कारगिल विजय दिवसः घायल होने के बाद कैप्टन दिगंबर ने जवानों से कहा- आगे बढ़ो... और फिर हुआ यह

पूर्व कैप्टन दिगम्बर सिंह नेगी कहते हैं कि वह भारतीय सेना के हौसले को सलाम करते हैं इसीलिए उन्होंने अपने बेटे को फ़ौज में जाने प्रेरणा दी.

Manoj Juyal | News18 Uttarakhand
Updated: July 26, 2019, 2:27 PM IST
कारगिल विजय दिवसः घायल होने के बाद कैप्टन दिगंबर ने जवानों से कहा- आगे बढ़ो... और फिर हुआ यह
कारगिल की ऐतिहासिक विजय को 20 साल बीच चुके हैं लेकिन उस युद्ध में शामिल रहे वीर जवानों को आज भी वह घटनाक्रम बीते दिन की तरह याद है.
Manoj Juyal | News18 Uttarakhand
Updated: July 26, 2019, 2:27 PM IST
26 जुलाई 1999 को भारतीय सेना ने कारगिल की चोटी पर झंडा फहराया था. इस ऐतिहासिक विजय को 20 साल बीच चुके हैं लेकिन उस युद्ध में शामिल रहे वीन जवानों को आज भी वह घटनाक्रम बीते दिन की तरह याद है. रुड़की के शिवाजी नगर में रहने वाले 18वीं गढ़वाल राइफल्स के पूर्व कैप्टन दिगम्बर सिंह नेगी भी कारगिल युद्ध में शामिल थे. उस दौरान के रोमांच, खतरे, साथियों की शहादत को याद करते हुए वह रोमांच से भर जाते हैं. नेगी ने न्यूज़ 18 से कारगिल युद्ध की अपनी बातें साझा कीं.

देश सेवा के जज़्बे से मिली जीत 

नेगी कहते हैं कि कारगिल युद्ध एक बड़ी चुनौती थी क्योंकि भारतीय सेना को नीचे से ऊपर चढ़ना था जो बहुत मुश्किल भरा काम होता है. लेकिन देश सेवा की भावना से ओत-प्रोत जवानों ने हार नहीं मानी और रात दिन चलते रहे जिससे कारगिल की लड़ाई में भारत ने जीत हासिल की.

capt digumber singh negi, kargil war hero 2, पूर्व कैप्टन दिगम्बर सिंह का कहना है वह भारतीय सेना के हौसले को सलाम करते हैं इसीलिए उन्होंने अपने बेटे को फ़ौज में जाने प्रेणा दी.
पूर्व कैप्टन दिगम्बर सिंह का कहना है वह भारतीय सेना के हौसले को सलाम करते हैं इसीलिए उन्होंने अपने बेटे को फ़ौज में जाने प्रेणा दी.


पूर्व कैप्टन दिगंबर सिंह नेगी कहते हैं कि देश की सेवा करने का जज्बा अगर मन में हो तो सिर्फ़ जीत ही दिखाई देती है, इसलिए हमारी बटालियन ने जमकर दुश्मनों का सामना किया और टाइगर हिल तक पहुंचे.

बेटे को दी फौज में जाने की प्रेरणा 

दिगम्बर सिंह कारगिल की लड़ाई में घायल भी हो गए थे. एक बम उनके सिर के ऊपर से होता हुआ गुज़रा और उसके फटने से उनके पैर पर चोट लग गई. लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और जवानों से आगे बढ़ने को कहा. वह कहते हैं कि कारगिल विजय पर उन्हें अपने जवानों पर गर्व है.
Loading...

पूर्व कैप्टन दिगम्बर सिंह का कहना है वह भारतीय सेना के हौसले को सलाम करते हैं इसीलिए उन्होंने अपने बेटे को फ़ौज में जाने प्रेरणा दी. कारगिल दिवस पर उन्होंने शहीद जवानों को याद करते हुए जवानों को बधाई दी.

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.  

कारगिल विजय दिवस: अमर हो गई उत्तराखंड के इन 75 सपूतों की वीरगाथाएं

कारगिल विजय दिवस पर चंपावत में मैराथन... शहीदों को सलाम कर छात्रों ने खाई यह कसम
First published: July 26, 2019, 1:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...