Haridwar Kumbh News: मेला समाप्त करने पर अखाड़ों में फूट, बैरागी संत बोले- माफी मांगे निरंजनी अखाड़ा

सांकेतिक फोटो.

सांकेतिक फोटो.

Kumbh Corona News: उत्तराखंड के हरिद्वार कुंभ (Haridwar Kumbh) को 30 अप्रैल से पहले ही समाप्त करने पर साधु-संत एक मत नहीं हैं. इस मामले में संन्यासी और बैरागी अखाड़े आमने-सामने आ चुके हैं.

  • Share this:
हरिद्वार. उत्तराखंड के हरिद्वार में चल रहे कुंभ (Haridwar Kumbh) को 30 अप्रैल से पहले ही समाप्त करने पर साधु-संत एक मत नहीं हैं. इस मामले में संन्यासी और बैरागी अखाड़े आमने-सामने आ चुके हैं. 13 अखाड़ों में से निरंजनी और आनंद अखाड़े ने अपनी तरफ से 17 अप्रैल को मेले की अंतिम तारीख करार दे दिया है. दोनों अखाड़े अपनी तरफ से गुरुवार को घोषित कर चुके हैं कि 17 अप्रैल को मेला समाप्ति हो जाएगी, लेकिन संन्यास परंपरा से जुड़े दोनों अखाड़ों से इतर बैरागी संतों और अखाड़ों की अलग राय है. बैरागी अखाड़े के संत निरंजनी और आनंद अखाड़े के इस फैसले के खिलाफ खड़े हो गए हैं और बाकायदा माफी मांगने की मांग कर रहे हैं. साथ ही धमकी दी है कि अगर दोनों अखाड़े माफी नहीं मागेंगे तो निर्मोही अणि, निर्वाणी अणि और दिगंबर अणि​ अखाड़ा परिषद से अलग हो जाएंगे.

बैरागी अखाड़ों से जुड़े निर्मोही अणि, निर्वाणी अणि और दिगंबर अणि के संतों ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेस कर इस निरंजनी और आनंद अखाड़े के फैसले पर नाराजगी जाहिर की. दोनों अखाड़ों के संतों से सार्वजनिक रूप से माफी मांगने की मांग की. निर्वाणी अनी अखाड़ा के अध्यक्ष  महंत धर्मदास ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा है कि कुंभ मेला समाप्ति की घोषणा करने का अधिकार या तो अखाड़ा परिषद को है या मुख्यमंत्री या मेला अधिकारी को. कोई भी अखाड़ा अकेले ये फैसला नहीं ले सकता है. इसलिए निरंजनी और आनंद अखाड़े द्वारा 17 अप्रैल को मेला समाप्ति की जो घोषणा की गई है वो पूरी तरह से गलत है. यही नहीं महंत धर्मदास ने कहा कि दोनों अखाड़े अन्य अखाड़ों से माफी मांगे अन्यथा उनके अखाड़े अखाड़ा परिषद के साथ नहीं रह सकते.

Youtube Video


कोरोना का असर
गुरुवार को निरंजनी अखाड़े के सचिव महंत रविंद्रपुरी ने कहा था कि कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए उनका अखाड़ा 17 अप्रैल को अपनी तरफ से मेला समाप्ति की घोषणा करता है. हालांकि, उन्होंने साफ किया था कि ये केवल उनके अखाड़े का फैसला है, क्योंकि कई साधु और संतों के साथ ही उनके भक्त और श्रद्धालु भी कोरोना पॉजीटिव आए हैं. इसलिए वो समय से पहले ही कुंभ मेला समाप्ति का फैसला लेने को मजबूर हैं. इस अखाड़े के सहयोगी आनंद अखाड़े ने भी इस फैसले से सहमति जाहिर की थी. दोनों अखाड़ों ने कहा था कि 27 अप्रैल को होने वाला शाही स्नान सांकेतिक रूप से जरूर होगा, जिसमें कुछ गिने-चुने संत स्नान करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज