुलिस पहुंची आनंद गिरी के आश्रम, कमरे में खुद को बंद कर बैठा है आनंद गिरी, वहीं लेटे हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी को पुलिस ने हिरासत में लिया.

SHARE THIS:

प्रयागराज. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी के लिखे सुसाइड नोट में आत्महत्या के लिए जिम्मेदार ठहराए गए आरोपियों में से एक आद्या तिवारी को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने आद्या तिवारी को प्रयागराज से ही गिरफ्तार किया है. आद्या तिवारी बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी हैं. वहीं यूपी पुलिस की एक टीम हरिद्वार स्थित आनंद गिरी के आश्रम पहुंच गई है और बताया जा रहा है कि आनंद की कभी भी गिरफ्तारी की जा सकती है. बताया जा रहा है कि आनंद तिवारी ने आश्रम में खुद को एक कमरे में बंद कर लिया है और वे लगातार किसी से संपर्क में है.
वहीं तीसरे आरोपी और पुजारी आद्या तिवारी के बेटे संदीप तिवारी को अभी हिरासत में नहीं लिया गया है. गौरतलब है कि महंत नरेंद्र गिरी ने सोमवार को आत्महत्या कर ली थी और उनके पास से मिले सुसाइड नोट में उन्होंने आनंद गिरी, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी पर मानसिक तौर से प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था.

वहीं आनंद गिरी का दावा है कि गुरुजी आत्महत्या कर ही नहीं सकते. वहीं रही बात सुसाइड नोट की तो उन्होंने कहा कि महंत नरेंद्र गिरी को लिखना पढ़ना ही नहीं आता था ऐसे में वे 8 पन्नों का सुसाइड नोट कैसे लिख सकते हैं. उन्होंने कहा कि इस मामले की पूरी जांच की जानी चाहिए.
आनंद गिरी ने कहा कि वो इस मामले में किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार हैं और उन्हें फंसाने की कोशिश की जा रही है. आनंद गिरी ने कहा कि लोग हमें रास्‍ते से हटाना चाहते थे और कुछ लोग लगातार गुरुजी को परेशान भी कर रहे थे. गौरतलब है कि आनंद गिरी का सुसाइड नोट में नाम आने के बाद उत्तराखंड पुलिस ने हरिद्वार से हिरासत में ले लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है.

Mahant Narendra Giri Suicide: ‌आनंद गिरी का दावा- लिखना-पढ़ना नहीं जानते थे गुरुजी, तो कैसे लिखा सुसाइड नोट

नरेंद्र गिरी के शिष्य आनंद गिरी ने कहा है कि वे हर तरह की जांच में सहयोग करेंगे. (फाइल फोटो)

Death of Mehant Narendra Giri: महंत नरेंद्र गिरी की मौत के बाद मिले सुसाइड नोट को लेकर शिष्य आनंद गिरी ने कहा कि जब नरेंद्र गिरी को लिखना पढ़ना नहीं आता था तो वे कैसे इतना लंबा सुसाइड नोट लिख सकते हैं.

SHARE THIS:

हरिद्वार. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी की मौत के बाद सवालों के घेरे में आए उनके शिष्य आनंद गिरी ने अब बड़ा दावा किया है. महंत नरेंद्र गिरी की मौत के बाद मिले सुसाइड नोट और उसमें आनंद गिरी की ओर से मानसिक तौर पर प्रताड़ित की जाने की बात का खुलासा होने के बाद आनंद गिरी ने कहा कि गुरुजी आत्महत्या कर ही नहीं सकते. वहीं रही बात सुसाइड नोट की तो उन्होंने कहा कि महंत नरेंद्र गिरी को लिखना पढ़ना ही नहीं आता था ऐसे में वे 8 पन्नों का सुसाइड नोट कैसे लिख सकते हैं. उन्होंने कहा कि इस मामले की पूरी जांच की जानी चाहिए.
आनंद गिरी ने कहा कि वो इस मामले में किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार हैं और उन्हें फंसाने की कोशिश की जा रही है. आनंद गिरी ने कहा कि लोग हमें रास्‍ते से हटाना चाहते थे और कुछ लोग लगातार गुरुजी को परेशान भी कर रहे थे. गौरतलब है कि आनंद गिरी का सुसाइड नोट में नाम आने के बाद उत्तराखंड पुलिस ने हरिद्वार से हिरासत में ले लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है.

आनंद गिरी ने कहा है कि गुरुजी कभी आत्महत्या नहीं कर सकते, उनकी हत्या हुई है. उन्होंने कुछ अधिकारियों पर ही गंभीर आरोप लगाकर साजिश करने की बात कही है. आनंद गिरी ने कहा कि आईजी स्वयं इसमें संदिग्ध हैं. आईजी लगातार नरेन्द्र गिरी के संपर्क में रहते थे.

आनंद गिरी का आरोप है कि मठ और मंदिर का पैसा हड़पने वालों ने महंत जी की हत्या की. इस साजिश में मठ के कई बड़े नाम शामिल हो सकते हैं. करोड़ों का खेल हैं. इसमें एक सिपाही अजय सिंह भी है. यही लोग उनकी हत्या कर सकते हैं. आनंद गिरी का आरोप है कि इस घटना में पुलिस के अधिकारी भी शामिल हो सकते हैं.

आनंद गिरी का आरोप है कि महंत नरेंद्र गिरी को मारकर मुझे फंसाने की साजिश है. इसमें पुलिस के बड़े अधिकारी ही शामिल हैं. मैं जांच की मांग करता हूं. उनके खिलाफ बहुत बड़ी साजिश की गई है. उन्होंने आरोप लगाया कि मनीष शुक्ला जिनकी उन्होंने शादी महंत नरेंद्र गिरी ने कराई थी. उसे पांच करोड़ का मकान दिया. इसके आलावा अभिषेक मिश्र भी इस मामले में शामिल हो सकते हैं, जिनकी जांच होनी चाहिए.

Mahant Narendra Giri Death: महंत नरेंद्र गिरी के शिष्य आनंद गिरी को हरिद्वार में हिरासत में लिया

आनंद गिरी को हरिद्वार पुलिस ने हिरासत में ले लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है. (फाइल फोटो)

Death of Mehant Narendra Giri: महंत नरेंद्र गिरी ने अपने सुसाइड नोट में आनंद गिरी पर लगाया था मानसिक तौर पर प्रताड़ित करने का आरोप, अब हरिद्वार पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया है और पूछताछ की जा रही है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 20, 2021, 20:56 IST
SHARE THIS:

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी के आत्महत्या के मामले में नया मोड़ आ गया है. उत्तराखंड पुलिस ने महंत नरेंद्र गिरी के शिष्य आनंद गिरी को हिरासत में ले लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है. उल्लेखनीय है कि नरेंद्र गिरी ने अपने सुसाइड नोट में आनंद गिरी की ओर से मानसिक तौर पर प्रताड़ित करने का अरोप लगाया था. आनंद गिरी को हिरासत में लेने की जानकारी एडीजी लॉ एंड ऑर्डर उत्तर प्रदेश प्रशांत कुमार ने दी है.
गौरतलब है कि उन्होंने अपने सुसाइड नोट में लिखा कि मैं अपने पुराने रिश्तों से परेशान हूं. साथ ही उन्होंने लिखा कि उनको मानसिक तौर से आनंद गिरी परेशान कर रहा था. साथ ही उन्होंने दुख व्यक्त करते हुए कहा कि मैं अपने रिश्तों से परेशान हो गया हूं. इसके अलावा उन्होंने लिखा कि मैं अपनी जिंदगी शान से जिया और अब शान से मरना भी चाहता हूं.

इससे पहले आनंद गिरी ने बताया था कि अभी मैं हरिद्वार में हूं, कल प्रयागराज पहुंचकर देखूंगा क्या सच है. आनंद गिरी बोले, ‘हमें अलग इसलिए किया गया ताकि एक का काम तमाम हो सके. नरेंद्र गिरी से विवादों पर आनंद गिरी ने कहा, ‘मेरा उनसे नहीं मठ की जमीन को लेकर विवाद था.’ आनंद गिरी ने कहा, ‘शक के दायरे में कई लोग हैं, उन्होंने ही नरेंद्र गिरी को मेरे खिलाफ किया.’

आनंद गिरी ने कहा- ‘अभी मैं हरिद्वार में हूं, कल प्रयागराज पहुंचकर देखूंगा क्या सच है.’ आनंद गिरी ने कहा ‘हमें अलग इसलिए किया गया ताकि एक का काम तमाम हो सके. नरेंद्र गिरी से विवादों पर आनंद गिरी ने कहा कि ‘मेरा उनसे नहीं मठ की जमीन को लेकर विवाद था.’ आनंद गिरी ने कहा- ‘शक के दायरे में कई लोग हैं, उन्होंने ही नरेंद्र गिरी को मेरे खिलाफ किया.’ इसके साथ ही आनंद ​गिरी ने उनकी मौत पर कुछ बड़े लोगों और एक पुलिस के अधिकारी की भूमिका पर भी सवाल उठाए हैं.

संत आनंद गिरी पर दो अलग-अलग मौकों पर दो महिलाओं के साथ मारपीट का आरोप लगा था. आरोप के मुताबिक उन्हें दो अवसरों पर हिंदू प्रार्थना के लिए अपने घरों में आमंत्रित किया गया था. जहां 2016 में उन्होंने अपने घर के बेडरूम में एक 29 वर्षीय महिला के साथ कथित तौर पर मारपीट की. इसके बाद 2018 में, गिरि ने लाउंज रूम में 34 वर्षीय एक महिला के साथ कथित तौर पर मारपीट की.

प्रधानमंत्री के 'जबरा' फैन, मुफ्त मेहंदी लगाकर मनाते हैं PM नरेंद्र मोदी का जन्मदिन

अंकुर 2015 से PM मोदी के जन्मदिन पर मुफ्त मेहंदी लगा रहे हैं.

ऋषिकेश के अंकुर प्रजापति साल 2015 से PM नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर मुफ्त मेहंदी लगाते आ रहे हैं.

SHARE THIS:

आपने फिल्मी सितारों के कई प्रशंसक देखे होंगे लेकिन भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi Birthday) की फैन फॉलोइंग भी कुछ कम नहीं है. 17 सितंबर को पीएम मोदी का जन्मदिन देशभर में मनाया जाता है. इस दिन पूरे देश में बीजेपी कार्यकर्ता अपने-अपने तरीके से उनका जन्मदिन मनाते हैं लेकिन ऋषिकेश में एक शख्स ऐसा भी है, जो बीजेपी का कार्यकर्ता नहीं, बल्कि नरेंद्र मोदी का प्रशंसक है और वह इस दिन मुफ्त में मेहंदी लगाकर PM का जन्मदिन मनाता है.

ऋषिकेश में अंकुर मेहंदी वाला के नाम से मशहूर अंकुर प्रजापति साल 2015 से प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन पर युवतियों और महिलाओं की फ्री मेहंदी लगाते आ रहे हैं. वह कहते हैं कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का व्यक्तित्व और उनके काम इतने पसंद आए कि उन्होंने उनके जन्मदिन पर फ्री में मेहंदी लगाने की शुरुआत की.

अपने पेज और सोशल मीडिया के माध्यम से अंकुर इस दिन लोगों को फ्री मेहंदी की जानकारी देते हैं. यही वजह है कि कोई तीज त्योहार न होने के बावजूद भी बड़ी संख्या में महिलाएं यहां मेहंदी लगाने पहुंचती हैं.

अंकुर ने कहा कि नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री रहें या न रहें लेकिन वह उनके जन्मदिन पर मुफ्त में मेहंदी लगाना हमेशा जारी रखेंगे.

यहां सतयुग से रह रहे भगवान विष्णु, जानिए कैसे पड़ा इस शहर का नाम ऋषिकेश?

श्री भरत मंदिर में हृषिकेश नारायण की मूर्ति.

श्री भरत मंदिर में रैभ्य ऋषि और सोम ऋषि ने भगवान विष्णु का ध्यान करते हुए तपस्या की थी.

SHARE THIS:

उत्तराखंड की तीर्थ और योगनगरी ऋषिकेश सतयुग से ही ऋषि-मुनियों की तपोस्थली रही है. यहां स्थित प्राचीन श्री भरत मंदिर (Shri Bharat Temple Rishikesh) में रैभ्य ऋषि और सोम ऋषि ने भगवान विष्णु का ध्यान करते हुए तपस्या की थी. भगवान नारायण ने उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें दर्शन दिए थे.

विष्णु भगवान का एक नाम हृषिकेश भी है, जिसकी वजह से इस स्थान को हृषिकेश के नाम से जाना जाने लगा, हालांकि अपभ्रंश के चलते हृषिकेश की जगह ऋषिकेश कहा जाने लगा.

आठवीं सदी में शंकराचार्य ने शालिग्राम से बने भगवान नारायण की मूर्ति को मंदिर में पुनर्स्थापित किया था. साथ ही एक श्री यंत्र भी लगाया था. श्री भरत मंदिर के गर्भ गृह में भगवान नारायण की प्रतिमा के ठीक ऊपर गुंबद पर आपको यह श्री यंत्र दिख जाएगा.

श्री भरत मंदिर के परिक्रमा मार्ग में एक शिवलिंग भी स्थापित है, इसे पातालेश्वर महादेव नाम से जाना जाता है. ऋषिकेश के पांच महत्वपूर्ण शिव मंदिरों में इस मंदिर को भी गिना जाता है.

भरत मंदिर के पीछे वाले भाग में मां भगवती का मंदिर है, जो माहेश्वरी के नाम से विख्यात है. कहा जाता है कि दशरथ पुत्र भरत जब यहां नारायण की पूजा के लिए आए थे तो उन्होंने राम द्वारा रावण पर विजय से पहले भगवती माहेश्वरी के मंदिर की स्थापना की थी.

स्कंद पुराण के केदारखंड के अनुसार, इस मंदिर को सतयुग में वराह, त्रेता में परशुराम, द्वापर में वामन और कलयुग में भरत नाम से जाना गया.

काली मां का चमत्कारी मंदिर, जहां से गुजरते हुए ट्रेन भी देती है 'सलामी'

काली मां का मंदिर पहाड़ी पर स्थित है.

एक ओर श्रद्धालु मंदिर में माता के दर्शन कर रहे होते हैं, वहीं दूसरी ओर मंदिर के नीचे से ट्रेनें निकलती रहती हैं.

SHARE THIS:

हरिद्वार में मां काली का एक प्राचीन मंदिर है. यह मंदिर हर की पौड़ी के पास स्थित है. जानकारों का मानना है कि यह मंदिर महाभारत काल से यहां मौजूद है. मंदिर एक ऊंचे पहाड़ की गुफा में स्थित है और इसके नीचे से हरिद्वार और देहरादून की रेलवे लाइन गुजरती है. जहां एक ओर श्रद्धालु माता के दर्शन कर रहे होते हैं, वहीं दूसरी ओर मंदिर के नीचे से ट्रेनें निकलती रहती हैं.

लोगों का मानना है कि इस मंदिर में जो भी सच्चे मन से अपनी मुराद लेकर आता है, माता उसकी सभी मुरादें पूरी करती हैं. जानकारों के अनुसार, यह रेलवे लाइन ब्रिटिश काल में बनी थी. जिसके कुछ साल बाद ट्रेनों का संचालन शुरू हुआ.

हरिद्वार से ऋषिकेश जाने वाली ट्रेन या फिर ऋषिकेश और देहरादून से हरिद्वार जाने वाली ट्रेन यहां आकर रुक जाती थीं. माता के मंदिर के आगे ट्रेन नहीं बढ़ पाती थीं. एक दिन काली मां ने रेलवे विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी को सपने में दर्शन देकर बताया कि वहां पर उनका स्थान है.

काली मां ने आगे कहा कि यहां पर उनके भक्तों के आने-जाने के लिए मार्ग का निर्माण किया जाए, जिससे उनके भक्त मंदिर तक पहुंच सकें. जिसके बाद रेल लाइन के ऊपर से पुल का निर्माण किया गया. पुल बनने के बाद अचानक सब ठीक हो गया और ट्रेन आसानी से एक स्थान से दूसरे स्थान तक मंदिर से होकर जाने लगीं.

आज भी यहां से जब ट्रेन निकलती हैं, तो लोको पायलट एक बार हॉर्न बजाकर माता के दरबार में हाजिरी जरूर लगाते हैं.

सैलानियों की पहली पसंद बना नीरगढ़ वॉटरफॉल, जानिए कैसे पहुंचे ऋषिकेश के सबसे बड़े झरने तक?

नीर वॉटरफॉल ऋषिकेश का सबसे बड़ा झरना है.

नीर वॉटरफॉल ऋषिकेश का सबसे बड़ा झरना है. इसे नीरगढ़ वॉटरफॉल भी कहा जाता है.

SHARE THIS:

उत्तराखंड में कोविड कर्फ्यू में ढील के बाद से तमाम पर्यटन स्थल फिर से पर्यटकों से गुलजार होने लगे हैं. बीती एक जुलाई से ऋषिकेश का नीर वॉटरफॉल भी पर्यटकों की आवाजाही के खोल दिया गया था. नीर वॉटरफॉल ऋषिकेश का सबसे बड़ा झरना है. इसे नीरगढ़ वॉटरफॉल भी कहा जाता है. यहां हर रोज बड़ी संख्या में स्थानीय लोग और पर्यटक प्राकृतिक सुंदरता का लुत्फ उठाने आ रहे हैं.

बद्रीनाथ हाईवे से दो किलोमीटर ऊपर यह नीर झरना स्थित है. यहां जाने के लिए मोटर मार्ग बना हुआ है. यह झरना ऋषिकेश के सबसे बड़े झरने के रूप में जाना जाता है. यहां पहुंचते ही आपको आनंद की अनुभूति होती है. यह झरना तीन से चार सतहों से होकर आता है.

हर सतह पर पर्यटक झरने के नीचे नहाकर लुत्फ ले सकते हैं. रोज सैकड़ों की संख्या में लोग यहां पहुंचते हैं. इसके साथ ही यहां पर पर्यटकों की सुविधा के लिए 15 से 20 दुकानें भी मौजूद हैं.

जंगलों के बीच स्थित यह झरना जहां प्राकृतिक सौंदर्य के लिहाज से पर्यटकों को आकर्षित करता है, वहीं इस झरने का ठंडा पानी और नहाने के लिए पर्याप्त स्थान होने के कारण यह नीर वॉटरफॉल कई लोगों के लिए पहली पसंद बना हुआ है. प्री-वेडिंग शूट के लिए भी यहां दूर-दूर से कपल पहुंच रहे हैं.

भरत मंदिर में ऋषिकेश का इकलौता संग्रहालय, यहां मौजूद हैं तीसरी सदी की हैरतअंगेज निशानियां

भरत मंदिर संग्रहालय में रखीं मूर्तियां और अवशेष.

ऋषिकेश के प्राचीन श्री भरत मंदिर में शहर का एकमात्र संग्रहालय बनाया गया है.

SHARE THIS:

खुदाई के दौरान निकले अवशेषों या मूर्तियों को एकत्रित कर संग्रहालय में रखा जाता है. साथ ही यह कितना पुराना है, इसकी भी जांच पुरातत्व विभाग करता है. ऐसे अवशेष हमारी प्राचीन संस्कृति और सभ्यता का परिचय हमसे करवाते हैं. ऋषिकेश के प्राचीन श्री भरत मंदिर में शहर का एकमात्र संग्रहालय बनाया गया है.

इस संग्रहालय में रखीं हुईं कई मूर्तियां, ईंट व अन्य वस्तुएं खुदाई के दौरान पाई गई थीं, जिन्हें उत्तर प्रदेश पुरातत्व विभाग द्वारा जांच कर पंजीकृत किया गया है. इस संग्रहालय में तीसरी सदी तक के अवशेष देखने को मिलते हैं.

यहां पर भगवान विष्णु और भोलेनाथ की प्रतिमा, मानवों की मूर्ति, प्राचीन काल की तमाम वस्तुएं आदि देखने को मिल जाती हैं.

भरत मंदिर संस्कृत महाविद्यालय के प्रधानाचार्य सुरेंद्र दत्त भट्ट बताते हैं कि ऐसी जानकारी मिलती है कि बौद्धों द्वारा इस मंदिर पर आक्रमण किया गया था, जिसमें यह मूर्तियां दब गई थीं, जो अब समय-समय पर खुदाई में मिलती रहती हैं.

UKPSC Recruitment 2021: असिस्टेंट प्रॉसीक्यूशन ऑफिसर के पदों पर आवेदन का कल है आखिरी मौका, ऐसे करें अप्लाई

UKPSC Recruitment 2021: असिस्टेंट प्रॉसीक्यूशन ऑफिसर के पदों पर आवेदन 17 सितंबर तक किए जा सकते हैं,

UKPSC APO Recruitment 2021: असिस्टेंट प्रॉसीक्यूशन ऑफिसर के पदों पर आवेदन प्रक्रिया 3 अगस्त 2021 को शुरू हुई थी. कुल 63 पदों पर भर्तियां के लिए 31 सीटें जनरल कैटेगरी के लिए, 6 सीटें ईडब्ल्यूएस कैटेगरी के लिए, 12 सीटें ओबीसी कैटेगरी के लिए, 13 सीटें एससी कैटेगरी के लिए और 1 सीट एसटी कैटेगरी के लिए आरक्षित है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 16, 2021, 16:25 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UKPSC APO Recruitment 2021: एलएलबी की डिग्री हासिल कर चुके और नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के पास उत्तराखंड में असिस्टेंट प्रॉसीक्यूशन ऑफिसर (APO) बनने का सुनहरा मौका है. बता दें कि उत्तराखंड पब्लिक सर्विस कमीशन की ओर से जारी असिस्टेंट प्रॉसीक्यूशन ऑफिसर के पद पर कुल 63 भर्तियां की जानी है. इसके लिए इच्छुक और योग्य अभ्यर्थी कल यानी 17 सितंबर तक आवेदन कर सकते हैं. ऐसे में जिन अभ्यर्थियों ने अभी तक आवेदन नहीं किया है वो यूकेपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट ukpsc.gov.in पर विजिट करके ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

बता दें कि असिस्टेंट प्रॉसीक्यूशन ऑफिसर के पदों पर आवेदन प्रक्रिया 3 अगस्त 2021 को शुरू हुई थी. कुल 63 पदों पर भर्तियां के लिए 31 सीटें जनरल कैटेगरी के लिए, 6 सीटें ईडब्ल्यूएस कैटेगरी के लिए, 12 सीटें ओबीसी कैटेगरी के लिए, 13 सीटें एससी कैटेगरी के लिए और 1 सीट एसटी कैटेगरी के लिए आरक्षित है. अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी ऑफिशियल नोटिफिकेशन भी देख सकते हैं.

ये भी पढ़ें-
UPSC CMS 2021: परीक्षा का शेड्यूल जारी, जानें कब होगा एग्‍जाम
Sarkari Naukri: युवाओं के लिए सरकारी नौकरी का मौका, 10वीं पास से लेकर ग्रेजुएट तक करें अप्लाई

UKPSC Recruitment 2021: ऐसे करें ऑनलाइन अप्लाई

  • सबसे पहले यूकेपीएससी की ऑफिशियल वेबसाइट ukpsc.gov.in पर विजिट करें.
  • वेबसाइट के होम पेज पर दिए Recruitment पर क्लिक करें.
  • अब यहां UKPSC Assistant Prosecution Officer APO 2021 के लिंक पर क्लिक करें.
  • एक नया पेज खुलेगा यहां रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया की डिटेल्ट भरें.
  • रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के बाद एप्लीकेशन फॉर्म भरें.
  • सबसे लास्ट में प्रिंटआउट जरूर ले लें.

UKPSC Recruitment 2021: योग्यता और आयु सीमा
इन पदों पर आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों के पास एलएलबी पास की डिग्री अनिवार्य रूप से होनी चाहिए. इसके अलावा आवेदन के लिए अभ्यर्थी की उम्र 21 साल से 42 साल के बीच होनी चाहिए. बता दें कि इन पदों के लिए परीक्षा का आयोजन और एडमिट कार्ड जारी होने की तारीख अभी घोषित नहीं हुई है. ऐसे में अभ्यर्थी नियमित अपडेट के लिए आयोग की वेबसाइट पर नजर बना कर रखें.

ऋषिकेश : साल में सिर्फ 1 दिन होते हैं राधा रानी के चरणों के दर्शन

मधुबन आश्रम में राधा अष्टमी धूमधाम से मनाई गई.

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के ठीक 15 दिन बाद राधा अष्टमी मनाई जाती है.

SHARE THIS:

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के ठीक 15 दिन बाद राधा अष्टमी मनाई जाती है. ऋषिकेश के मधुबन आश्रम स्थित मंदिर में इस दिन पूरे साल में एक बार राधा रानी के चरणों के दर्शन भक्तों को करवाए जाते हैं. साथ ही इस दिन बड़ी संख्या में भक्त मंदिर में इकट्ठा होकर भजन-कीर्तन करते हैं.

राधा अष्टमी को राधा के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है. मुनि की रेती स्थित मधुबन आश्रम में राधा रानी का जन्मदिन बड़े धूमधाम से मनाया गया.

इस मौके पर भगवान कृष्ण और राधा रानी का दूध, दही और जल से अभिषेक हुआ. इसके अलावा भक्तों को साल में एक दिन होने वाले राधाचरणों के दर्शन भी करवाए गए. वहीं कृष्ण भक्तों ने हरे राम, हरे कृष्ण का जप करते हुए भजन-कीर्तन कर समां बांध दिया.

कोरोना की तीसरी लहर की ये कैसी तैयारी? सरकारी अस्पताल में 'शोपीस' बने 21 वेंटिलेटर

ऋषिकेश के सरकारी अस्पताल को 21 वेंटिलेटर दिए गए हैं.

वेंटिलेटर के संचालन के लिए एनेस्थेटिक, टेक्नीशियन और नर्सिंग स्टाफ की जरूरत होती है.

SHARE THIS:

कोरोना महामारी की तीसरी लहर से निपटने के लिए कई राज्य तैयारियों में जुटे हुए हैं. अस्पतालों में वेंटिलेटर की व्यवस्था की जा रही है. ऋषिकेश के सरकारी अस्पताल में भी कोविड के गंभीर मरीजों के इलाज के लिए 21 वेंटिलेटर लगाए गए हैं लेकिन अभी तक वेंटिलेटर के संचालन के लिए अस्पताल को प्रशिक्षित स्टाफ नहीं दिया गया है, जिसके चलते सभी वेंटिलेटर शोपीस बने हुए हैं.

वेंटिलेटर के संचालन के लिए एनेस्थेटिक, टेक्नीशियन और नर्सिंग स्टाफ की जरूरत होती है लेकिन अस्पताल के पास एक भी एनेस्थेटिक और टेक्नीशियन नहीं है. ऐसे में तीसरी लहर के आने पर जहां कोविड के गंभीर मरीजों को दर-दर भटकना पड़ेगा, वहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा मिले यह वेंटिलेटर भी बेकार साबित होंगे.

अस्पताल के सीएमएस डॉक्टर विजयेश भारद्वाज ने बताया कि वह कई बार शासन से पत्र लिखकर स्टाफ की मांग कर चुके हैं. उन्हें उम्मीद है कि जल्द ही स्टाफ की नियुक्तियां कर दी जाएंगी.

दिव्यांगों की मदद कर रहीं अंतरराष्ट्रीय पैरा खिलाड़ी नीरजा गोयल, बोलीं- बेहतर संसाधन मिलें तो...

अपने मेडल्स के साथ अंतरराष्ट्रीय पैरा खिलाड़ी नीरजा गोयल.

नीरजा गोयल बैडमिंटन में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पैरा खेलों की कई प्रतियोगिताओं में भाग ले चुकी हैं.

SHARE THIS:

पैरा ओलंपिक में इस बार भारतीय दिव्यांग खिलाड़ियों ने देश का लोहा मनवाया. खिलाड़ियों ने पैरालंपिक में 19 पदक अपने नाम किए, जिससे साफ जाहिर होता है कि अगर दिव्यांग खिलाड़ियों को संसाधन उपलब्ध कराए जाएं तो वह भी बाकी खेलों की तरह पैरा खेलों में देश का नाम रोशन कर सकते हैं. ऋषिकेश की दिव्यांग पैरा खिलाड़ी नीरजा गोयल ने अन्य दिव्यांगों की मदद का बीड़ा उठाया है.

नीरजा गोयल बैडमिंटन में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पैरा खेलों की कई प्रतियोगिताओं में भाग ले चुकी हैं. साथ ही कई पुरस्कार और पदक भी अपने नाम कर चुकी हैं. उन्होंने कहा कि वह पिछले कई साल से ऋषिकेश में पैरा खिलाड़ियों के लिए एक जगह की मांग की जा रही है, जहां दिव्यांग खिलाड़ी खेलों की तैयारी कर सकें.

जिसके बाद खिलाड़ी पैरा ओलंपिक के लिए भी तैयार हो सकें. उन्होंने आगे कहा कि इसके लिए वह मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष, खेल मंत्रालय और नगर निगम से भी गुहार लगा चुकी हैं लेकिन अब तक किसी ने भी दिव्यांग खिलाड़ियों को आगे बढ़ाने के लिए कोई मदद नहीं की है.

घायल बेजुबानों का सहारा बनीं ऋषिकेश की देवकी, घर खर्च के पैसों से करती हैं जानवरों का इलाज

देवकी सुबेदी अब तक दर्जनों पशुओं का इलाज कर चुकी हैं.

ऋषिकेश की देवकी सुबेदी अब तक 100 से ज्यादा मवेशियों का इलाज कर चुकी हैं.

SHARE THIS:

सड़कों पर बढ़ती गोवंश की समस्या से न सिर्फ राहगीर परेशान होते हैं, बल्कि मवेशियों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. कई बार सड़क में घूम रहे मवेशी वाहनों से चोटिल हो जाते हैं, वहीं कई मवेशियों की बीमारी के चलते इलाज न मिलने से मौत हो जाती है. ऐसे में जरूरतमंद गोवंश के लिए आशियाना बनाकर रायवाला की देवकी सुबेदी ने उनके इलाज का बीड़ा उठाया है.

देवकी अब तक 100 से ज्यादा मवेशियों का इलाज कर चुकी हैं. सबसे बड़ी बात है कि देवकी इन सभी का खर्च वह अपनी जेब से उठाती हैं. फिलहाल उनकी गौशाला में 12 पशु हैं, जिनका इलाज चल रहा है.

वहीं अगर इलाज के दौरान किसी मवेशी की मौत हो जाती है, तो उसका भी हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार अंतिम संस्कार किया जाता है. वह कहती हैं कि उन्होंने अब अपना जीवन घायल पशुओं के इलाज के लिए ही समर्पित कर दिया है.

स्थानीय युवक और पुरोहित पंडित योगेश बलोदी भी गोवंशों की सेवा के लिए देवकी की मदद को आगे आए हैं. अलग-अलग जगहों से घायल मवेशियों को लाने और छोड़ने का काम भी योगेश ही करते हैं.

इस गौशाला में जहां घायल पशुओं को नया जीवन मिल रहा है, वहीं शहर के अन्य लोगों को भी ऐसा करने की प्रेरणा मिल रही है.

हरिद्वार के करण सिंह के पास है 'राम दरबार' वाला ये सिक्का, दावा- 1 करोड़ तक लगी बोली

हरिद्वार में पुराने सिक्कों का व्यापार होता है.

हरिद्वार के करण सिंह के पास चांदी, तांबे, पीतल समेत कई तरह की धातु में बने सिक्के उपलब्ध हैं.

SHARE THIS:

किसी भी देश के सिक्के उसके इतिहास का दर्पण होते हैं. कई लोग पुराने सिक्कों को जमा करने का शौक रखते हैं. यही वजह है इन सिक्कों के बंद हो जाने के बाद भी बाजार में यह सिक्के महंगे दामों में खरीदे और बेचे जा रहे हैं. हरिद्वार के करण सिंह के पास राम दरबार वाला सिक्का है. उनका दावा है कि इस सिक्के की एक करोड़ रुपये बोली लग चुकी है.

करण सिंह पिछले 20 साल से पीढ़ी दर पीढ़ी पुराने सिक्कों का व्यवसाय कर रहे हैं. वह बताते हैं कि उनके पास चांदी, तांबे, पीतल समेत कई तरह की धातु में बने सिक्के मौजूद हैं, जो मुगल काल से लेकर ब्रिटिश शासन तक की झलक दिखाते हैं.

इसके साथ ही राम दरबार नाम से एक सिक्का काफी मशहूर है, जिसकी कीमत पुराने सिक्कों के बाजार में लाखों और करोड़ों रुपये बताई जाती है. करण सिंह का दावा है कि उनके पास भी इस सिक्के के लिए 50 लाख और एक करोड़ रुपये तक के ऑफर आए थे, लेकिन उस समय किसी कारणवश उन्होंने इसे नहीं बेचा.

वहीं दूसरी ओर पुराने सिक्कों के बाजार में मांग ज्यादा और सप्लाई कम होने की वजह से नकली सिक्कों का भी चलन बढ़ने लगा है, जिसके चलते यह जरूरी है कि अगर आप कोई महंगा सिक्का खरीद रहे हैं, तो पहले उसकी असलियत की भी जांच अच्छी तरीके से कर लें.

हरिद्वार : मूर्ति रूप में विराजमान हैं 'भारत माता', देश के नायकों को समर्पित है मंदिर

मंदिर में कई संतों की भी प्रतिमाएं हैं.

हरिद्वार का 'भारत माता मंदिर' एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है, जो भारत मां को समर्पित है.

SHARE THIS:

हरिद्वार का \’भारत माता मंदिर\’ एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है, जो भारत मां को समर्पित है. यह मंदिर देश-विदेश से आने वाले सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र रहता है. इसका निर्माण प्रसिद्ध धार्मिक गुरु स्वामी सत्यमित्रानंद गिरी ने करवाया था. तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने साल 1983 में इस मंदिर का उद्घाटन किया था.

मंदिर में 8 मंजिलें हैं और यह 180 फुट की ऊंचाई पर स्थित है. मंदिर की अलग-अलग मंजिलों पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, मातृ शक्तियों, साधु-संतों और कई देवी-देवताओं की प्रतिमाएं स्थापित की गई हैं.

मंदिर में सबसे प्रमुख पहली मंजिल पर स्थित भारत माता की मूर्ति है, जो भारत देश की अखंडता का प्रतीक है. भारत माता की मूर्ति को स्थापित करके एकता का संदेश दिया गया है.

दूसरी मंजिल पर \’शूर मंदिर\’ है, जो भारत के शूरवीरों को समर्पित है, इसमें भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, रानी लक्ष्मी बाई, सुभाष चंद्र बोस, सरदार पटेेेल और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जैसेे नायकों की प्रतिमाओं को स्थान दिया गया है.

महिलाओं ने नाचते-गाते मनाई 'हरतालिका तीज', जानिए इस त्योहार का इतिहास

'हरतालिका तीज' के अवसर पर पारंपरिक पोशाक में महिलाएं.

भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर 'हरतालिका तीज' का त्योहार मनाया जाता है.

SHARE THIS:

गोरखालियों का प्रमुख त्योहार \’हरतालिका तीज\’ हर साल बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है. ऋषिकेश के रायवाला में स्थित घुश्यारी मंदिर में इस त्योहार के कार्यक्रम कई पीढ़ियों से होते आ रहे हैं. महिलाएं इस दिन व्रत रखती हैं और अपने पारंपरिक परिधानों के साथ नाच-गाना कर इस त्योहार को पूरे हर्षोल्लास से मनाती हैं. इस दौरान महिलाओं के झूला झूलने का भी विशेष रिवाज है.

हिंदू पंचांग के अनुसार, भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर \’हरतालिका तीज\’ का त्योहार मनाया जाता है. तीज का त्योहार सुहागन महिलाओं के लिए बहुत खास होता है. इस दिन महिलाएं व्रत रखती हैं. मां पार्वती और भगवान शिव की पूजा करके वे अपने पति की लंबी उम्र और सौभाग्य की प्रार्थना करती हैं.

मान्यताओं के अनुसार, तीज का व्रत सबसे पहले माता पार्वती ने रखा था. इससे खुुश होकर भगवान शिव नेे पार्वती सेेेेेे विवाह करना स्वीकार किया था. यही वजह है कि \’हरियाली तीज\’ पर कुंवारी लड़कियां भी व्रत रखती हैं और अच्छे वर की प्राप्ति के लिए माता पार्वती से प्रार्थना करती हैं.

हरिद्वार का सप्तऋषि घाट, यहां इस वजह से 7 हिस्सों में बंट गई थी गंगा नदी

सप्तऋषि घाट हरिद्वार में स्थित है.

मां गंगा ने भय से ऋषियों की तपस्या भंग नहीं की और वह स्वयं ही 7 हिस्सों में बंट गईं.

SHARE THIS:

हरिद्वार के हर की पौड़ी से 5 किलोमीटर दूरी पर स्थित यह जगह सप्तऋषि घाट के नाम से जानी जाती है. यहां पर सप्त ऋषियों ने तपस्या की थी. ऐसा माना जाता है कि जब मां गंगा नदी के रूप में गोमुख से आगे बढ़ रही थीं, तो इसी जगह पर सप्तऋषि पूरे भक्ति भाव से तपस्या में लीन थे.

मां गंगा ने भय से ऋषियों की तपस्या भंग नहीं की और वह स्वयं ही 7 हिस्सों में बंट गईं यानी नदी ने अपना रास्ता बदल लिया. यही वजह है कि इसे \’सप्त धारा\’ भी कहा जाता है.

मान्यता है कि पांडव भी स्वर्ग जातेेे समय इसी स्थान से होकर गुजरे थे. एक हिंदू लोककथा के अनुसार, सप्त ऋषियों का यह आश्रम उनका आराधना स्थल था.

Load More News

More from Other District