Home /News /uttarakhand /

दोगुना हो गया हरिद्वार में कुंभ मेले का क्षेत्र, इस बार 1200 हैक्टेयर से ज़्यादा का होगा मेला क्षेत्र

दोगुना हो गया हरिद्वार में कुंभ मेले का क्षेत्र, इस बार 1200 हैक्टेयर से ज़्यादा का होगा मेला क्षेत्र

सरकार का मानना है कि 2021 में देश-दुनिया से 15 करोड़ लोगों के हरिद्वार आने की संभावना है. (फ़ाइल फ़ोटो)

सरकार का मानना है कि 2021 में देश-दुनिया से 15 करोड़ लोगों के हरिद्वार आने की संभावना है. (फ़ाइल फ़ोटो)

सभी अखाड़ों के साथ ही दूसरे साधु संतो की छावनियों के लिए गौरी शंकर, दक्ष मंदिर और श्यामपुर कांगड़ी के आसपास वाले क्षेत्र को मेला क्षेत्र में शामिल किया गया है.

हरिद्वार. 2021 हरिद्वार कुम्भ में मेला क्षेत्र पिछले कुंभ के मुकाबले करीब दोगुना होगा. कुंभ मेला क्षेत्र के विस्तार की साधु संतो की मांग पर मेला प्रशासन ने इस बार 2010 कुम्भ मेले की अपेक्षा मेला क्षेत्र को दोगुना कर दिया है. पिछले कुम्भ में लगभग 650 हैक्टेयर  भूमि पर कुम्भ मेला संपन्न हुआ था, इस बार 1200 हैक्टेयर में ज़्यादा इलाक़ा मेला क्षेत्र में आएगा.

भूमि आवंटन जल्द 

अपर कुंभ मेलाधिकारी हरवीर सिंह ने बताया कि सभी अखाड़ों के साथ ही दूसरे साधु संतो की छावनियों के लिए गौरी शंकर, दक्ष मंदिर और श्यामपुर कांगड़ी के आसपास वाले क्षेत्र को मेला क्षेत्र में शामिल किया गया है.

अपर कुम्भ मेलाधिकारी हरवीर सिंह ने कहा कि चिन्हित किए गए कुम्भ क्षेत्र में बिजली, पानी, सड़क, शौचालय समेत सभी व्यवस्थाएं की जा रही हैं. जल्द ही साधु संतों की छावनियों के लिए भूमि आवंटन की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी.

अक्टूबर तक होने हैं काम पूरे 

बता दें कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कुम्भ मेले आयोजन के लिए केंद्र से 5,000 करोड़ रुपये की मांग की है. सरकार का मानना है कि 2021 में देश-दुनिया से 15 करोड़ लोगों के हरिद्वार आने की संभावना है. इसके लिए सभी काम अक्टूबर 2020 तक पूरा किए जाने ज़रूरी हैं.

ये भी देखें: 

2021 कुंभ में हरिद्वार की दीवारें कहेंगी उत्तराखंड की कहानी...

कुंभ क्षेत्र में अंडरग्राउंड केबलिंग का काम ढीला, चेतावनी के बावजूद नहीं सुधर रही कंपनी

Tags: Ganga river, Haridwar, Uttarakhand BJP, Uttarakhand news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर