Home /News /uttarakhand /

धर्म संसद विवाद : SIT को अब तक ट्रांसफर नहीं हुआ केस, उत्तराखंड पुलिस जांच की रफ्तार पर उठे सवाल

धर्म संसद विवाद : SIT को अब तक ट्रांसफर नहीं हुआ केस, उत्तराखंड पुलिस जांच की रफ्तार पर उठे सवाल

धर्म संसद के विवादों में घिरने के बाद एसआईटी को जांच सौंपी गई है.

धर्म संसद के विवादों में घिरने के बाद एसआईटी को जांच सौंपी गई है.

Hate Speech Controversy : यति नरसिंहानंद, महंत धर्मदास और जितेंद्र नारायण त्यागी उर्फ वसीम रिज़वी (Wasim Rizvi) समेत 10 लोगों के खिलाफ हाल ही दूसरी एफआईआर दर्ज की गई थी. इससे पहले धर्म संसद के वायरल वीडियो से उठे विवाद के बाद जांच को लेकर पुलिस कप्तान की ओर से एसआईटी से जांच (SIT Inquiry) कराए जाने की बात कही गई थी, लेकिन अब इस जांच पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं. पुलिस अधिकारी इस पूरे मामले में जवाब देने से कतरा रहे हैं. जानिए क्या है मामला और जांच का मौजूदा हाल.

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट – पुलकित शुक्ला

    हरिद्वार. हेट स्पीच को लेकर धर्म संसद के विरोध में दर्ज रिपोर्ट के बाद जांच का आलम यह है कि ऐलान के बाद अब तक केस एसआईटी को ट्रांसफर नहीं हो पाया. तीन दिन बाद भी अफसरों को आदेश की कॉपी नहीं दी गई है. इस बारे में बात करने से पुलिस के आला अफसर किनारा कर रहे हैं. डीआईजी गढ़वाल ने 1 जनवरी को जांच के लिए एसआईटी बनाई थी और यह ऐलान किया गया था कि इस मामले में त्वरित गति से जांच के लिए यह कदम उठाया गया, लेकिन इस जांच की रफ्तार पर ही सवाल खड़े हो रहे हैं.

    धर्म संसद विवाद की जांच के मामले में बताया जा रहा है कि अभी तक केस एसआईटी को नहीं सौंपा गया है. एसपी देहात देहरादून के नेतृत्व में बनी 5 सदस्यीय एसआईटी को केस न मिलने के बारे में हरिद्वार पुलिस के अधिकारियों ने बात करने से किनारा कर लिया. 1 जनवरी को बनाई गई एसआईटी के बारे में कहा गया था कि यह मंगलवार से जांच शुरू करेगी, लेकिन इसकी औपचारिकताएं अब तक अधूरी हैं. इससे पहले डीजीपी अशोक कुमार के निर्देश पर पांच सदस्यों की टीम बनाई थी, जिसकी अगुवाई देहरादून की एसपी देहात कमलेश उपाध्याय को दी गई थी.

    क्या है मामला?

    उत्तराखंड चुनाव की हलचलों के बीच 17 से 20 दिसंबर के बीच हरिद्वार के वेदन निकेतन आश्रम में धर्म संसद का आयोजन किया गया था. इस कार्यक्रम के वीडियो वायरल हुए. इनमें कई कथित साधु और संत मुदाय विशेष के खिलाफ नफरत भड़काने वाले बयान देते नज़र आए थे. मामले ने तूल पकड़ा तो नफरती भाषणों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई. और फिर हाल में दूसरी एफआईआर भी दर्ज की गई.

    ज्वालापुर निवासी गुलबहार कुरैशी ने पहले हरिद्वार शहर कोतवाली में मुकदमा दर्ज करवाया था. इसके बाद हाल में शहर के ही नदीम अली की शिकायत पर ज्वालापुर थाने में दूसरी एफआईआर दर्ज हुई, इसे बाद में शहर कोतवाली में ट्रांसफर कर दिया गया, जहां इसी केस में पहली रिपोर्ट दर्ज हुई थी.

    Tags: Uttarakhand news, Uttarakhand Police

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर