Mahakumbh Shahi Snan: हरिद्वार में उमड़ा श्रद्धालुओं का हुजूम, 17.31 लाख लोगों ने किया स्‍नान

12 और 14 तारीख को मुख़्य शाही स्नान है. ऐसे में पुलिस प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं.

12 और 14 तारीख को मुख़्य शाही स्नान है. ऐसे में पुलिस प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं.

Mahakumbh Shahi Snan: डीजीपी अशोक कुमार (DGP Ashok Kumar) ने हरिद्वार पहुंचने वाले श्रद्धालुओं से अपील की है कि सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस का सख़्ती के साथ पालन करें.

  • Share this:
हरिद्वार. धर्मनगरी हरिद्वार में शाही स्‍नान का दौर चल रहा है. मेला प्रशासन की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, सोमवार को सुबह 10 बजे तक कुंभ मेला एरिया में 17.31 लोगों ने गंगा में स्‍नान किया. इससे पहले कुंभ मेला के लिए सुरक्षा को लेकर बेहतर और मुकम्‍मल व्‍यवस्‍था करने का दावा किया गया है. इसी बीच, कुंभ मेला के लिए तैनात पुलिस अधिकारियों का कहना है कि लाखों की भीड़ के चलते सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन सुनिश्चित करना मुश्किल है. अधिकारियों ने बताया कि ऐसा करने पर भगदड़ की स्थिति पैदा हो सकती है.

13 अखाड़ों के शाही स्नान की अगुवाई निरंजनी अखाड़ा ने किया. इस अखाड़े के साथ आनंद भी स्नान भी करेगा. इन अखाड़ों को ब्रह्मकुंड में स्नान के लिए 30 मिनट तक का समय दिया गया है. इसके साथ ही स्‍नान के दौरान दो अखाड़ों के बीच 50 गज का फासला होना जरूरी कर दिया गया है. यानी ब्रह्मकुंड में सबसे पहले निरंजी अखाड़े के सन्यास परंपरा से जुड़े साधु-संत स्नान करेंगे, जिसमें बड़ी संख्या में नागा साधु भी शामिल रहेंगे. इस अखाड़े का नेतृत्व आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंदगिरी करेंगे. उसके बाद दोनों अखाड़े ब्रह्मकुंड में स्नान के बाद अपनी-अपनी छावनी में चले जाएंगे.

बताते चलें कि 12 और 14 तारीख को मुख़्य शाही स्नान है. ऐसे में पुलिस प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी कर ली है. डीजीपी अशोक कुमार का कहना है कि पिछले कुम्भ के तुलना में श्रद्धालुओं में भारी कमी आ सकती है. हालांकि, पुलिस ने मुख्य स्थानों पर पुख्ता इंतजाम किए हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस का एक्शन प्लान 2010 कुम्भ को देखते हुए तैयार किया गया है. वहीं, अगर श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ती है तो एमरजेंसी योजनाओं को लागू किया जा सकता है.

7 बजे के बाद हरकी पैड़ी जीरो ज़ोन
सुबह 7:00 बजे के बाद हर की पौड़ी को जीरो जोन कर दिया जाएगा. 12 और 14 तारीख को सुबह 7:00 बजे तक की श्रद्धालुओं द्वारा हर की पैड़ी पर स्नान  किया जा सकता है. उसके बाद आम जनता हर की पैड़ी पर स्नान नहीं कर पाएगी. उनके लिए अन्य घाटों को आरक्षित किया गया है, जहां पर कोविड के नियमों का पालन करने के साथ श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगा सकेंगे.

डीजीपी ने की अपील

डीजीपी अशोक कुमार ने हरिद्वार पहुंचने वाले श्रद्धालुओं से अपील की है कि सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस का सख़्ती के साथ पालन करें. मास्क का उपयोग करें और शारीरिक दूरी बनाकर रखें. उत्तराखंड पुलिस श्रद्धालुओं के लिए लगातार व्यवस्थाओं को दुरुस्त कर रही है. ऐसे में श्रद्धालु हरिद्वार आए और सभी नियमों के पालन के साथ स्नान में शरीक हों.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज