Home /News /uttarakhand /

वर्चुअल अस्थि विसर्जन के आइडिया से हरिद्वार के पुरोहित नाराज, देशव्यापी विरोध की चेतावनी

वर्चुअल अस्थि विसर्जन के आइडिया से हरिद्वार के पुरोहित नाराज, देशव्यापी विरोध की चेतावनी

हरिद्वार में वर्चुअल अस्थि विसर्जन के लिए योजना बन रही है. (File Photo)

हरिद्वार में वर्चुअल अस्थि विसर्जन के लिए योजना बन रही है. (File Photo)

देवस्थानम बोर्ड एक्ट पहले ही उत्तराखंड के पुरोहित समुदाय का मुद्दा बना हुआ है. अब उनका कहना है कि सरकार एक के बाद एक हक छीनना चाह रही है. जानिए यह 'मुक्ति योजना' क्या है और पुरोहित क्यों नाराज़ हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    हरिद्वार. जो लोग अपने परिजनों की अस्थियां हरिद्वार में गंगा में विसर्जित करना चाहते हैं, अब उन्हें व्यक्तिगत तौर पर वहां पहुंचने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी! उत्तराखंड में संस्कृत भाषा के प्रचार एवं विस्तार के लिए बनी सरकारी संस्था संस्कृत अकादमी जो नया प्लान बना रही है, उसके मुताबिक अब लोग कोरियर या किसी और ज़रिये से अपने परिजनों की अस्थियां हरिद्वार पहुंचा सकेंगे और उनका विसर्जन अकादमी अपने स्तर पर पूरे रीति रिवाज के साथ करेगी और इस अस्थि विसर्जन रीति को आप लाइव स्ट्रीमिंग के ​ज़रिये घर बैठे अपने परिवार के साथ देख सकेंगे. लेकिन इस नए आइडिया से हरिद्वार का पुरोहित समुदाय खासा नाराज़ आ रहा है.

    अकादमी के सचिव आनंद भारद्वाज की मानें तो अकादमी ने करीब पांच महीने पहले जो संकल्प लिया था, उसके तहत ऐसा प्रस्ताव बनाया गया है, जिसे ‘मुक्ति योजना’ का नाम दिया गया है. एक रिपोर्ट की मानें तो भारद्वाज ने कहा, ‘तीन करोड़ से ज़्यादा अप्रवासी भारतीयों की ज़रूरत को ध्यान में रखकर इस आइडिया पर काम किया गया. मौजूदा व्यवस्था में इतनी बड़ी संख्या में हिंदू वंचित रह जाते हैं.’ हालांकि अभी इस योजना की लॉंचिंग की तारीख और इसके अनुसार शुल्क आदि तय नहीं किए गए हैं.

    ये भी पढ़ें : मसूरी में वीकेंड पर 15000 से ज़्यादा पर्यटक नहीं आ सकेंगे, जानिए कौन से प्रोटोकॉल्स हैं अनिवार्य

    uttarakhand news, uttarakhand priests, haridwar news, haridwar ghat, hindu last rites, उत्तराखंड न्यूज़, हरिद्वार न्यूज़, हरिद्वार के घाट

    वर्चुअल ​अस्थि विसर्जन प्लान का विरोध हरिद्वार के पुरोहित समुदाय ने किया है.

    ‘मुक्ति योजना’ पर क्या है असंतोष?
    उत्तराखंड संस्कृत अकादमी के इस प्रस्ताव को लेकर ​हरिद्वार के पुरोहित समुदाय ने नाराज़गी और चेतावनी ज़ाहिर कर दी है. हर की पौड़ी घाट की प्रशासक संस्था गंगा सभा के प्रमुख प्रदीप झा के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया, ‘सरकार धीरे धीरे हमारे अधिकार छीन रही है. अस्थि विसर्जन का हक भी हमसे छीना गया, तो देश भर के हिंदू संगठनों व पार्टियों के साथ मिलकर सभी पुरोहित विरोध और प्रदर्शन करेंगे.’

    ये भी पढ़ें : आपदाग्रस्त धारचूला में एक और आफत, एक गैस सिलेंडर के लिए चुकाने पड़ रहे 2500 रुपये

    ‘अकादमी बीच में न आए’
    झा ने साफ तौर पर कहा, ‘गंगा सभा के अलावा किसी अन्य व्यक्ति या संस्था द्वारा यदि अस्थि विसर्जन करवाया गया, तो गंगा सभा उसका विरोध करेगी. अस्थि विसर्जन का मामला एक परिवार और उसके कुल पुरोहित के बीच का होता है, इसमें किसी तीसरे का दखल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.’ दूसरी तरफ, इस विवाद पर सभा के महासचिव तन्मय वशिष्ठ ने कहा कि अकादमी हिंदू श्रद्धालुओं और पुरोहितों के बीच मध्यस्थ बनने की कोशिश कर रही है, जिसे मंज़ूर नहीं किया जा सकता.

    Tags: Haridwar news, Hindu Organization, Last ritual, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर