हरिद्वार कुंभ 2021: एक समय में 1 लाख श्रद्धालु ही लगा पाएंगे गंगा में डुबकी, कराना होगा रजिस्ट्रेशन

कुम्भ में पोर्टल के जरिये रजिस्ट्रेशन के बाद ही मेले में आने की अनुमति मिलेगी. (फाइल फोटो)
कुम्भ में पोर्टल के जरिये रजिस्ट्रेशन के बाद ही मेले में आने की अनुमति मिलेगी. (फाइल फोटो)

हरिद्वार महाकुंभ (Haridwar Mahakumbh) इस बार 12 साल बाद नहीं 11 साल पर होगा. हरिद्वार महाकुंभ 2021 का पहला शाही स्नान गुरुवार (11 मार्च) को महाशिवरात्रि के दिन होगा.

  • Share this:
हरिद्वार. हरिद्वार (Haridwar) में साल 2021 में लगने वाला माहकुंभ (Mahakumbh 2021) मेले की तैयारियां तेजी से चलने लगी हैं. यह पहली बार होगा कि कुम्भ में पोर्टल के जरिये रजिस्ट्रेशन के बाद ही मेले में आने की अनुमति मिलेगी. एक जनवरी से लगने वाले इस महाकुंभ में पहला स्नान 14 जनवरी से शुरू होगा, जो 30 अप्रैल तक चलेगा. आम तौर पर महाकुम्भ में एक बार में 6 लाख से अधिक श्रद्धालु गंगा (Ganges) में डुबकी लगाते थे, लेकिन कोरोना महामारी को देखते हुए पहली बार पोर्टल के जरिये केवल 1 लाख लोग ही एक समय मे स्नान कर सकेंगे. इसके लिये प्रशासन ने 107 घाटों को तैयार किया है, जिसका क्षेत्रफल करीब 1 लाख 97 हजार स्क्वायर फिट है.

वहीं, आईजी कुम्भ संजय गुंजियाल का कहना है कि सोशल डिस्टेंसिंग के चलते केंद्र सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार एक मीटर तक की दूरी बनाए रखने के लिए 1 लाख लोगों को अनुमति मिलेगी. जिनको कुम्भ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करना पड़ेगा. जानकारी के मुताबिक, जिस तेजी के साथ उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण फैल रहा है, उसे देखते हुए राज्य सरकार ने 2021 में लगने वाले कुंभ मेले में श्रद्धालुओं की तादाद को सीमित करने के लिए ई-पास जारी करने का ऐलान किया है.

भविष्य का व्यवसाय भी बुरी तरह प्रभावित होगा
वहीं, कुंभ मेला इस बार कोरोना की भेंट चढ़ सकता है. हरिद्वार के दुकानदार, होटल व्यवसाई ,ट्रैवल्स एजेंसियां और पंडे- पुजारी हर 12 साल में पड़ने वाले कुंभ मेले का इंतजार करते हैं, क्योंकि कुंभ मेले में होने वाली आमदनी से उनकी कई सालों की रोजी-रोटी चलती है. और इस बार पहले से ही कोरोना के कारण उनका व्यापार ठप है. अब कुंभ मेले पर भी कोरोना संकट के कारण बादल मंडराने लगे हैं. उससे इन व्यापारियों का भविष्य का व्यवसाय भी बुरी तरह प्रभावित होगा.
इस बार 12 साल बाद नहीं 11 साल पर लग रहा है महाकुंभ


हरिद्वार महाकुंभ इस बार 12 साल बाद नहीं 11 साल पर होगा. हरिद्वार महाकुंभ 2021 का पहला शाही स्नान गुरुवार (11 मार्च) को महाशिवरात्रि के दिन होगा. साथ ही अंतिम शाही स्नान मंगलवार (27 अप्रैल) चैत्र पूर्णिमा के दिन होगा. श्री गंगासभा के अध्यक्ष पंडित प्रदीप कुमार झा एवं महामंत्री पंडित तन्मय वशिष्ठ के अनुसार, हरिद्वार कुंभ 2021 के शाही स्नान और प्रमुख स्नान की तारीखें घोषित कर दी गई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज