• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • माहे रमजान में 'रोजा' रख खुदा को याद कर रहे ये मासूम बच्चे, रोज कर रहे हैं दुआ

माहे रमजान में 'रोजा' रख खुदा को याद कर रहे ये मासूम बच्चे, रोज कर रहे हैं दुआ

देश में इस बार का रमजान महीना लॉकडाउन के दौरान पड़ा है.

देश में इस बार का रमजान महीना लॉकडाउन के दौरान पड़ा है.

इस्लाम धर्म (Islam Religion) में सबसे पवित्र माने जाने वाला रमजान (Ramdan) का महीना चल रहा है. इस दौरान 5 साल के दो भाई-बहन ने इस महामारी को खत्म करने की दुआ करते हुए रोजा रखा है.

  • Share this:
रुड़की. इस्लाम धर्म (Islam Religion) में सबसे पवित्र माने जाने वाला रमजान (Ramdan) का महीना चल रहा है. इस दौरान पूरी दुनिया कोरोना (Corona) जैसी खतरनाक महामारी से लड़ रहा है. लेकिन इस समय उत्तराखंड (Uttrakhand) के रुड़की (Roorkee) में रहने वाले 5 साल के दो भाई-बहन ने इस महामारी को खत्म करने की दुआ करते हुए रोजा रखा है. यहां के देव इंक्लेव डिफेंस कॉलोनी में रहने वाले ये दोनों भाई-बहन कोरोना महामारी के खत्म होने की प्रार्थना कर रहे हैं. शायना और रयान नाम के इन छोटे बच्चों का कहना कि उन्होंने अपने मर्जी से रोजा रखा है. इन बच्चों की मां मीडिया से बातचीत में कहती है कि इस उम्र के बच्चें खाने-पीने और खेलकूद में व्यस्त रहते हैं. लेकिन हमारे दोनों बच्चों ने रोजा रखकर नसीहत पेश की है.

देश के कई हिस्सों में 25 अप्रैल से रमजान के महीने की हुई शुरुआत
रमज़ान के पाक महीने की शुरुआत 23 अप्रैल शाम को कर्नाटक में चांद का दीदार हुई. केरल, कर्नाटक में शुक्रवार को रोजे का पहला दिन होगा. चांद दिखने के बाद 24 अप्रैल से रोजे की शुरुआत हो गई थी. देश के कई हिस्सों में 25 अप्रैल से माहे रमजान शुरू हुआ. बता दें, सऊदी अरब में भारत से एक दिन पहले रमजान शुरू होते हैं. इसके अलावा वहां ईद एक दिन पहले ही मनाई जाती है. वहीं दक्षिण भारत के कुछ राज्यों में सऊदी के साथ ही रमजान शुरू होते हैं. जबकि भारत के बाकी राज्यों में एक दिन बाद रमजान और ईद मनाई जाती है.

लॉकडाउन में रमजान मनाने का बताया गया तरीका
देश में इस बार का रमजान महीना लॉकडाउन के दौरान पड़ा है. इस दौरान इस्लामिक धर्म गुरुओं और संगठनों में फतवा जारी कर लोगों को लॉकडाउन में रमजान में रोजे रखने और इबादत करने का तरीका भी बताया है. साथ ही अपने अपने घरों में रहकर इबादत करने की सलाह दी गई है. बता दें, इन दिनों मस्जिद के अंदर केवल 5 लोगों को नमाज पढ़ने की अनुमति मिली हुई. ताकि कम लोग इकट्ठा हों और कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोका जा सके.



ये भी पढ़ें: 



नैनीतालः दंपति ने निकाली लॉकडाउन में रोजगार बचाने की राह, जानें क्या है आइडिया

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज