IIT रुड़की ने पहाड़ के लिए बनाया 'आत्मनिर्भर' कोल्ड स्टोरेज, नदी-गदेरों से खुद बनाएगा बिजली

4 से 5 हज़ार किलोग्राम क्षमता का यह कोल्ड स्टोरेज पहाड़ के लिए वरदान साबित हो सकता है.

News18 Uttarakhand
Updated: June 12, 2019, 1:07 PM IST
IIT रुड़की ने पहाड़ के लिए बनाया 'आत्मनिर्भर' कोल्ड स्टोरेज, नदी-गदेरों से खुद बनाएगा बिजली
आईआईटी रुड़की ने ख़ासतौरपर पहाड़ों के लिए यह कोल्ड स्टोरेज विकसित किया है.
News18 Uttarakhand
Updated: June 12, 2019, 1:07 PM IST
आईआईटी रुड़की के जल नवीनीकरण विभाग (एचआरईडी) के रूरल एक्शन ग्रुप ने पहाड़ी क्षेत्रों के किसानों के लिए यह पोर्टेबल कोल्ड स्टोरेज तैयार किया है. इसमें किसान अपनी सब्ज़ी, फलों को सुरक्षित रख सकते हैं. दरअसल बारिश में और उसके बाद पहाड़ के रास्ते ख़राब हो जाते हैं और जब तक उन्हें ठीक किया जाता है तब तक फल-सब्ज़ियां ख़राब हो जाते हैं.

प्रयोगशाला में रहा सफल 



ऐसे में 4 से 5 हज़ार किलोग्राम क्षमता का यह कोल्ड स्टोरेज पहाड़ के लिए वरदान साबित हो सकता है. ख़ास बात यह भी है कि बिजली के मामले में यह 'आत्मनिर्भर' होगा यानि इसे ग्रिड का मोहताज नहीं रहना होगा. इस कोल्ड स्टोरेज को गदेरों, नदियों के किनारे लगाया जाएगा ताकि माइक्रो हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट से बिजली का उत्पादन कर यह अपनी ज़रूरत की बिजली खुद बना सके.

इस कोल्ड स्टोरेज को डेवलप करने वाली टीम के प्रमुख आईआईटी रुड़की के वैज्ञानिक आरपी सैनी बताते हैं कि इस कोल्ड स्टोरेज का परीक्षण प्रयोगशाला में किया जा चुका है और जल्द ही इसे पहाड़ में इंस्टॉल किया जाएगा.

बर्निगार्ड में लगाया जाएगा 

इसके लिए उत्तरकाशी ज़िले की बड़कोट तहसील के बर्निगार्ड का चयन किया गया है. वहां आईआईटी रुड़की इसे इंस्टॉल करेगा. एक एनजीओ और किसान मिलकर इसकी मेंटेनेंस का खर्च उठाएंगे.

(रुड़की से मनोज जुयाल की रिपोर्ट)
Loading...

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...